Link copied!
Sign in / Sign up
2
Shares

प्रसव पीड़ा (labor pain) कितने देर तक हो सकता है - पाएं पूरी जानकारी


किसी भी माँ के लिए अपने बच्चे को जन्म देना किसी अद्बुध अनुभव से कम नहीं होता| लेबर और डिलीवरी आपके लिए काफी महत्वपूर्ण और अनोखा एहसास हो सकता हैं यदि आप पहली बार माँ बन रही हों| तो जैसे-जैसे आपकी डिलीवरी डेट नज़दीक आती है आपको लेबर पेन के बारे में जानने की और लेबर पेन कितने समय तक चलेगा उसकी टेंशन होने लगती| हर महिलाओं के लिए ये अनुभव अलग होता है, कुछ महिलाओं का लेबर पेन जल्दी ख़त्म हो जाता है और कुछ के लिए लेबर एक से दो दिनों के लिए रहता है|

किन कारणों से आपके लेबर के समय पर प्रभाव पड़ सकता है?

ऐसे बहुत सारे कारण हैं जो की आपके लेबर के समय को प्रभावित करते हैं:

माँ की उम्र

माँ की उम्र जितनी अधिक होगी, लेबर में उन्हें उतना अधिक समय बिताना होगा, ये इसलिए क्योंकि उम्र उनकी गर्भाशय की मांसपेशियों पर प्रभाव डालता है जिससे की उसमें कम सिकुड़न पायी जाती है|

पिछली डिलीवरी

पहली दफा माँ बनने वाली महिलाओं को लेबर में अधिक समय बिताना पड़ता है जबकि जिन महिलाओं की तीन साल के भीतर दो नार्मल डिलीवरी होगयी हों तो उन्हें लेबर में कम समय बिताना पड़ता है| यदि दो डिलीवरी के बीच चार साल से अधिक का अंतर है तो उनके लेबर में समय लगता है|

फेटल पोज़िशन

माँ के गर्भ में बच्चे का पोजीशन लेबर में बिताने वाले समय पर प्रभाव डालता है| बच्चे की गलत पोजीशन आपके लेबर के समय को बढ़ा सकता है| अगर आपका बच्चा सीधे पोजीशन में हैं तो आपका लेबर कम समय में होगा लेकिन अगर वो उलटे पोजीशन में है तो आपको लेबर में अधिक समय बिताने की संभावना है|

एपिडुरल

आजकल डिलीवरी के समय दर्द से छुटकारा देने के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण आपको लेबर में अधिक समय बिताने की नौबत आती है और ये इसलिए क्योंकि इस दवा के कारण आपकी पेल्विक मसल सुन हो जाती है और इस आपके गर्भाशय की सिकुड़न कम होने लगती है|

- पहली दफा माँ बनने वाली महिलाओं को सेकंड स्टेज लेबर में एपिडुरल के इस्तेमाल के बाद 336 मिनट लगता है और बीना इसके इस्तेमाल के 197 मिनट( 2 घंटे और 19 मिनट का अंतर)

- महिलाएं जिनकी दूसरी डिलीवरी है उन्हें एपिडुरल के इस्तेमाल के बाद लेबर में 225 मिनट बिताना पड़ता है और बिना उसके इस्तेमाल के केवल 81 मिंनट( 2 घंटे और 54 मिनट का अंतर)

सिकुड़न की मज़बूती

सिकुड़न कितनी तेज़ी से हो रही है इसका सीधा प्रभाव आपके लेबर के समय पर पड़ता है| यदि आपकी सिकुड़न मज़बूत है और तेज़ी से हो रही है तो आपको लेबर में कम समय बिताना पड़ेगा|

माँ की मानसिकता

माँ किस तरह लेबर का सामना करती है इसका भी लेबर के समय पर गहरा प्रभाव पड़ सकता है| यदि माँ शांत और रिलैक्स है तो लेबर में कम समय लगेगा और यदि माँ घबराई हुई है तो लेबर में उसे अधिक समय लग सकता है|

खैर ये जानना तो मुश्किल है की लेबर कितने दिनों तक रहेगा क्योंकि हर महिला अलग होती है और कोई दो डिलीवरी एक जैसी नहीं होती| आइये हम आपको लेबर की कुछ स्तिथि बताएं:

लेबर का पहला स्टेज

लेबर के सारे स्टेज में से सबसे अधिक लम्बा ये स्टेज होता है| इससे सही लेबर होने की पहचान होती है जब तक की आपकी गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह 10 सेंटीमीटर चौड़ी ना हो जाए|

लेबर का दूसरा स्टेज

ये स्टेज आपकी गर्भाशय ग्रीवा के पूरी तरह फैलने से शुरू होता है और आपके बच्चे के जन्म लेने पर खत्म होता है| इस स्टेज में माँ को अच्छी तरह भाग लेना बेहद ज़रूरी है, इसे 'पुशिंग स्टेज' भी कहते हैं| ये स्टेज 20 मिनट से लेकर 2 घंटे तक चल सकता है, पेट का सिकुड़ना 90 सेकंड तक जारी रह सकता है|

लेबर का तीसरा स्टेज

ये लेबर का सबसे छोटा स्टेज होता है| इस स्टेज के दौरान गर्भनाल का बाहर निकलना होता है, इसे करने में 5 से 30 मिनट लगता है|

दवा से लेकर सांस लेने की तरकीब तक, आपके लेबर के दर्द को कम करने की बहुत तरकीबें हैं, तो आपको इस बात की चिंता करने की बिलकुल ज़रूरत नहीं की लेबर कब तक चलेगा| आप जितना रिलैक्स करेंगी उतनी ही आसान आपकी डिलीवरी होगी| आखिर वो सारे दर्द फायदे ही देंगे| अपने बच्चे को हाथ में लेते ही आपको डिलीवरी का दर्द याद नहीं रहेगा| हमारी तरफ से आपको हैप्पी डिलीवरी!

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon