Link copied!
Sign in / Sign up
32
Shares

पति को अपने स्वाभाव से कैसे करें आकर्षित- जानिये


  पति पत्नी का रिश्ता बहुत ही उतार-चढ़ाव और खट्टी-मीठी नोकझोंक से भरा होता है। कभी टकरार तो कभी इतना प्यार की लगता है वक़्त यहीं रुक जाए । अगर पति-पत्नी दोस्त बन जाएँ तो विवाहित जीवन की बहुत सी परेशानियां दूर हो जाती हैं और अगर दूर न भी हो तो कम से कम आसान ज़रूर हो जाती हैं। अगर आप चाहती हैं की आप अपने पति के साथ एक सुखमय गृहस्थ जीवन का आनंद उठाएं तो इन बातों का ख़याल ज़रूर रखें ।

 

 

1 . भरोसा करें और स्पेस दें

एक पति पत्नी का रिश्ता भरोसे और विश्वास पर ही टिका होता है। पति से छोटी-छोटी बातों पर सवाल न करें, बहुत सी महिलाएं पति के देर घर आने से या उनका खाना न खाने से सवालों की बारिश कर देती हैं। अगर पति देर से घर आते हैं तो सवाल ज़रूर पूछे, खाना न खाएं तो सवाल ज़रूर करें पर शक के नज़र से नहीं बल्कि एक केयरिंग वाइफ के नज़र से। उनको समझें और अगर वो किसी चीज़ के लिए मना करें तो आप उनके भावनाओ को समझे और उन्हें स्पेस दें, उनके पीछे न पड़ें।

2. तनाव समबन्धी बात न करें

 हर परिवार में छोटे-बड़े टेंशन की बातें चलती रहती है यह एक आम बात है, पर बहुत से घरों में पति जब थक-हारकर घर आता है तो पत्नी शिकायतों का पिटारा खोलकर बैठ जाती हैं। जिससे पति चिड़चिड़ा जाते हैं और बहुत ही ज़्यादा इरिटेटेड महसूस करते हैं और जिस कारण पति पत्नी के बीच के रिश्तों में खट्टास आने लगती हैं। ऐसे में पति अपने पत्नी से ज़्यादा खिंचाव महसूस नहीं करते और वो अपने पत्नी से दूर दूर रहना शुरू कर देते हैं।

 

 

3. पति की बात को समझे

अगर आपके पति आपसे कोई बात शेयर करते हैं या उनकी कोई प्रोब्लेम शेयर करते हैं तो उसपर ध्यान दें उसको इग्नोर न करें। उनकी सहायत और उनको सपोर्ट करें न की उनकी प्रॉब्लम का ज़िम्मेदार उनको ही बना दें। 

 

4. ताना न मारे या आत्मसम्मान को ठेस न पहुंचाए

कई पत्नियों की आदत होती है की वो अपने पति को हर बात का ज़िम्मेदार मानने लगती हैं और उन्हे दस बातें सुनाने लगती हैं। कभी-कभी वो इतना बोल देती हैं की उनको खुद को नहीं पता की वो क्या-क्या बोल गईं और उन्हें यह भी नहीं पता चल पाता की कौनसी बात उनके पति के दिल में चुभ गई। इसलिए पत्नियों को अपने पति से कुछ बोलने से पहले सोचना चाहिए क्यूंकि गुस्से से कही हुई बात तीर की तरह होती है, एक बार निकलने के बाद कभी वापस नहीं आती। शब्दों का चुनाव अक्सर सोच-समझकर करना चाहिए क्या पता कौनसी बात आपके पति को चुभ जाए। इसलिए बदलाव लाने की आपको ज़रूरत है न की आपके पति को।

 

 

5. पति के पुराने बातों को न उठाये

पति-पत्नी के बीच टकरार होना एक आम बात है, परन्तु उस बात को वहीं दबा देना ही सही है। किसी भी इशू को खींचें न क्यूँकि किसी-किसी महिलाओं की आदत होती है की वो किसी भी झगड़े को लम्बा खिंच लेती हैं और यहां तक की पुरानी बातों को भी घसीटकर पुराने झगड़ों और बातों को उठाने लगती हैं जिससे झगड़ा ख़त्म होने के बजाय और बढ़ जाता है। इसलिए आप अपने बीच किसी भी पुरानी बीती बातों को न लाएं क्यूंकि इससे झगड़ा और बढ़ जाएगा।

6. बातों का सम्मान करें

अगर आपके पति अपनी कोई बात रखते हैं या आपको कोई सलाह देते हैं तो उनकी बात को काटे न बल्कि उनके दिए गए सलाह का सम्मान करें। उनकी बातों को अंडरएस्टिमेट बिलकुल भी न करें, अगर आप उनकी बातों पे ध्यान नहीं देंगे तो अगली बार से हो सकता है वो आपको कामों में सलाह देना ज़रूरी न समझे। और बहुत सी ऐसी बातें होती है जिसमें आपके पति आपसे ज़्यादा जानकारी रखते हो जिसमें उनकी सलाह की आपको ज़रूरत हो सकती है, इसलिए आप उनकी बातों में रूचि नहीं दिखाएंगी और सलाह नहीं लेंगी तो वह भी आपको सलाह देने में दिलचस्पी नहीं लेंगे।

7. हर वक़्त कम्प्लेन न करें

बहुत सी महिलाओं की कम्प्लेन करने की आदत होती है, पति के ऑफिस से आते ही वो बहुत सी बातें लेकर बैठ जाती हैं। इससे पति में चिड़चिड़ापन होने लगता है और पति पत्नी के बीच तनाव भी बढ़ता है। पत्नी की बात बार-बार सुन-सुनकर पति बहुत ही ज़्यादा फ़्रस्ट्रेटे हो जाते हैं और अगली बार से वो पत्नी की बात पर ज़्यादा ध्यान नहीं देते। इस कारण पत्नी को लगता है की पति उनको नज़रअंदाज़ कर रहे हैं पर ऐसा नहीं है, इन सब बातों से हारकर ही आपके पति आप और आपकी बातों पर ध्यान नहीं देते। जिसका कारण आपके पति नहीं आप खुद होती हैं। जब आपके पति ऑफिस से घर आये तो उन्हे रिलैक्स फ़ील करायें उनको डिनर के लिए पूछे और उनके दिनभर के बारे में बात करें अगर वो तनाव में दिखें तो इसका कारण पूछे।

8. ससुराल वालों की शिकायत न करें

अगर आप चाहती हैं की आपके पति आपके साथ हमेशा खुश रहे तो आप उनके घरवालों की शिकायत न करें। उनके माता-पिता व घर के अन्य सदस्यों का सम्मान करें। हर वक़्त उनके रिलेटिव्स की तुलना अपने घरवालों से न करें। उनके घर के लोगों को आप अपने घरवालों जितना ही अपनापन दिखाये।

9. सदा सच बोलें

कोई भी रिश्ता तब अटूट हो जाता है जब आप उस रिश्ते को झूट और छल-कपट से दूर रखतें हैं और खासकर जब वो रिश्ता पति-पत्नी का हो। अपने पति से कोई भी बात न छुपाएं। अगर आपकी कोई परेशानी है और आप उस मज़बूरी में झूट या कोई बात छुपा रहीं हैं तो उस बात को खुलकर अपने पति के सामने रखें यदि वो सच में आपसे प्यार और आपका सम्मान करते हैं तो आपकी बात ज़रूर समझेंगे। क्यूँकि सौ झूट से एक सच भला।

10. तुलना न करें

अपनी पति की तुलना कभी भी किसी और के पति से न करें, या उनकी सैलरी को किसी और की सैलरी से कम्पेयर न करें। कोई भी इंसान अपनी तुलना किसी और के साथ बर्दास्त नहीं कर पाता। इसलिए जितना हो सके उन्हे प्यार दे और उनको खुश रखें, उन्हें एहसास दिलाएं की आप उनके साथ खुश हैं।

11 . खाने व पसंद-नापसंद का ख्याल रखें

कहा जाता है की पति के दिल का रिश्ता उनके पेट से होकर गुज़रता है और यह बात बहुत हद तक सच भी है। अपने पति का ख़याल रखें उनके लिए उनकी पसंदीदा डिशेस बनाये ताकि ऑफिस से आने के बाद अगर उनका मूड ख़राब भी तो गरमा-गरम पसंदीदा खाना देखकर उनका मूड अच्छा हो जाये। उनके पसंद-नापसंद का ख़ास ख़याल रखें, ऐसा कुछ न करें जिससे वो इर्रिटेट हो जाएँ।

12 . खुद को मेन्टेन करें

अपने आपको वेल-मेन्टेन करें, बहुत बार देखा जाता है की महिलाएं शादी के एक-दो साल तक खूब ड्रेसअप करती हैं, परन्तु फिर वो अपने आप पर ध्यान देना छोड़ देती हैं, उन्हे लगता है की अब वह हाउसवाइफ हो चुकी है उनपर कोई ध्यान नहीं देगा या कभी-कभी महिलाएं बच्चे और घर में इतनी व्यस्त हो जाती हैं की खुद पर भी ध्यान नहीं देती। पर ये धारणा गलत है आपके पति आप पर हमेशा ध्यान देते है और बहुत बार चाहते हैं की आप वैसे रहे जैसे आप उनसे पहली बार मिलते वक़्त थी। इसलिए खुद पर ध्यान दें खुद को अपने लुक्स को अंडरएस्टिमेट न करें। अपने आप को मेन्टेन करें अच्छे से मेकअप व ड्रेसअप करें। 

इन सबके अलावा कुछ और महत्वपूर्ण बातें हैं जिससे अपने पति-पत्नी के रिश्ते को कर सकते है और मज़बूत और गहरा

अपने पति के माता-पिता को अपने माता-पिता जैसे अपनाएं और उन्हे अपने माता पिता जितना सम्मान दें।

अपने मायके और ससुराल के बीच बराबर का तालमेल बनाकर रखें।

पति को वक़्त दें उनके बातों को सुने और अगर उन्हें कोई परेशानी है तो उनकी मदद करने की कोशिश करें।

घर में सुख-शान्ति और ख़ुशी का माहौल बनाएं रखें, छोटी छोटी बातों पर लड़ाई या उनको बढ़ावा देकर बड़ा न बनाये।

और सबसे बड़ी बात प्यार और विश्वास की डोर को बनाये रखें। 

हेलो मॉम्स , हम आपके लिए एक अच्छी खबर ले कर आये हैं। Tinystep आपके और आपके बच्चों क लिए प्राकृतिक तत्वों से बना फ्लोर क्लीनर ले कर आया है! क्या आपको पता है मार्किट में मिलने वाले केमिकल फ्लोर क्लीनर आपके बच्चे के लिए हानिकारक है? Tinystep का प्राकृतिक फ्लोर क्लीनर आपको और आपके बच्चों को कीटाणुओं और हानिकारक केमिकलों से दूर रखेगा। आज ही आर्डर करें। ऑर्डर करणे के लिये क्लिक करे 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon