Link copied!
Sign in / Sign up
5
Shares

स्तन का दूध हाथ से निकालने से हो सकते हैं शिशु को अद्बुध्ह फ़ायदे- जानिये


लम्बे इंतजार के बाद, आपका नन्हा मुन्ना आखिरकार आपकी बांहों में है। और आप जितना ज्यादा आप उत्साहित होंगी। आपका मुस्कुराना बंद नहीं हो रहा है और निश्चित रूप से एक चीज़ आप पूरे उत्साह के साथ सीख रही होंगी,‌ वह है अपने शिशु को स्तनपान कराने की कला।

अपने शिशु को पहले छह महीने तक सिर्फ स्तन का दूध पिलाने का सुझाव आपको दिया गया होगा। शुरुआत में आप प्राकृतिक रूप से दूध पिला रही होगी, लेकिन यह सीखना भी अच्छा विचार है की स्तनो का दूध कैसे निकाला जाता है।

हाथ से स्तनो का दूध निकालना :

स्तनो का दूध हाथ से निकालना ऐसे कौशल में से एक है,जो आपको आना चाहिए। यह सीखना उतना ही आवश्यक है जितना की नवजात शिशु के साथ रहने के लिए नैपी बदलना सीखना।

हो सकता है आपको लगे की आप उन्हें सिर्फ त्वचा से त्वचा‌ मिलाकर ही दूध पिलाएंगी, हो सकता है आप ऐसी स्थिति का सामना करे जहां आपको शुरुआत के पहले छह महीनों में अपने शिशु को बोतल से दूध पिलाना पड़े।

साथ ही ऐसी स्थिति भी हो सकती है, जहां आपको शिशु को किसी और के साथ छोड़ना पड़े। इस‌ तरह के मामलों में, यह हमेशा बेहतर विचार होगा की आप अपना दूध निकाल लें और उसे शिशु के लिए रख दें।

हाथ से स्तन का दूध निकालने के फायदे :

हाथ से स्तन का दूध निकालने के कई फायदे हैं।

यह महँगा नहीं है।

इसमें कम मेहनत लगती है।

यह आपको स्ट्रेलाइजिंग पंम्पिंग उपकरण में प्रयास करने से बचाता है।

यह बहुत सुविधाजनक है क्योंकि जहां भी आप सफर करेंगें, आपको भारी ब्रेस्ट पम्प ढोने की जरूरत नहीं होगी।

इसमें बिजली की जरूरत नहीं होती है।

यह इलेक्ट्रिक पम्प से होनी वाली असहजता और सकिंग सेन्सेशन को कम करता है।

त्वचा से त्वचा के सम्पर्क से वृद्धि होती है और यह दूध के प्रवाह को बढ़ाता है।।

हाथ से तेजी से दूध निकालने की प्रक्रिया:

इससे पहले की आप हाथ से स्तनों का दूध निकालने की वास्तविक प्रक्रिया को जाने,यह आवश्यक है की आप कुछ बातों को अपने दिमाग में रखें। इससे स्तन के दूध को आसानी से निकालने और साथ ही कम प्रयास के साथ दूध की मात्रा को बढ़ाने और यह करते समय बचाने में मदद मिलती है।

स्तनो में दूध का उत्पादन दूध बनाने वाली कोशिकाओं में होता है जिसे एल्वेओली कहा जाता है। जब एल्वेओली उत्तेजित होता है,तो यह दूध को दूध नलिकाओं द्वारा बाहर निकालते हैं,इसे मिल्क इस रिफ्लेक्स कहा जाता है।

दूध को निकालने का असरदार तरीका इस प्रकार है:

मालिश - स्तनो में दूध का उत्पादन करने वाली कोशिकाओं को देखें और उनकी मालिश करें।स्तन के ऊपरी हिस्से से शुरुआत करते हुए, धीरे धीरे अपनी उंगलियों को गोल घुमाएं। एक हिस्से से उंगली हटाकर, उसे कुछ सेकंड के लिए दूसरे हिस्से पर रखें। ऊपर के हिस्से से नीचे की ओर लगातार मालिश करते रहे। इसमें गति और दबाव समान होना चाहिए।

स्ट्रोक - स्तनो को स्ट्रोक करें जैसे छाती को निप्पल से लगाना। इससे आपको आराम मिलेगा और दूध का उत्पादन बढ़ेगा।

शेक - आगे की ओर झुककर, सौम्यता से स्तनो को हिलाएं। गुरूत्वाकर्षण से दूध निकलने में मदद मिलेगी।

हम आशा करते हैं की इस लेख से आपको स्तनो का दूध हाथ से निकालने के विचार में मदद मिलेगी। हम उम्मीद करते हैं की आपका अनुभव अच्छा हो और आप चर्म तक मातृत्व का आनंद लें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon