Link copied!
Sign in / Sign up
0
Shares

क्या गर्भावस्था के दौरान चीज़ खाना सुरक्षित है? (Is It Safe To Have Cheese During Pregnancy? In Hindi)

गर्भावस्था में हर महिला भोजन की लालसा और घृणा के अनुभव से गुजरती है। कई बार इस दौरान किसी एक विशेष भोजन को खाने की तीव्र इच्छा होती है। हालांकि भोजन की लालसा ज्यादा दिनों तक नहीं चलती। उदाहरण के लिए एक गर्भवती महिला को कुछ दिन मिठाई खाने की बहुत तीव्र इच्छा होती है लेकिन कुछ दिन बाद ही उसे मिठाई को देखकर उबकाई आने लगती है। वह उसे बिलकुल भी पसंद नहीं करती है। लेकिन आप चिंता मत करिए, ये एक सामान्य प्रक्रिया है।

गर्भावस्था में किसी भी भोजन की लालसा हो सकती है लेकिन इस दौरान कुछ खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि यह भ्रूण के मस्तिष्क और विकास में बाधा पहुंचा सकते हैं। कई महिलाएं चीज़ के सेवन को लेकर भी दुविधा में रहती हैं तो चलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि गर्भावस्था में चीज़ खाना आपकी सेहत के लिए लाभदायक है या फिर हानिकारक।

लेख की विषयसूची

-गर्भावस्था में चीज़ खाने की लालसा क्यों होती है? (Why do you crave cheese while pregnant in Hindi?)

- गर्भावस्था में चीज़ खाना कितना सुरक्षित है? (How safe is cheese during pregnancy in Hindi)

- बाजार में उपलब्ध चीज़ के प्रकार (Types of cheese in the market in Hindi)

- क्या रात में चीज़ खाना सुरक्षित है? (Is it safe to eat cheese at night in Hindi?)

- कैसे पता करें चीज़ में लिस्टिरिओसिज़ है? (How to differentiate listeriosis causing cheese in Hindi?)

- कैसे असुरक्षित चीज एक गर्भवती महिला को प्रभावित करता है? (How unsafe cheese affect pregnant women in Hindi?)

-निष्कर्ष (Conclusion) 

गर्भावस्था में चीज़ खाने की लालसा क्यों होती है? (Why do you crave cheese while pregnant in Hindi?)

क्या आप गर्भवती हैं और आपको चीज खाने की तीव्र लालसा होती है ? अगर ऐसा है तो ये एक संकेत हैं कि आपके पेट में पल रहे भ्रूण को पोषित करने के लिए अधिक कैल्शियम और प्रोटीन की आवश्यकता है। आप आसानी से दूध से बने उत्पातों जैसे – दूध, दही, पनीर आदि से इस लालसा को शांत कर सकते हैं। यद्पि चीज कैल्शियम से भरपूर है लेकिन इसके ज्यादा सेवन से आपको कब्ज की समस्या हो सकती है क्योंकि इसे पचाने में वक्त लगता है।

गर्भावस्था में चीज़ खाना कितना सुरक्षित है? (How safe is cheese during pregnancy in Hindi?)

चीज़ प्रोटीन, कैल्शियम और विटामिन बी से समृद्ध है और यह आपके अजन्मे बच्चे की दैनिक आवश्यकताओं को पूरा करने में काफी मददगार है, लेकिन बाजार में विभिन्न प्रकार का चीज़ उपलब्ध हैं, जो गर्भावस्था में महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। इस दौरान महिलाओं को मुलायम चीज के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि इसमें लिस्टरिया जैसे माइक्रोस्कोपिक जीव होते हैं, जो लिस्टरियोसिस का कारण बन सकते हैं। इसलिए गर्भवती होने पर चीज़ खाएं लेकिन बेहतर स्वास्थ्य के लिए चीज़ की सही क्वालिटी का चयन करना जरूरी है।

[Back To Top]

बाजार में उपलब्ध चीज़ के प्रकार (Types of Cheese in the market in Hindi)

कुछ चीज़ कच्चे या अपाश्च्युरीकृत दूध से बनाया जाता है, इसमें लिस्टरिया बैक्टिरिया हो सकते हैं। इसलिए चीज़ खरीदने से पहले यह जान लें कि चीज़ कैसे बनाया गया है, पूरी जानकारी के बाद ही इसे खरीदें।

यहां जानिए गर्भावस्था के दौरान कैसा चीज़ खाना चाहिए।

1. गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है ये चीज़

सभी प्रकार के सख्त चीज़ का सेवन गर्भावस्था में सुरक्षित होता है।

सख्त चीज़

इस प्रकार के चीज़ की बनावट काफी द्दढ़ यानी सख्त होती है। ये चीज़ उस दूध से बना होता है, जिसे पाश्च्युरीकृत किया जाता है। इसके लिए दूध को उच्च तापमान में पकाया जाता है, जिससे बैक्टरिया मर जाते हैं। इस प्रकार गर्भवती महिलाओं को सख्त चीज़ का सेवन करना सुरक्षित होता है। साथ ही आप अपनी चीज़ खाने की लालसा को भी शांत कर सकते हैं।

प्रसंस्कृत चीज़

प्रसंस्कृत चीज़ आमतौर पर पानीदार होता है। इसकी बनावट लचीली और मुलायम होती है। यदि यह चीज़ पाश्च्युरीकृत दूध से बना हो तो आप इस मुलायम चीज़ का उपभोग कर सकती हैं। कुछ प्रसंस्कृत चीज़ को प्राकृतिक चीज़ से संशोधित करके बनाया जाता है और इसमें इमल्सीफायर, स्टेबिलाइजर्स और अन्य योजक हो सकते हैं। यदि इस चीज़ को हीटिंग विधि द्वारा बनाया गया हो तो यह गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है।

[Back To Top]

2. गर्भवती महिलाओं के लिए असुरक्षित है ये चीज़

ये सच हैं कि सभी प्रकार का चीज़ गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है, यहां असुरक्षित चीज़ के बारे में जानिए...

अपाश्च्युरीकृत चीज़

पाश्च्युरीकृत से दूध में मौजूद बैक्टरिया मर जाते हैं। इसलिए अपाश्च्युरीकृत दूध से बने चीज़ को कभी ना खरीदें, इसमें हानिकारक बैक्टरिया हो सकते हैं। गर्भावस्था में परमेसन पनीर को खाने की सलाह दी जाती है, चाहे वो अपाश्च्युरीकृत दूध से बनाया गया हो, क्योंकि इसमें पानी की मात्रा बहुत कम होती है, जिससे इसमें बैक्टरिया पनपने की संभावना कम हो जाती है।

फफूंदीदार मुलायम चीज

इस प्रकार के चीज़ को कभी ना खरीदें क्योंकि इसमें लिस्टरिया नामक बैक्टरिया होता है। यह बच्चे के लिए हानिकारक हो सकता है। अपनी सेहत और बच्चे की सुरक्षा के लिए अच्छे चीज़ का सेवन करें।

क्या रात को चीज़ खाना सुरक्षित है? (Is it safe to eat cheese at night in Hindi)

चीज़ में मौजूद पौष्टिक तत्वों पर कोई संदेह नहीं है लेकिन चीज़ में फैट ज्यादा मात्रा में होता है। इसलिए रात को चीज़ का सेवन मोटापे को बुलावा देना जैसा है। मोटपा होने से डिलवरी में दिक्कत हो सकती है। इसके अलावा यह आसानी से पचता भी नहीं है। गर्भवस्था में अक्सर वहीं खाद्य पदार्थ खाने चाहिए, जो आसानी से पच जाएं वरना आपको जी जलने, एसीटीडी, अपच, कब्ज जैसी परेशानियों को सामना करना पड़ेगा।

[Back To Top]

कैसे पता करें चीज़ में लिस्टिरिओसिज़ है? (How to differentiate listeriosis causing cheese in Hindi?)

मुलायम और अपाश्च्युरीकृत चीज़ में लिस्टरिया नामक बैक्टरिया पनपने की संभावना होती है। ऐसा कोई तरीका नहीं है, जिससे हम जान सकें कि या चीज़ में बैक्टरिया है या नहीं, क्योंकि बैक्टरिया की उपस्थिति से भी चीज़ का स्वाद बदलता नहीं है। दुग्ध उत्पादों के अलावा ये बैक्टरिया कच्ची सब्जियों, फलों, हॉट डॉग और मीट में पाए जाते हैं। यह मिट्टी और पानी में भी पाया जाता है। गर्भावस्था में संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है, इसलिए चीज़ को खरीदने से पहले पैकेट पर लिखी इसके निर्माण प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी को ध्यान पूर्वक पढ़ें।

[Back To Top]

कैसे असुरक्षित चीज एक गर्भवती महिला को प्रभावित करता है? (How unsafe cheese affect a pregnant woman in Hindi?)

- अगर गर्भवती महिला चीज़ में मौजूद लिस्टरिया से संक्रमित हो जाती है इसके लक्षण चीज़ खाने के एक हफ्ते से लेकर आठ हफ्ते तक किसी भी समय देखे जा सकते हैं। जिसमें बुखार, ठंड, मतली, उल्टी, ठंड लगना, भ्रमित होना, सिरदर्द आदि शामिल हैं।

- गर्भावस्था के दौरान चीज़ खाने के बाद यदि लिस्टरिया संक्रमण हो जाए तो इसका तुरंत इलाज किया जाना चाहिए। कई बार इसके गंभीर खतरे सामने आ सकते हैं।

- यह बैक्टीरिया अम्नीओटिक द्रव और प्लेसेंटा को प्रभावित कर सकता है। इसके परिणामस्वरुप उसी वक्त डिलीवरी या गर्भपात हो सकता है।

- लिस्टरिया संक्रमण वाले गर्भवती महिलाओं में बैक्टरिया मेनिंजाइटिस हो सकता है।

- इससे गर्भ के अंदर संक्रमित भ्रूण समय से पहले पैदा हो सकता है, अन्यथा बुखार, दर्द, त्वचा का संक्रमण हो सकता है, जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र को भी नुकसान पहुंचा सकता है।

[Back To Top]

निष्कर्ष (Conclusion)

गर्भावस्था के नौ महीने तक महिलाओं को अलग – अलग प्रकार के भोजन की लालसा होती है। गर्भवस्था में भोजन की लालसा को रोकने का कोई तरीका नहीं है लेकिन गर्भावस्था के दौरान चीज़ हमेशा सुरक्षित विकल्प नही है। चीज़ के सेवन करने से पहले लेवल को ठीक से पढ़े और सुनिश्चित करें कि वह गर्भावस्था के लिए सुरक्षित हो। इसके अलावा हमेशा खाना खाने से पहले और बाद हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। पातकश्च्युरीकृत दुग्ध उत्पादों का ही सेवन करें। यदि आपको मुलायम चीज़ खानी हो तो उसे उच्च तापमान पर रखकर खूब उबालें और इसका तुरंत उपभोग करें।

कहा जाता है कि सौ दवा खाने से अच्छा एक परहेज करना है। इसलिए गर्भावस्था में जितना हो सकें चीज़ की लालसा से बचें। चीज़ का सेवन तभी करें, जब आप सुनिश्चित हो कि यह आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित हो। यदि आपको कोई असामान्य लक्षण दिखता है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

 

Related Article

गर्भावस्था के दौरान भेलपुरी खाना सुरक्षित है? (Is It Safe To Eat Bhelpuri During Pregnancy? In Hindi)

क्या गर्भावस्था के दौरान केला खाना सुरक्षित है? (Is It Safe To Eat Banana During Your Pregnancy? In Hindi)

त्वचा के लिए एलोवेरा के फायदे, नुकसान और उपयोग (Aloe Vera For Skin: Benefits, Side Effects and Uses In Hindi)

टमाटर जूस के 10 फायदे (10 Benefits of Tomato Juice In Hindi)

ड्रैंडफ को दूर करने के लिए आपनाएं ये आसान घरेलु उपाय (Simple And Practical Homemade Cures For Dandruff In Hindi)

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon