Link copied!
Sign in / Sign up
23
Shares

जानिए गर्भावस्था में क्यों और कितना ज़रूरी है बेडरेस्ट

   क्या आप मां बनने वाली हैं और सोच रही है की आपके डॉक्टर ने आपको गर्भावस्था के दौरान बैंड रेस्ट करने का सुझाव क्यो दिया है? चिंता करने की कोई बात नहीं है क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं इन नौ महीनों के दौरान आराम करना क्यो जरूरी होता है।

आपके चिकित्सक ने आपको बैडरेस्ट करने की सलाह दी होगी। आमतौर पर बैडरेस्ट गर्भावस्था में 70% महिलाओं को सुझाया जाता हैं, तो इसलिए आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आप अकेली नहीं हैं। बैडरेस्ट करने की मात्रा एक महिला से दूसरे महिला में भिन्न होती है। स्वास्थ गर्भावस्था में बहुत अधिक बैडरेस्ट का सुझाव नहीं दिया जाता हैं, कुछ विशेष स्थितियों में ही डॉक्टर थोड़ा या पूरी तरह बैडरेस्ट करने का सुझाव देते हैं।

गर्भावस्था के दौरान बेड रेस्ट क्या होता है?

   गर्भावस्था के दौरान बैडरेस्ट का मतलब होता है अपनी सामान्य गतिविधियों को भी कम कर के सिर्फ कुछ ही जरूरी गतिविधियों तक सीमित कर देना जैसे नहाना और वाशरूम जाना। कुछ मामलों में जरूरी पड़ने पर डाक्टर आपको अस्पताल में दाखिल कर सकते हैं और बिना डॉक्टर के आप सामान्य स्वच्छता संबंधी कार्यों के लिए भी बैड से नहीं उठ सकतें हैं। पूरी तरह बैडरेस्ट लेने से बहुत ऊर्जा बचती है और गर्भावस्था के दौरान जोखिम से बचने में मदद मिलती है।

गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर क्यों आपको बेडरेस्ट लेने का सुझाव देते हैं?

गर्भावस्था के दौरान निम्न स्वास्थ्य समस्याओं से ग्रस्त होने के कारण डॉक्टर आपको पूरी तरह बैडरेस्ट लेने का सुझाव दे सकते हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार है:

 

रक्तस्राव 

कई बार गर्भावस्था के दौरान रक्तस्राव और खून के निशान होते हैं। हो सकता है आपके डॉक्टर जबतक स्पोटिंग व रक्तस्राव ना रुके तबतक बैडरेस्ट करने का सुझाव दे। कभी-कभार यह पूरी गर्भावस्था के दौरान करना आवश्यक हो जाता है।

इन्कम्पेटेंट सर्विक्स 

इस तरह की समस्या से ग्रस्त महिलाओं को गर्भपात का जोखिम होता है। जब शिशु का विकास प्रारंभ हो जाता है तो सर्विक्स उसका भार संभालने में समर्थ नहीं होता है। आपके डाक्टर तब कुछ टांकों द्वारा आपके सर्विक्स को बंद करने के लिए छोटी से प्रक्रिया करेंगे और आपको बैडरेस्ट का सुझाव देंगे।

रक्तचाप में बदलाव 

अगर गर्भावस्था के दौरान आपके रक्तचाप में उतार चढाव होता है तो आपके डॉक्टर आपको बैडरेस्ट करने का सुझाव देंगें या आपकी गतिविधियों को सीमित करने के लिए कहेंगे। यह उच्च रक्तचाप की स्थिति में किया जाता है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान इस समय एकलेमपसिया बढ़ता है जो जानलेवा हो सकता है।

एक से अधिक शिशु होना

  हालांकि जुड़वा बच्चे हो तो बेडरेस्ट का सुझाव अक्सर नहीं दिया जाता हैं लेकिन तीन या चार शिशु यदि गर्भ में हो तो बैडरेस्ट बहुत आवश्यक बन जाता है।

इसके कुछ अन्य कारण इस प्रकार है:

प्लेसेंटा के साथ समस्या जैसे प्लेसेंटल एक्रेटा, प्लेसेंटा प्रेविया, प्लेसेंटा एब्रप्शन।

समय से पूर्व प्रसव

गर्भपात, प्रीमैच्योर बर्थ और स्टिल बर्थ का इतिहास।

गेस्टिटेशनल डायबिटीज

गर्भावस्था के दौरान बेडरेस्ट के लाभ:

आपके डॉक्टर आपकी रोजाना की जाने वाली गतिविधियों को सीमित कर आपको बैडरेस्ट करने का सुझाव देंगे। इसके बहुत से लाभ हैं जिसके कारण डॉक्टर आपको इसका सुझाव देते हैं,जिससे आप और आपका बच्चा सुरक्षित रहें। इसके कुछ लाभ इस प्रकार है-

बैडरेस्ट से आपके सर्विक्स को बिना किसी दबाव के मुक्त रहने में मदद मिलती है।

बैडरेस्ट से आपके हृदय पर पड़ने वाला तनाव कम होता जिससे रक्तप्रवाह किडनी की ओर बढ़ता है, जिससे द्रव के जमा होने से बचाव मिलता है।

सही तरह बैडरेस्ट लेने से गर्भिशय में रक्तप्रवाह बढ़ता है और शिशु को अतिरिक्त पोषण और आक्सिजन मिलता है।

बैडरेस्ट को केटेकोलामाइन का स्तर कम करने के लिए भी जाना जाता जो हार्मोन शरीर में तनाव के स्तर से जुड़ा होता है, इसके अधिक होने से संकुचन की संभावना बढ़ती है।

गर्भावस्था के दौरान बेडरेस्ट से जुड़ी असहजता से कैसे निपटें?

हालांकि मुलायम व आरामदायक बैड पर लेटना बहुत अच्छा प्रतीत होता है लेकिन आप जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में कम लचीलापन और भूख कम लगने जैसी कई समस्याओं का सामना करेंगे,जी हां यह गर्भावस्था में बैडरेस्ट से जुड़ी हुई है अपने आप को सक्रीय रखने और रक्तप्रवाह बढ़ाने के लिए आप कुछ बातों का ध्यान रख सकते हैं।

एक तरफ ना सोएं

एक तरफ लम्बे समय तक लेटे रहने से गर्भाशय की ओर रक्तप्रवाह कम होता है। अपने एबडोमिन के पास और अपने घूटनों के बीच मुलायम तकिया रखें। उचित लम्बाई का तकिया अपने सर के नीचे रखें और हर आधे घंटे में साइड बदलना ना भूलें।

हल्की एक्सरसाइज

बैड ‌ पर भारी-भरकम एक्सरसाइज करने से बचें। आप मुलायम स्ट्रेस रिलिवर बाल को अपने हाथों से दबा सकते हैं और अपने हाथ व पांव बैड में सिंक करने की कोशिश कर सकते हैं। आप हाथ को और कंधों को गोल घूमा सकतें हैं इससे रक्तप्रवाह बढ़ता है।

स्वस्थ आहार लें

हालांकि आपको कम भूख महसूस हो सकती है लेकिन शरीर की पोषण आवश्यकताओं को पूरा करें और पौष्टिक आहार लें। आप अपने आहार को थोड़ी-थोड़ी मात्रा में बांट सकते हैं, इससे भोजन जल्दी पचने में मदद मिलती है और इससे हार्टबर्न से बचाव मिलता है।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
100%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon