Link copied!
Sign in / Sign up
7
Shares

प्रेग्नेंसी के दौरान एसिडिटी को ना करें अनदेखा...कुछ इस तरह करें उपाय


एक महिला जब गर्भवती होती है तो उसे इन नौ महीनों के दौरान उसे काफी तरह के शारीरिक परिवर्तनों से गुज़रना पड़ता है। मॉर्निंग सिकनेस, मूड स्विंग, पैरों में सूजन आदि जैसी समस्याओं से हर गर्भवती को जूझना पड़ता ही है।

इसी के साथ कुछ महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान एसिडिटी की समस्या से भी ग्रस्त पाया गया है। एसिडिटी ऐसी समस्या है जिसमें उन्हें गले के निचले हिस्से में जलन होती है।

एसिडिटी यानी जलन की समस्या अधिकतर गर्भवती महिला में देखने को मिलती है। हालांकि जब तक यह समस्या ज्यादा नहीं बढ़ती इससे इतना नुकसान नहीं होता लेकिन यह तकलीफ तो देती ही है।

आपको बता दें कि प्रेग्नेंसी में जलन और एसिडिटी की समस्या इस दौरान शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के चलते होती है।

 

 

इसी के साथ आपको बताते चलें कि प्रेग्नेंसी में अपरा यानी प्लेसेंटा प्रोजेस्टीरोन हार्मोन बनाती जो आपके मूत्राशय को आराम पहुंचाता है। यह हार्मोन उस वेल्व को भी शिथिल बनाता है जो फूड पाइप को पेट से अलग करता है, ताकि अम्ल एक बार फिर निकलकर नलिका में पहुंच जाए। इसकी वजह से जलन महसूस होती है।

इसके अलावा इसका एक कारण और यह भी होता है कि प्रेग्नेंसी में जब बच्चा कोख में विकास कर रहा होता है तो कई बार आस पास के अंगों में दबाव पड़ने लगता है। इसकी वजह से भी गर्भवती को एसिडिटी यानी जलन का अहसास होता है।

अगर आप भी प्रेग्नेंट हैं और आपको इस दौरान जलन यानी एसिडिटी की समस्या होती है आप इन बातों का ज़रूर खास ख्याल रखें...

छोड़ दें मसालेदार खाना

 

अगर आपने अब भी मसालेदार और तैलिय खाना खाती हैं तो जितना जल्दी हो सके इसे छोड़ दें। ऐसे खाद्य पदार्थ जलन की समस्या पैदा करता है और वैसे भी प्रेग्नेंसी में आप मसालेदार और तैलिय खाना ना ही खाएं तो आपकी सेहत के लिए अच्छा है।

ठंडा दूध और दही

 

आप इसके अलावा एसिडिटी से छुटकारा पाने के लिए ठंडे दूध और दही का इस्तेमाल कर सकती हैं। दही और ठंडा दूध एसिडिटी का में काफी फायदेमंद साबित होते हैं। इसलिए आप एक ग्लास ठंडा दूध या एक कटोरी दही भी खास सकती हैं जिससे आपको राहत महसूस होगी।

खाली पेट ना रहें

 

इसके अलावा आप इस बात पर पूरा ध्यान दें कि खुद को खाली पेट ना रखें। थोड़ी मात्रा में ही सही लेकिन आप बीच बीच में कुछ ना कुछ खाती रहें। आप जो भी खाएं इसे अच्छी तरह चबाकर खाएं। एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लंबा अंतराल होने से भी एसिडिटी बनने लगती है।

तनाव ना लें

 

अक्सर महिलाएं गर्भावस्था के दौरान ज्यादा सोच लेती हैं और तनाव में चली जाती हैं। ज्यादा तनाव लेने से भी शरीर में एसिडिटी होती है। ज्यादा तनाव लेने से आपके पेट में सूजन आ ही जाती है क्‍योंकि आप खाने-पीने पर सही ध्‍यान नहीं दे पाते हैं। और इस वजह से आपको एसिडिटी होने लगती है।

इसके अलावा आप गर्भावस्था के दौरान का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। अदरक खाने से भी जलन और एसिडिटी से राहत मिलता है| इसी के साथ ये उलटी और चक्कर से भी आराम देता है जो के अकसर एसिडिटी के कारण होता है।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon