Link copied!
Sign in / Sign up
10
Shares

नवजात को भी होती है एसिडिटी - जानें लक्षण और उपाय


हमेशा हम बड़ों में एसिडिटी या खट्टी डकार की शिकायत सुनते रहते हैं। पर क्या आप जानते हैं एसिडिटी या खट्टी डकार की परेशानी एक नवजात शिशु में भी होती है। यह परेशानी तभी होती है जब माँ कुछ उल्टा-सीधा खा लेतीं हैं। पर सवाल यह उठता है की आप कैसे जानेंगे की आपके शिशु को एसिडिटी हो रही है क्यूंकि हम बड़े तो अपनी समस्या बोलकर बता देते हैं परन्तु शिशुओं के लिए यह संभव नहीं है। इसलिए नीचे हम कुछ शिशुओं के लक्षण बता रहे हैं जिससे आप समझ जाएंगे की आपके शिशु को एसिडिटी या खट्टी डकार की समस्या हो रही है।

शिशुओं में खट्टी डकार या एसिडिटी के लक्षण कुछ इस प्रकार हैं।

1. बच्चे को दूध की उलटी होगी और उलटी से खट्टी डकार की स्मेल आएगी ।

2. पेट ख़राब हो सकता है और बच्चा बार-बार रोते रहेगा ।

3. शिशु दूध पीना बंद कर देता है और उसका पेट फुला हुआ या चढ़ा-चढ़ा रहता है।

4. बच्चे के पेट में दर्द होने के कारण वह रोता रहता है।

5. शिशु के मुँह से कफ या लार जैसा निकलने लगेगा।

अगर ऊपर दिए गए लक्षण आप अपने शिशु में देख रहे हैं तो हो सकता है आपके शिशु को एसिडिटी या खट्टे डकार की परेशानी है। पर इससे घबराएं नहीं नीचे दिए गए कुछ घरेलु नुस्खों से आप अपने शिशु की इस समस्या को दूर कर सकते हैं।

1. माँ ध्यान से खाएं 

माँ को कोई भी एसिडिटी करने वाली चीज़ों का सेवन नहीं करना चाहिए। क्यूंकि ये वो वक़्त होता है जब शिशु पूरी तरह अपने माँ के दूध पर निर्भर करता है और अगर माँ कुछ उल्टा-पुल्टा या एसिडिटी वाले खानों का सेवन करेंगी तो उसका सीधा असर उनके शिशु पर होगा। इसलिए जितना हो सके हेल्थी चीज़ों का सेवन करें और ज़्यादा तले-भूने चीज़ों को खाने से बचें।

2. अजवाइन से सेंके

 

 

जब भी आपकी शिशु को एसिडिटी होगी तो आपका शिशु रोयेगा, दूध नहीं पियेगा और उसका पेट फुला हुआ लगेगा तो जब भी आप शिशु में ऐसा कुछ देखें तो, अजवाइन को तवे पर गर्म कर के उससे अपने शिशु के पेट को सेंके। इसके अलावा आप अजवाइन को तेल में डालकर और उस तेल को गर्म कर के उससे अपने शिशु का मालिश कर सकती हैं इससे उसे आराम मिलेगा।

 

3. बच्चे को कराएं हलकी एक्सरसाइज 

जब भी आपको लगे की आपका शिशु थोड़ा अनकम्फर्टेबल है आप उसे हलकी एक्सरसाइज कराएं। उसके पैरों को बारी-बारी से ऊपर उठाएं इससे आपके शिशु को आराम मिलेगा।

4. पीठ पर थपकी

आप अपने शिशु को पीठ के बल लेटाकर पीठ में हलकी-हलकी थपकी दें या अपने गोद में लेकर उसे थपकी दें इससे उसे आराम मिलेगा।

5. डॉक्टर से परामर्श

अगर आपको लग रहा है की आपके शिशु को बार-बार एसिडिटी की शिकायत हो रही है तो डॉक्टर से ज़रूर परामर्श लें। 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon