Link copied!
Sign in / Sign up
324
Shares

गर्भ में शिशु की हलचल कब और कितनी बार होनी चाहिए?

 

आपको एक शंका होगी की आपके बच्चे का पहला हिलना-डुलना आप कब महसूस कर पाएंगी? आपको उसके नन्हे क़दमों की आहट सपने में तो आती ही होगी। अगर आपने अल्ट्रासाउंड स्कैन कराया हो तो आपको उसकी हरकत महसूस हुई होगी। चलिए शिशु के मूवमेंट के बारे में थोड़ा और समझें।

शिशु की पहली हरकत आपको 16वे से 22वे हफ्ते में पहली बार अनुभव होगी। हालांकि भ्रूण का गर्भ में हिलना डुलना तो 7वे- 8वे हफ्ते में ही शुरू हो जाता है पर यह उसके छोटे आकार के कारण मालूम नहीं पड़ता। अनुभवी माँओं को शिशु की पहली हरकत का जल्दी आभास हो जाता है। वे इसे पेट की गैस, डकार या अन्य आवाज़ों से अलग समझ जाती हैं। जो महिलाएं पहली बार गर्भ धारण करेंगी उन्हें शांत बैठने या लेटने पर शिशु की हरकत महसूस होगी। वैसे देखा यह भी गया है की दुबली माँयें शिशु की हरकत थोड़ा जल्दी महसूस कर लेती हैं। और उन्हें ऐसे अनुभव अक्सर होते हैं।

शिशु की शुरुवाती हलचल कैसी महसूस होती है?

 

औरतों ने अपने शिशु की पहली हलचल को पॉपकॉर्न के फूलने, छोटी मछली के तैरने या तितली के फड़फड़ाने जैसा बताया है। शुरू में महिलाओं को यह भूख या पेट दर्द की वजह से हो रहा है लगेगा लेकिन धीरे-धीरे वे शिशु के हाथ-पैर मारने और पेट दर्द/गैस में भेद समझने लगेंगी।

 

शिशु को गर्भ में कितनी बार हिलना चाहिए?

 

शुरू शुरू में शिशु की हरकत कम होगी और लम्बे अंतराल के बाद आयेगी। आपको एक दिन अधिक और अगले दिन कुछ भी नही महसूस होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि शिशु की लात में इतना दम नही है। दूसरी तिमाही तक शिशु की हलचल अक्सर और अधिक मालूम पड़ेगी।

 

क्या गर्भावस्था ख़त्म होने तक शिशु लात मारना कम कर देगा?

नहीं। आपका शिशु जितना बड़ा होता जायेगा उसे गर्भ में उतनी ही जगह की ज़रूरत पड़ेगी। उसे लात मारने के लिए कम जगह मिलेगी जिस कारण वह थोड़ा शांत हो सकता है परन्तु इसका मतलब यह नही की वह बिलकुल ही निष्क्रिय हो गया है। उसके बदन में सभी अंग सामान्य रूप से काम करेंगें।

क्या बच्चे की लात की संख्या या हरकत का हिसाब रखना पड़ता है?

जब आपको अक्सर शिशु की लात मालूम पड़ती है, तब आप डॉक्टर से मिलें। उनसे परामर्श करें। वह आपके शिशु के सामान्य या असामान्य बर्ताव को बेहतर समझ सकेंगे। वैसे शिशु की धीमी हरकतें किसी समस्या का संकेत हो सकती हैं। इसलिए आपको अल्ट्रासॉउन्ड करवा लेना चाहिए। तीसरी तिमाही तक डॉक्टर आपको शिशु की हकरत पर गौर करने के लिए सलाह देंगे।

 

उदाहरण के लिए चिकित्सक आपको पूछेंगे की आपका शिशु कब सर्वाधिक सक्रिय होता है? इस आधार पर वे आपको शिशु कितनी बार लात मारता है यह गिनने के लिए कह सकते हैं। इसके लिये आप शोर-शराबे से दूर जाकर बच्चे की गति-विधि पर धयान दें।

चिंता न करें अगर आपकी और आपकी सखी के अनुभव भिन्न हैं। हर महिला और उसका शिशु अलग होते हैं। उनका विकास अलग होता है। इसलिए सबकी कहानी ख़ास होती है। अपनी तुलना किसी और से न करें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
20%
Wow!
80%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon