Link copied!
Sign in / Sign up
8
Shares

शिशु गर्भ में हिचकी क्यों लेता है और माँ कैसा महसूस करती है ?

बहुत सी महिलाएं गर्भ में उनके होने वाले शिशु की हरकतों के बारे में सोचती होंगी। इनमें से एक मज़ेदार हरकत होती है शिशु का हिचकी लेना। कुछ शिशु गर्भ में कई बार हिचकी ले सकता है। इसके पीछे वजह यह है की उसे बीच बीच में आँखें खोलने का मन करता है। उसकी लम्बी नींद से उठने के लिए सक्रीय होने के लिए शिशु गर्भ में हिचकी लेता है।

विज्ञान गर्भ में पल रहे शिशु की हिचकी के बारे में क्या कहता है?

इस विषय पर अधिक खोज नहीं की गई है। परन्तु इसके पीछे यह कारण बताया गया है:

शिशु जब परिपक्व हो जाता है, तब उसका सेंट्रल नर्वस सिस्टम हिचकी उत्पन्न करने लगता है। शिशु amniotic fluid से पोषण ग्रहण करता है। इस दौरान शिशु के फेफड़ों में से amniotic fluid निकलता है। इस प्रक्रिया में शिशु हिचकी लेता है।

शिशु की माँ शिशु की हिचकी महसूस कर सकती है क्योंकि इस दौरान माँ के पेट में गुड़गुड़ सी महसूस होती है। इसके अतिरिक्त उसका पेट हल्का उठता है जिसे माँ महसूस कर सकती है।

शिशु की हिचकी लेने पर घबरायें नहीं। जिस प्रकार एक सामान्य इंसान हिचकी लेता है वैसे ही शिशु गर्भ में मनुष्य की तरह हिचकी लेता है। इसमें डॉक्टर को दिखने वाली कोई बात नही है।

जस्ट चिल :) खुश रहिये और मातृत्व के इस अनोखे पल को महसूस कीजिये।

अधिकतर महिलाएं शिशु की हिचकी गर्भावस्था में एक दो बार अवश्य महसूस करती हैं।

कुछ इसे शिशु की अन्य हरकतों से भेद कर लेती हैं। कुछ महिला नही समझ पाती है। परन्तु समय बीतते बीतते हर महिला समझ जाती है।

कुछ शिशु परिपक्व होने के बाद रोज़ाना हिचकी लेते हैं।

तो आप गर्भावस्था में कैसे मज़े ले रही हैं?

अपने अनुभव हमारे साथ कमेंट्स में शेयर करें। हम आशा करते हैं की आपकी आँखों का तारा सेहतमंद पैदा हो और ढेर सारी खुशियां लाये।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon