Link copied!
Sign in / Sign up
12
Shares

स्तनपान के दौरान कुछ ज़रूरी सावधानियां: क्या करें और क्या न करें


शिशु के जन्म पश्चात माँ की जिम्मेदारियां और अधिक बढ़ जाती है। नन्हे मेहमान की खातिरदारी में माँ को शिशु को अपने स्तन का पौष्टिक दूध पिलाना पड़ता है। दूध पिलाने की प्रक्रिया को स्तनपान या ब्रेस्‍टफीडिंग कहा जाता है। ध्यान देने योग्य बात यह है कि ब्रेस्‍टफीडिंग करने के पहले और बाद में हमें कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए।

कई महिलाएं अपने फिगर को बनाए रखने के लिए बच्चे को स्तनपान कराने से घबराती है। इससे उन्हें लगता है कि लगातार स्तनपान कराते रहने से स्तन का शेप बिगड़ सकता है। लेकिन यदि आप इन बातों को ध्यान पर ऱखते हुए बच्चे को फीड करायेगीं तो आपको किसी भी प्रकार की समस्या से नही गुजरना होगा।

6 मुख्य बातों पर ध्यान दें:

1. बच्चे के पैदा हो जाने के बाद आप के स्तन काफी भारी हो जाते है। इन दिनों आपको बहुत टाइट ब्रा पहनने से बचना चाहिए। यदि आप टाइट ब्रा पहनती है तो बच्चे को दूध पिलाने में परेशानी हो सकती है। और आपके स्तनों पर दूध का जमाव बढ़ सकता है जो बाद में एक गांठ का रूप ले लेता है। इसके अलावा पसीने की वजह से खुजली भी बढ़ने लगती है। इस प्रकार की समस्या को दूर करने के लिए आप आरामदेय ढीली ब्रा पहनें।

2. बच्चे को दूध पिलाने के बाद ब्रेस्ट को बेबी वाइप से पोंछना चाहिये। इसके अलावा ब्रेस्ट को नारियल तेल, बेबी लोशन से मसाज करने से वह ढीले नहीं पड़ेगे। आपके ब्रेस्ट पर लगा हुआ बच्चे का थूक या फिर दूध भी फायदेमंद हो सकता है। इनसे भी मालिश कर सकती हैं, यह जर्म फ्री और प्राकृतिक होते है।

3. यदि आपके स्तन पर बच्चे के काटने से किसी प्रकार की चोट लग जाती है। या जलन और खुजली बढने लगती है तो उस दौरान आप अपने निप्पलों में घी लगा लें। इससे आपको काफी राहत मिलेगी।

4. जब भी आप बच्चे को फीड करा रहे होते है तो इन दिनों सफाई पर विशेष रूप से ध्यान दें जिससे किसी प्रकार का सक्रंमण ना हो सके।

5. स्तनपान कराते समय इस बात का ध्यान जरूर दें कि आपका बच्चा जब 6 महीने का हो जाता है तो उसके दांत भी निकलने लगते है। और अक्सर वो दूध पीते वक्त दातों से काटता है भी इससे आपके स्तन पर भी असर पड़ सकता है इसके लिए जरूरी है कि आप अपने बच्चे को ऐसा करने से मना करें और सही से दूध पीलाना सिखाएं। और अपने स्तनों पर शहद भी लगा ले इससे बच्चा सही तरह से फीड करेगा।

6. लगातार स्तनपान कराते रहने से कही आपके ब्रेस्ट आकार बदल जाते है और वो ढीले हो जाते है तो इसके लिए आपको घबराने की आवश्कता नही है इसके लिए आप फेसमास्क लगाएं और तब तक इसे लगाए रखें जब तक कि यह सूख ना जाए। और जब वह सूख जाए तब निकाल दीजिये। ध्यान रहे की निप्पल पर यह मास्क न लगाएं। इन दिनों आप ढीले कपड़ों का प्रयोग करें जो आपके शेप को बनाए रखने के लिए जरूरी है।

बच्चे के लिये माँ का दूध सर्वश्रेष्ठ आहार माना जाता है क्योकि मां का दूध बच्चे को अनेक बीमारियों से बचाता है। स्तनपान कराते रहने से महिला में स्तन से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा काफी कम हो जाता है और साथ ही स्तन का शेप आगे चलकर अपने पुराने आकार में आ जाता है। और बच्चे को कई पौष्टिक तत्व भी मां के दूध से प्राप्त हो जाते है।

तो आप इन बातों का पालन करें और इस पोस्ट को शेयर करें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon