Link copied!
Sign in / Sign up
45
Shares

प्रेग्नेंसी के पांचवें महीने की स्कैनिंग के बारे में आपको कुछ बातें पता होनी चाहिए

  गर्भावस्था के पांचवीं महीने में महिला के शरीर में तेजी से बदलाव होते हैं। यह वह समय है जब आपका नन्हें मुन्ना गर्भ में किक करना शुरू कर देता है। और बिल्कुल यह शिशु से नियमित रूप से बात शुरू करने का समय होता है, क्योंकि आपका शिशु इसकी प्रतिक्रिया गतिविधि के साथ देता है। इस समय पेट का आकार सभी महिलाओं में भिन्न भिन्न होता है। लेकिन अधिकतर, कुछ महत्वपूर्ण बातें एक समान होती है।

अस्पताल जाने की बात करें, तो पांचवें महीने में डाक्टर के साथ आपकी ज़रूरी मीटिंग होगी। और यह आपके द्वितीय तिमाही के स्कैन के लिए होगा। इन स्कैन को “एनोमेली स्कैन” कहा जाता है, कुछ “मोरफोलोजी स्कैन” या “ 20 विक स्कैन” भी कहते हैं। यह आमतौर पर 18-20 हफ्तों के बीच होता है। अगर आप अपने आप को स्कैन के लिए तैयार कर रही है और सोच रही है की क्या होगा, तो यह लेख आपके लिए है।

अपने आप को स्कैन के लिए कैसे तैयार करें?

  एनोमेली स्कैन के लिए किसी अलग तैयारी की जरूरत नहीं है। सिर्फ इस बात का ध्यान रखें की आप शांत हो और अपने एपोंइटमेंट से पंद्रह मिनट पहले अस्पताल पहुंचे, ताकि आपको जल्दबाजी ना हो।

स्कैन कराने के लिए, आपका ब्लैडर पहले तिमाही की तरह भरा नहीं होना चाहिए। इसलिए आपको उसपर ध्यान देने की जरूरत नहीं है। एक चीज़ जो आपको पता होना चाहिए की अन्य स्कैनो से अलग इसमें आपको ज्यादा समय लग सकता है, 45 मिनट या उससे ज्यादा अगर शिशु सहयोग दे रहा है।

एनोमेली स्कैन के दौरान कौन सी जांच की जाती है?

  यह स्कैन शिशु में विस्तार से असामान्यताएं जांचने के लिए किया जाता है। इस मामले में असामान्यता मुख्यता शरीर के विकास में किसी भी तरह की विकृति का उल्लेख करती है। जिन स्थितियों की जांच की जाती है, उसकी सूची नीचे दी गई है। इनमें से अधिकतर स्थितियां सामान्य नहीं हैं। यह सिर्फ दी जाने वाली जानकारी है की एनोमली स्कैन के दौरान डॉक्टरों द्वारा क्या जांच की जाती है।

ओपन स्पाइन बिफिडा

यह विसंगति रीढ़ की हड्डी में होती है। इसे अमूमन 'ओपन न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट’ कहा जाता है। यह 10,000 जन्मों में से 6 में होता है। स्कैन के दौरान इस समस्या का पता आसानी से स्क्रीन पर लगाया जा सकता है।

क्लेफ्ट होंठ

यह एक जानी-मानी समस्या है। यह होंठों के गठन से संबंधी विकार हैं। होंठ विभाजित पाया जाता है। यह 10,000 जन्मों में से 10 में होता है।

ऐनासाफैली

यह न्यूरल ट्यूब्स डिफेक्ट का एक प्रकार है। यह खोपड़ी की हड्डियों में विकृति के परिणामस्वरूप होता है, जिसके कारण विकास के दौरान के चरण के दौरान मस्तिष्क गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो जाता है। यह 10,000 जन्मों में से 6 में होता है।

डायाफ्रामिक हर्निया

फेफड़ों के डायाफ्राम को होने वाली क्षति को डायाफ्रामिक हर्निया कहा जाता है। इससे जन्म के बाद श्वास लेने में समस्याएं आती है। इस समस्या की संभावना 10,000 में से चार होती है।

गैस्ट्रोकाइसिस और एक्सोम्फोल्स

यह एब्डोमिनल वाल में होने वाला विकार है। इससे शिशु के जन्म के बाद भोजन खिलाने में समस्या उत्पन्न होती है। यह 10,000 में से पांच में पाया जाता है।

जन्मजात हृदय रोग

यह हृदय से संबंधित समस्या है, यह तीन प्रकार का हो सकता है - दिल की संरचना के साथ, हृदय के कार्य के साथ या हृदय की लय के साथ। गंभीर जन्मजात हृदय रोग 10,000 जन्मों में से 35 को होता है।

बिलेट्रल रीनल एजेंनेसिस

इस स्थिति में किडनी की अनुपस्थिति होती है। ऐसे मामलों में, बहुत कम या एमिनोटिक द्रव बिल्कुल नहीं होता है। यह 10,000 जन्मों में से एक में होता है।

लैथल स्कैलेटल डिस्प्लासीस

यह हाथों, पैरों, छाती और खोपड़ी की हड्डियों से संबंधित लगभग 350 स्थितियों का एक समूह है। अधिकतर मामलों में, हड्डियों की असामान्य वृद्धि पाई जाती है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर के कुछ हिस्सों की असामान्य वृद्धि होती है। यह भी 10,000 में से एक को होता है।

एडवर्ड सिंड्रोम और पटौ सिंड्रोम

यह स्थिति शरीर की कोशिकाओं में गुणसूत्र की असामान्य संरचना को जन्म देती है। यह शिशु को होने वाली घातक समस्या है और इसका कोई इलाज नहीं है, यह हर 10,000 में से दो या तीन को होता है।

डॉक्टर निम्न की जांच भी कर सकते हैं :-

एम्बीकल कार्ड, प्लेसेंटा, एमिनोटिक द्रव की स्थिति और अवस्था

साथ ही शरीर के हिस्सों का माप शिशु के वज़न की जांच को जांचने के लिए।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon