Link copied!
Sign in / Sign up
0
Shares

जिस 'शोले' के गब्बर से बच्चा-बच्चा कांपता था, वो गब्बर क्यों था डरा हुआ- जानिए कुछ दिलचस्प बातें


'कितने आदमी थे' ये डायलॉग तो आज भी हर किसी के जुबां पर चढ़ा हुआ है, आज भी 'शोले' बॉलीवुड के उन क्लासिक फिल्मों में से है जो लोगों को अपने ओर आकर्षित करती है। 'जय-वीरू' की दोस्ती, गब्बर का खौफ, राधा की सादगी, बसंती का चुलबुला अंदाज़ और 'ठाकुर का बदला', तो हर किसी को याद होगा लेकिन लोगों को जो पता नहीं है वो है इस फिल्म की कुछ अनकही बातें। आज इस ब्लॉग के ज़रिये हम 'शोले' फिल्म की कुछ बहुत महत्वपूर्ण और अनकही बातें आपको बताने जा रहे हैं जिसे जानकर चौंक जाएंगे आप।

1. ठाकुर बनना चाहते थे धर्मेंद्र

पहली बार जब बॉलीवुड के हि-मैन धर्मेंद्र ने 'शोले' की कहानी सुनी तो उन्हें 'ठाकुर' का किरदार बहुत ही दमदार लगा क्यूंकि पूरी कहानी ठाकुर और गब्बर के इर्द-गिर्द घूमती है। धर्मेंद्र को 'वीरू' का किरदार उतना दमदार नहीं लगा, ऐसे में रमेश सिप्पी ने एक चालाकी की, और उन्होंने ने धर्मेंद्र को कहा की ठाकुर को फिल्म में रोमांस करने का मौका ही नहीं मिलेगा लेकिन वीरू के हीरोइन जो की हेमा मालिनी थी उनका उनके साथ कई रोमांटिक सीन होंगे। ऐसा है तो वो वीरू का किरदार संजीव कुमार को दे देंगे और ख़बरों के मुताबिक संजीव कुमार भी हेमा मालिनी के ख़ूबसूरती के कायल थे। फिर क्या था यह सुनते ही धर्मेंद्र ने वीरू का किरदार ले लिया क्यूंकि वो भी हेमा मालिनी को पसंद करते थे।

2. अमज़द खान नहीं थे 'गब्बर' के लिए पहली पसंद

'गब्बर' के किरदार में जान डालने वाले अमज़द खान, नहीं थे डायरेक्टर रमेश सिप्पी की पहली पसंद। रमेश सिप्पी एक्टर डैनी को लेना चाहते थे लेकिन उनके पास इस फिल्म को करने का वक़्त नहीं था क्यूंकि उस वक़्त वो फिरोज खान की फिल्म ‘धर्मात्मा’ करने में व्यस्त थे। और फिर 'गब्बर' का दमदार किरदार गया अमज़द खान के पास।

3. खुद 'गब्बर' भी था डरा हुआ

सबको डराने वाले और 'गब्बर' के किरदार में जान डालने वाले अमज़द खान इस किरदार को निभाने से पहले बहुत नर्वस थे, उनको पहले ही शॉट में 40 रिटेक देने पड़ गए थे और साथ ही साथ उनकी आवाज़ भी लोगों को कुछ ख़ास पसंद नहीं आयी थी, यहां तक की उन्हें फिल्म से बाहर करने के बारे में विचार होने लगे थे।

4. 'गब्बर' था रियल किरदार

ख़बरों के मुताबिक 'गब्बर' कोई काल्पनिक किरदार नहीं था बल्कि एक असली डाकू था, जो पुलिस पर हमला करता और उसके नाक-कान काट देता।

5. धर्मेंद्र देते थे पैसे

धर्मेंद्र हेमा मालिनी पर फ़िदा थे और इसलिए वो जानबूझकर रोमांटिक सीन करते वक़्त गलतियां करते ताकि उनके सीन का रिटेक हो और इसके लिए वो कुछ यूनिट मेंबर्स को पैसे देते। इसका मकसद धर्मेंद्र का हेमा मालिनी के करीब आना और उनको संजीव कपूर से दूर रखना क्यूंकि उस वक़्त संजीव कपूर भी हेमा मालिनी के दीवाने थे।

6. तीन साल लग गए एक सीन को फिल्माने में

फिल्म का एक मशहूर सीन जिसमें जया बच्चन घर के पहली मंज़िल पर लालटेन जलाती और नीचे अमिताभ बच्चन माउथ ऑर्गन बजाते, इस सीन को शूट करने में तीन साल लग गए थे। रमेश सिप्पी को यह सीन परफेक्ट चाहिए था क्यूंकि जिस तरह की लाइट की ज़रूरत थी इस सीन में वैसी लाइट नहीं मिल पा रही थी और यही वजह थी की इस सीन को फिल्माने में इतना वक़्त लग गया।

7. अमिताभ बच्चन नहीं थे पहले जय

अमिताभ बच्चन ने 'जय' के किरदार में जान डाल दी थी लेकिन 'जय' के किरदार के लिए रमेश सिप्पी के पहले पसंद सत्रुघन सिन्हा थे। लेकिन धर्मेंद्र और सलीम-जावेद ने अमिताभ का नाम सुझाया।

8. जया बच्चन थी प्रेग्नेंट

'शोले' के शूटिंग के कुछ वक़्त पहले ही अमिताभ और जया की शादी हुई थी और इस फिल्म की शूटिंग के दौरान जया बच्चन प्रेग्नेंट थी। इस फिल्म को बनने में लगभग ढाई से तीन साल लगे और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि फिल्म के रिलीज़ के वक़्त जया अपने दूसरे बच्चे अभिषेक बच्चन की माँ बनने वाली थीं।

9. नहीं धुलते थे गब्बर के कपड़े

'गब्बर' के कॉस्ट्यूम यानी कपड़े को मुंबई के चोर बाज़ार से खरीदी गई थी और गब्बर को गंदे डाकू का लुक देने के लिए शूटिंग के दौरान एक बार भी उस वर्दी को धोया नहीं गया था।

10. 21 दिन लग गए इस गाने को फिल्माने में

'शोले' का मशहूर गाना 'ये दोस्ती हम नहीं तोड़ेंगे' गाने को फिल्माने में 21 दिन का वक़्त लग गया था।

ये थे 'शोले' के कुछ अनकहे किस्से, अगली बार फिर किसी बॉलीवुड की किसी सुपरहिट फिल्म की कुछ अनकही कहानियां हम आपके साथ शेयर करेंगे। 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon