Link copied!
Sign in / Sign up
5
Shares

किडनी स्टोन होने के कारण,उसके लक्षण और घरेलू नुस्खें

 

आजकल किडनी स्टोन एक आम समस्या हो गयी है, आकंडों के अनुसार भारत में 12 प्रतिशत आबादी किडनी स्टोन होने की समस्या से ग्रसित है। जिसमें की ब्लाडर की पथरी होने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है। किडनी स्टोन एक ऐसी बीमारी है जिसका पता आसानी से नहीं चलता है। एक शोध के अनुसार भारत में 50 प्रतिशत आबादी को किडनी डैमिज की समस्या से जूझना पड़ता है। यहां पर हम आपको किडनी स्टोन के बारे में वह सारी जानकारियां दे रहे हैं जिनसे आप काफी हद तक इस बीमारी से बच सकते हैं। आइये जानते हैं कि किडनी स्टोन है क्या-

किडनी स्टोन क्या है-

 

किडनी एक तरह के वह छोटे पत्थर होते है, जो कि कैल्शियम, फॉस्फोरस, सोडियम और ऑक्सेलेट जैसे जटिल पदार्थों से मिलकर बने होते है। आमतौर पर किडनी स्टोन, अपने आप यूरिन के जरिये शरीर से बाहर निकल जाते हैं। जिसमें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं आती है। लेकिन जब यह स्टोन आकार में बहुत अधिक बढ़ जाते हैं, तो यह हमारे शरीर पर बुरा प्रभाव डालते हैं। और इस तरह के स्टोन्स को केवल दवाइयों और इलाज से निकाला जाता है। किडनी स्टोन का ट्रीटमेंट किडनी के आकार के आधार पर ही डाक्टर करते हैं। क्योंकि कुछ किडनी स्टोन अलग-अलग आकार के होते हैं। कुछ दवाइयों से घुल जाते हैं और कुछ यूरिन के जरिये बाहर निकाल जाते हैं। लेकिन यह जरुरी नहीं है कि दवाइयों से स्टोन का इलाज किया जाये बल्कि कुछ स्टोन इतने ठोस हो जाते हैं कि उन्हें सर्जरी के जरिये ही निकाला जाता है। आइये जानते हैं स्टोन्स के प्रकार –

स्टोन्स के चार प्रकार होते हैं

                       

इमेज क्रेडिट-होमविकी                           

कैल्शियम स्टोन

किडनी स्टोन्स यानी कि (गुर्दे की पथरी) कैल्शियम कंपाउंड्स की बनी होती हैं, सबसे ज्यादा कैल्शियम ऑक्सलेट की होती है। इन स्टोन्स में कैल्शियम कम्पाउंड के अलावा, केल्शियम फॉस्फेट और मिनरल्स भी मिले होते हैं। जिसकी वजह से पथरियां बनती है। यदि किसी व्यक्ति में कैल्शियम के लीवल में असामान्य तौर पर बढ़ोत्तरी हो जाए, या उसे hyperparathyroidism हो जाए, तो लोगों में कैल्शियम स्टोन्स के होने की संभावनाएं बहुत अधिक बढ़ जाती हैं। किडनी स्टोन होने की सबसे बडी वजह है शरीर में, ऑक्सलेट का बढ़ जाना जिसकी वजह से उसमें कैल्शियम स्टोन्स के बनने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। लेकिन इस तरह की पथरी जल्दी ठीक भी हो सकती है क्योंकि इस तरह के स्टोन्स के लिये आज कई तरह की दवाइयां उपलब्ध हैं जिनसे काफी हद तक स्टोन्स ठीक होने की संभावना रहती है।

यूरिक एसिड स्टोन

यह किडनी स्टोन यूरिक एसिड से मिलकर बने होते हैं। कैल्शियम स्टोन से ज्यादा यह हानिकारक होते हैं। एक तरह से यह बेकार तत्व होते हैं। जिन्हें शरीर किड़नी के जरिये हमारे शरीर से बाहर निकालता है। इसके लक्षण कुछ इस तरह होते हैं जो कि निम्नलिखित हैं-

1-यूरिन न आना या कम आना।

2-प्रोटीन जैसे रेड मीट को खाना।

3-अल्कोहल ज्यादा लेना।

लेकिन इस तरह के भी किडनी स्टोन को खत्म करने के लिये कई तरह की दवाइयां मौजूद हैं। जिनसे काफी हद तक इलाज हो सकता है।

स्ट्रूदवाइट स्टोन

इस तरह के स्टोन को इंफेंक्शन स्टोन या संक्रमण स्टोन भी कह सकते हैं। यह किड़नी या यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेंक्शन ((UTIs) के कारण बनते हैं। यदि इस तरह की पथरी या स्टोन बढ़ कर बहुत बड़ी हो जाए तो यह हमारे शरीर के लिये काफी घातक हो सकती है। क्योंकि इस तरह की पथरी आकार में बहुत बड़ी होती है, और इसकी सबसे मुख्य वजह इनफेक्शन होता है। इस बीमारी का इलाज एंटीबायोटिक्स और रिमूवल ऑफ़ स्टोन यानी कि (सर्जरी के द्वारा पथरी को निकाल का किया जाता है। इस तरह की पथरी होने की संभावना पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में ज्यादा होती हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उनमें यूरिन सम्बंधित संक्रमण होने की संभावनाएं बहुत ज्यादा होती। इसके इलाज में भी काफी समय लगता है।

सीस्टीन स्टोन

इस तरह के स्टोन होने की संभावना बहुत कम होती है, क्योंकि यह स्टोन, सिस्टीन नाम के केमिकल का बना होता है। सीस्टीन स्टोन होने की संभावना ऐसे लोगों में ज्यादा होती है, जिनके परिवार में से पहले भी किसी को जाँच के दौरान, सीस्टीन केमिकल की मात्रा पायी गयी हो। साथ ही यह केमिकल इतनी आसानी से नहीं पाया जाता है। यह स्टोन दवाइयों के साथ, घोला जा सकता है, लेकिन कभी-कभी इस तरह के स्टोन का निकलना संभव नहीं होता है। यदि यह स्टोन आकार में बहुत बढ़ गया हो, तो उसके लिए सर्जरी के द्वारा ही इसे निकाला जा सकता है।

किडनी स्टोन ऐसी बीमारी है जो कि जल्दी भी ठीक हो सकती है और देर से भी। लेकिन दवाइयों के साथ-साथ किडनी स्टोन के घरेलू उपचार भी हैं। आइये जानते हैं किडनी स्टोन के कुछ घरेलू उपचार और नुस्खों के बारे में-

१.अंगूर 

किड्नी स्टोन निकालनें में अगूंर बहुत लाभदायक है क्योंकि अंगूर में पोटेशियम नमक और पानी भरपूर मात्रा में होता है। अंगूर में अलबूमीन और सोडियम क्लोराइड बहुत ही कम मात्रा में होते हैं यह तत्व किड्नी स्टोहन ठीक करने में काफी असरदायक हैं।

२. करेला

करेला बहुत कड़वा होता है और खानें मे भी इतना टेस्टी नहीं होता है। लेकिन ककिड्नी स्टोयन के मरीजों के लिए यह बहुत अच्छी दवा है करेले में मैग्नी्शियम और फॉस्फोकरस नामक तत्वट होते हैं, जो पथरी को बनने से रोकते हैं। इसलिए किड्नी स्टो न की समस्याट होने करेले का सेवन करना चाहिए।

३. केला

 केला भी स्टोंन की समस्या से निपटने के लिए काफी अच्छा है। इसमें विटामिन बी-6 होता है। विटामिन बी-6 ऑक्जेलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता और तोड़ता है। एक रिसर्च के अनुसार विटामिन-बी की 100 से 150 मिलीग्राम डायट किड्नी स्टोोन के उपचार में बहुत फायदेमंद है।

४. जैतून तेल 

इस  तेल के साथ नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से किड्नी स्टोान में फायदा होता है। दर्द होने पर 60 मिली लीटर नींबू के रस में उतनी ही मात्रा में आर्गेनिक जैतून का तेल मिला कर सेवन करने से स्टोन के दर्द में आराम मिलता है।

५.बथुआ 

आमतौर पर इसका इस्तेमाल ,साग के रूप किया जात है लेकिन यह किडनी स्टोन में बहुत ही लाभदायक माना गया है। इसके लिए आप आधा किलो बथुए के साग को उबाल कर छान लें। अब इसे पानी में जरा सी काली मिर्च, जीरा और हल्काि सा सेंधा नमक मिलाकर, दिन में चार बार पियें, किड्नी स्टोन में फायदा होगा।

६. अजवाइन

ये एक बहुत अच्छा यूरीन ऐक्ट्यूऐटर है और किडनी के लिए तो यह किसी टॉनिक से कम नहीं है। किडनी में स्टो्न के गठन को रोकने के लिए अजवाइन का इस्तेमाल मसाले के रूप में या चाय में नियमित रूप से किया जा सकता है।

७. अनार रस

अनार रसकिड्नी स्टोन के लिये बहुत लाभदायक है।

किडनी स्टोन ऐसी बीमारी नहीं है जो कभी ठीक नहीं होती है। इसके लिये जरुरत है पहरेज कि और उन चीजों से बचने की जो स्टोन पैदा करती है। किडनी स्टोन में घरेलू उपचार भी बहुत असरदायक होते हैं तो दवाइयों के अलावा इन घरेलू नुस्खो को अपनाकर इस बीमारी से बच सकते हैं।

प्रिव्हयु इमेज क्रेडिट -टीमनाथन 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon