Link copied!
Sign in / Sign up
92
Shares

(video)कैसे करें शिशु की सही मालिश - सही शारीरिक विकास और आकर के लिए -

 

माता पिता बनने के साथ साथ आतीं है ज़िम्मेदारियाँ - बच्चे के पालन पोषण से लेकर उसके विकास और वृद्धि में प्रमुख रोल अदा करने की | बच्चे के बढ़ते दिनों के ये हसीन लम्हें माता पिता के लिए यादगार होते हैं और जीवन काल के लिए वह इन्हें संजोते हैं | माँ बाप के लिए बच्चों का पालन पोषण केवल उन्हें खिलाने तक सीमित नहीं होता है बल्कि

उनसे जुडी बहुत सी गतिविधियों को ठीक से निभाने में भी होता है |

बच्चों को ठीक तरह से मालिश करना ऐसे ही एहम कार्यों में से एक है | सही क्रम से मालिश करना अपने आप में एक कला है | मालिश करने तरीका और इससे जुड़े वैज्ञानिक तथ्यों को अपनाने से बच्चों के बढ़ते विकास और सेहत पर सकारात्मक असर पड़ता है | इस बात को दुनिया भर में स्वीकार किया गया है |

एक नयी माँ के लिए अपने बच्चे से जुड़े हज़ारों सवाल मन में घर कर जाते है , मालिश करने के सही तकनीकों को लेकर ऐसे सवाल पैदा होना सहज है | मालिश के लिए कौन से तेल का इस्तेमाल सही होगा , सही तकनीक कौन सी है, कितनी अवधि के लिए मालिश करनी चाहिए, क्या करें और क्या नहीं करें - ऐसे हज़ारों सवाल हर नयी माँ के मन में जवाब खोजते रहते हैं | ये सहज बात भी है | एक बात हमेशा याद रखें कि बच्चों को मालिश करना उनके बढ़ते क्रम में सहायक होने के लिया किया जाता है | इस एहम कार्य को मनोरंजक गतिविधियों से ना जोड़कर ‘इससे जुडी नाज़ुकता को पहचाने |

नवजात शिशुों से लेकर क्रॉलिंग का रहे बच्चों के लिए भी मालिश अत्यावश्यक है |तकनीक और अवधि, उम्र के हिसाब से अलग होते है | एक नवजात शिशु दिन के अधिकांश भाग में सोता रहता है, इसीलिए स्नान से पहले हल्की मालिश उसके लिए काफ़ी होता है | नवजात शिशु बहुत ही नाज़ुक होते है , इसीलिए हल्के खुशबूदार और कोमल तेलों का ही इस्तेमाल करें | मार्केट में ऐसे तेल खरीदने के लिए हज़ारों ब्रैंड्स आपके हाथ लग जायेंगे, सही चुनाव करना आवश्यक है या घर पर तैयार किया तेल आज़माये | किसी मोटे से तौलिये पर बच्चे को लेटाकर मालिश करें | दोनों पैरों को फैला कर बच्चे को कोमलता से लिपटाकर मालिश करें | यू ट्यूब पर बच्चों मालिश से जुड़े हज़ारों वीडियो उपलब्ध है , जिनसे आप आसानी से सीख सकते है |

एक नवजात शिशु के लिए बहुत ही नाज़ुक गतियाँ, जैसे हाथों और पैरों पर हल्के से मालिश और उँगलियों को कोमलता से बाहर खींचना काफ़ी होती है | बच्चे आपके गोद से बाहर कदम रखने तक इसी गति से मालिश जारी रखें | इसके साथ नरम गति से उनके छाती और पीट पर रगड़ना ना भूलें |

बच्चे बड़े होते ही आप उन्हें मालिश करने के लिए अलग तरीकों को अपना सकते हैं | मालिश करते समय बच्चे को प्यार से छाती पर लगाना , उनसे हँसकर बातचीत करना, उन्हें आलिंगन करना, आदि से अपनी ममता और प्रेम जताना ना भूलें, इससे आपके बच्चे बेहद खुश नज़र आयेंगे | अब पैरों के मालिश से शुरू करके इस प्रक्रिया को पूरे विश्लेषण के साथ जानने की कोशिश करते है :-

 

१. पैरों के मालिश

हाथ में थोडी सा तेल लें और बच्चे के जांघ से शुरू करते हुए उनके पैरों तक पहुँचे , इसके लिए दूध दुहने की गति को अपनाए |

२. तलवों के मालिश

अपने अंगूठे से इस जगह पर गोलाकार गति से मालिश करें |

 

३. पैर के उंगलियों के मालिश

बच्चे के पैर के हर उंगली को हल्के से बाहर की तरफ़ खींचे , इस गति को तब तक जारी रखें जब तक उंगलियाँ आपके हाथ से फिसल ना जाए |

४. हाथों के मालिश

पैरों के जैसे ही हाथों की भी मालिश करें | बाँहों से शुरू करते हुए नीचे की तरफ धीमी गति से बढे |

 

५. कलाईयों के मालिश

कलाईयों को गोलाकार गति में घुमाते हुए मालिश करें |

६. हाथों के उंगलियों के मालिश

धीमे गति से हर उंगली को हल्के से बाहर की तरफ़ खींचे , इस गति को तब तक जारी रखें जब तक उंगलियाँ आपके हाथ से फिसल ना जाए |

 

७. छाती पर मालिश

अपनी दोनों हथेलियों से छाती पर बाहर की तरफ़ मालिश करें |

८. पेट की मालिश

अपने हथेलियों से पेट को कोमलता से मालिश करें |

 

९. पीठ की मालिश

बच्चे को उसके पेट पर आराम से सुलायें | रीढ़ की हड्डी के पास बाहर की तरफ़ हथेलियों से मालिश करें | इसके साथ पीठ पर ऊपर और नीचे की तरफ भी अच्छे से मालिश करना ना भूलें |

१०. नितंबों के मालिश

नितंबों पर कोमलता से दबाव डालते हुए तेल को आराम से फैलाते हुए मालिश करें |

 

११. चेहरे की मालिश

बहुत ही कोमलता के साथ तेल को गालों पर, ठोड़ी पर, नाक पर और माथे पर फैला कर मालिश करें | आपको सावधान रहना पड़ेगा कि तेल कहीं आपके बच्चों के आँखों में , नथनों में या मुँह में चला ना जाए | साथ ही तेल को कानों में घुसने से बचाए |

१२. सर पर मालिश

अपनी उंगलियों को अच्छी तरह इस्तेमाल करके अपने बच्चे को धीमे गति से और कोमलता के साथ मालिश करें |

हमें एक बात पर अवश्य ध्यान देना चाहिए कि मालिश करने से हम अपने बच्चे को बलवान बनाने की कोशिश कर रहें है | इसके साथ उसकी हड्डियों को मज़बूत बनाने में और एक सुखदायक और आरामदायक अनुभव भी उसे दे रहें है | खाने के पहले या बाद में बच्चे को मालिश ना करें , जब बच्चा निद्रालु महसूस करता हो, तब भी मालिश ना करें , ये सारी बातें अवश्य ध्यान में रखें |

अंत में हम यही कहना चाहेंगे की इस पूरे अनुभव को आप और आपके बच्चे पूरी तरह से आनंद लेने की कोशिश करें |

जानना बहुत ज़रूरी है - अक्सर लोग शिशु की गलत मालिश करते हैं ज्ञान की कमी के कारण। आप उन शिशुओं के लिए यह शेयर करें - 

हेलो मॉम्स,

हम आपके लिए एक अच्छी खबर ले कर आये हैं।

Tinystep आपके और आपके बच्चों क लिए प्राकृतिक तत्वों से बना फ्लोर क्लीनर ले कर आया है! क्या आपको पता है मार्किट में मिलने वाले केमिकल फ्लोर क्लीनर आपके बच्चे के लिए हानिकारक है?

Tinystep का प्राकृतिक फ्लोर क्लीनर आपको और आपके बच्चों को कीटाणुओं और हानिकारक केमिकलों से दूर रखेगा। आज ही आर्डर करें - http://bit.ly/naturalfc

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon