Link copied!
Sign in / Sign up
9
Shares

महिलाएं जान लें, आपको प्रेग्नेंट होने से रोकती हैं ये बातें


एक महिला के जीवन में मां बनना काफी महत्व रखता है। लेकिन पहले के समय के मुकाबले आज के समय में कई सारी महिलाओं के मां बनने में काफी सारी समस्याएं आने लगी हैं। कारण साफ है बदलती हुई जीवनशैली।

आज की बदलती हुई जीवनशैली ना सिर्फ उनकी आम सेहत पर असर डालती है बल्कि इससे उनके हार्मोन्स में भी काफी बदलाव आते हैं जिसके चलते कई सारी महिलाएं मां बनने के सुख से वंचित रह जाती हैं। हार्मोनल बदलाव के चलते वो तमाम कोशिशों के भी गर्भधारण नहीं कर पातीं।

अगर आप भी लगातार मां बनने की प्लानिंग कर रही हैं और कंसीव नहीं कर पा रही हैं तो आप भी जानिए इन कारणों को जो आपको मां बनने में रुकावट पैदा करते हैं...

एन्डोमेट्रीओसिस

बहुत सी महिलाओं में कई बार एन्डोमेट्रीओसिस के कारण भी कंसीव करने में समस्या आती है। इसमें एंडोमेट्रियल की दीवारें गर्भाशय के बाहर की तरफ बढ़ने लगती हैं, जबकि सामान्यत: यह अंदर की तरफ विकसित होती है। ऐसा होने से मासिक धर्म के दौरान भी काफी दर्द होता है।

पीसीओ

 

  इसमें अंडाशय में होने वाले तरल पदार्थ से भरे सिस्ट आपके हार्मोनल संतुलन को बिगाड़ सकता है और इस कारण अनओवल्यूशन का खतरा बना रहता है, जिस कारण गर्भधारण करने में समस्याएं आती हैं।

थायराइड भी एक वजह

  बहुत सी महिलाओं को थायरॉयड की समस्या झेलनी पड़ती है जिससे उनकी फर्टिलिटी प्रभावित होती है। इसलिए आप बच्चे की प्लानिंग कर रही हैं तो थायरॉयड की जांच ज़रूर कराएं। 

पेल्विक इन्फ्लैमटोरी डिसीज़

आपको बता दें कि यह यौन संचारित बीमारियों से होने वाले संक्रमण के कारण होता है। यह महिला के प्रजनन अंगों पर प्रभाव डाल सकते हैं। अगर आपको सेक्स या पेशाब के समय दर्द, खुजली और जलन होता है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और जांच कराएं।

दवाइयों के सेवन से

 आपको बताते चलें कि बाज़ार में काफी सारी ऐसी कई दवाइयां मौजूद हैं जिनसे महिलाओं की फर्टिलिटी पर असर पड़ता है। खासतौर पर गर्भनिरोधक गोलियों का ज्यादा इस्तेमाल प्रजनन क्षमता पर असर डालता है। इन दवाइयों के कारण बांझपन के होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए आप कोशिश करें कि इन दवाइयों का कम से कम ही इस्तेमाल करें। 

आयु

इसके अलावा डिंब की खराब क्वालिटी और अनियमित डिंबोत्सर्जन, हॉर्मोन की कमी, अनियमित पीरियड्स जैसी समस्‍याओं के चलते महिलाओं को कंसीव करने में परेशानी होती है।  ये सभी परेशानियां ज्यादातर उम्र से संबंधित होती हैं, खासकर की डिंब की घटती क्वालिटी। गर्भधारण में उम्र बड़ी भूमिका निभाती है। इसलिए डॉक्टर महिलाओं को समय पर गर्भधारण करने की सलाह देते हैं।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon