Link copied!
Sign in / Sign up
70
Shares

पति से पिता तक 10 ऐसे परिवर्तन जिनसे उन्हें गुजरना पड़ता हैं!

संभवतः, एक एक्सपेक्टिंग माँ के होने के नाते आप हमेशा डरती हैं कि आपका पति कैसे पिता साबित होंगें ? परेशान मत हो ,आप यह देखकर हैरान हो जाएंगी कि कैसे आपके पति ने अपने  पिता होने की नई भूमिका को आसानी से संभाल लिया है। बस आप शांत होकर उस समय की प्रतीक्षा  करें जब आपके पति पहली बार अपने पिता बनने की ख़ुशी को अनुभव कर रहे होतें हैं । यहां कुछ ऐसे सकारात्मक बदलाव हैं, जो आप बच्चे के आने के बाद निश्चित रूप से अपने पति में देखना शुरू करेंगी।

1. पति काफी सावधानी बरतते हैं:

एक पिता बनना कोई आसान नहीं होता है और जबकि  ज्यादातर पुरुष रातों रात एकदम बदल जाते हैं । छोटे से बच्चे की  देखभाल करना, आर्थिक जिम्मेदारियां आदि सभी के लिए, एक पिता हमेशा अपने आप ही  ख़ुद को को तैयार कर लेता हैं। हालांकि शुरुआत में सभी को परेशानी का सामना करना पड़ता है परन्तु धीरे धीरे सभी पुरुष सांसारिक रोज़मर्रा के कामों के अलावा अपने बच्चे का ख्याल रखना जैसे उन्हें खाना खिलाना, कपड़े बदलना ,नहलाना या फिर उन्हें किसी कपड़े के साथ अच्छे से लपेटना आदि सभी काम सीख जाते हैं

2. भविष्य के लिए कुछ अलग करना:

एक पिता के रूप में अपनी नई भूमिका के कारण सभी पति अपने बच्चे के भविष्य के लिए कुछ अलग सोचना शुरू कर देते हैं । अधिकांश पुरुषों का मानना है कि परिवार मे एक नए सदस्य के आने के बाद एक बहुत अच्छी वित्तीय योजना की आवश्यकता होती है । इसके लिए वे कुछ समय लेकर  पता लगा लेते हैं कि उन्हें अपने बच्चे के भविष्य के लिए कितनी राशि की जरूरत पड़ेगी और वे बुद्धिमानी से खर्च करतें हैं और बजट का  भी ध्यान करना शुरू भी कर देते हैं ।

3. वे आपको एक नए नज़रिए से देखने लगते हैं :

पिता बनने के बाद जैसे ही एक पति को समझ आती हैं कि उनकी पत्नी ने  बच्चे को पैदा करने के लिए क्या-क्या सहा है, वैसे ही उनका अपनी पत्नी के प्रति नज़रिया बदल जाता है। वे अपनी पत्नियों से बहुत प्यार और नम्रता से पेश आते हैं । वे अपने बच्चे और पत्नी दोनों का बहुत अधिक ध्यान रखते हैं। इसलिए अपने पति को इन सभी चीजों के लिए धन्यवाद देना  न भूले ।

4. पति अपना अधिकतर समय घर पर बिताना शुरू करते हैं:

अधिकांश पुरुष बहुत पछतावा महसूस करते हैं जब वे काम के लिए या फिर अपने बच्चे और पत्नी के बिना बाहर जाते हैं। बच्चे के आने के बाद वे अपना अधिक से अधिक समय अपने परिवार के साथ घर पर बिताना पसंद करते हैं। समय के अनुसार उनकी जरूरतें भी बदल जाती हैं और उन्हें वास्तव में अपने बच्चे और पत्नी के आस-पास रहना अच्छा लगता हैं ।

5. वे हर प्रकार से आपकी सहायता करने लगते है :

बिना कोई आलस किए पति शीघ्र ही  डायपर को बदलने या बोतल को गर्म करने की कला में निपुण हो जाते हैं । ज्यादातर पुरुष छोटे बच्चे के आने के उत्साह में  सभी प्रकार के कर्तव्यों को बांटना शुरू कर देते हैं। जब आप आराम कर रहीं होती हैं ,उस समय वे आपकी हर प्रकार से सहायता करने की कोशिश करते हैं जैसे  डायपर बदलना या फिर बच्चे को बिस्तर पर रखना आदि  । यह सभी कार्य आपको यह समझने में मदद करते है कि कैसे आपके  पति एक पिता की भूमिका को कितनी अच्छी तरह से समझ पाए हैं ।

6. नए दोस्तों का समूह:

आप अपनी तरह पहली बार बनने वाले माता-पिता का एक सामाजिक समूह बनाते है और सभी को  उस समूह में शामिल करते हैं । आप आश्चर्यचकित हो जाएँगे  कि कैसे आपके पति अपने अनुभवों  को अपने उन नए दोस्तों के साथ साझा करते है और दूसरे नए पारिवारिक दोस्त भी बना लेते है।

7. पुरुषों को सुरक्षा और आराम के मूल्य का एहसास:

केवल पिता बनने के बाद ही पुरुषों को यह महसूस होता है कि उनकी पत्नी और बच्चे दोनों की  सुरक्षा और ख़ुशी उनके लिए कितने मायने रखतीं है। जब आपका बच्चा पहली बार चलना शुरू करता है तो वे यह सुनिश्चित करते है कि घर के चारों ओर कोई नुकीले कोने या फर्श  पर फिसलन न हो । यह तो सिर्फ पति द्वारा बरती गयी कुछ ही सुरक्षा सावधानियां   हैं जिनका हम यहाँ  जिक्र कर रहें है वास्तव में आपकी पति हर तरह से सुनिश्चित करते है कि आपका बच्चा और आप  सुरक्षित और खुश रहें ।

8. एक साथ मिलकर बच्चे की परवरिश करना :

चाहे अच्छा हो या बुरा,आप और आपके  पति बारी-बारी बच्चे के परवरिश का दायित्व निभाते है। आपका पति इस तथ्य के बावजूद कि आप पहली बार मे उनके प्रयास से ज्यादा सहमत नहीं होंगी , अपने कर्तव्यों को निभाने करने का अधिक से अधिक  प्रयास करते है । संक्षेप में, अब आपके रिश्ते में ज्यादा समझदारी  आ रही  है , जो एक भरोसेमंद और वैवाहिक संबंधों को बनाए रखने के लिए एक आवश्यक आधार हैं।

9. अपने बच्चे  के साथ खेलना :

अधिकांश पुरुष अपने छोटे बच्चे के साथ खेलना बहुत पसंद करते हैं और रोज़ाना थोड़ा समय अपने बच्चे के साथ बिताने के लिए बचा कर रखते हैं । जहां वे अपने बच्चे के साथ अपना संबंध मजबूत करतें हैं। जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता है उसी प्रकार यह  खेलने का समय भी  बढ़ता जाता है , जब वे अपने बच्चे को और अधिक समय देंते हैं  ।

10. बच्चों से बातें करना:

शुरुआत में बेशक कई पिता अपने बच्चे से बहुत कम बात करते हैं । लेकिन कुछ समय बाद वे अपने  बच्चे के साथ  बात करना शुरू कर देते हैं और यह निस्संदेह यह एक सकारात्मक संकेत है, जो पिता को अपने छोटे बच्चे के नज़दीक लाता है। आप देख सकती हैं कि कैसे एक लंबे समय के बाद एक दूसरे को देखने के बाद आपके पति और आपके बच्चे का चेहरा खिल उठता हैं

हम सब यह जानतें है कि बच्चे का जन्म, माता पिता के जिंदगी में एक नये अध्याय की शुरुआत है| एक नयी माँ की जिम्मेदारियाँ तो अपार है पर जब पिता का साथ मिलता है तो यही  जिम्मेदारियाँ  इतनी मुश्किल भी  नहीं लगतीं और जिंदगी का सफ़र आसान लगने लगता है !

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon