Link copied!
Sign in / Sign up
3
Shares

जानिये आपको देख कर क्यों मुस्कुराते है बच्चे



बच्चे हमेशा हस्ते हुए अच्छे लगते हैं। यह कहावत तो शायद आपने भी सुनी होगी। आपको भी क्या कभी कभी आश्चर्य होता है कि आपको देख कर बच्चे मुस्कुराते क्यों हैं। आपको देख कर भी क्या कोई बच्चा हसने लगता है। ऐसा अकसर ट्रेन, गाड़ी में होता है कि आपके सहयात्री का बच्चा आपको देख कर मुस्कुराता है। कई बार पड़ोसी के बच्चे आपको देख कर मुस्कुराते हैं या फिर आपके बच्चे आपको देख कर हसने लगते हैं। आज हम इसी विषय के बारे में बताएंगे और कुछ अहम व अनोखी बात बताएंगे। इसके मुस्कान के पीछे एक वैज्ञानिक कारण है। कैलिफोर्निया के विश्वविद्यालय में हुए एक शोध से इसका कारण पता चला है। कैलिफोर्निया के विश्वविद्यालय ने वर्ष 2015 में एक जांच की थी जिससे पता लगाया गया कि 4 हफते से लेकर 17 हफते की आयु के बच्चे अजनबी व परिजनों को देख कर मुस्कुराते क्यों हैं।



1- बहुत छोटे बच्चे दूसरो को देख कर इसलिए हसतें हैं क्योकिं वह चाहते हैं उनकी देखभाल करने वाला व्यक्ति मुस्कुराए और खुश रहे। चार महीने या उससे ज्यादा उम्र के बच्चे अपनी मां से बात करने की कोशिश करतें हैं व उन्हें देख कर मुस्कुराते हैं। धीरे धीरे वह सामाजिक व परिवार के रिश्ते समझते हैं और अपने हाव भाव से बात करने की कोशिश करते हैं। यह उनके बात करने का एक तरीका है।

आपको बता दें कि छोटे बच्चे अपनी बात मनवाना जानते हैं और हसना उनकी इसी प्रतिक्रिया में शामिल है। परिवार वालों और खासतौर पर छोटे बच्चो की मां की हमेशा यह इच्छा होती है कि उनका बच्चा ज्यादा से ज्यादा समय के लिए हसाता रहें और खुश रहे। इसी कारण से कई बार बच्चे भी अपनी मां का ख्याल रखते हैं और उनको मुस्कान का तोफा देते हैं। छोटे बच्चो की हमेशा से यही मानसिकता होती है कि वह अपने से ज्यादा आपको खुश रख सकें।



2- अब आपको आश्चर्य होगा कि बच्चे आपकी मुस्कान को ज्यादा समय तक कैसे बनाए रखते हैं। बच्चो को यह मालूम होता है व उन्हें यह आभास रहता है कि अगर वह नही हसेंगें तो उनका ध्यान रखने वाला व्यक्ति भी नही हसेगा। बच्चे इसलिए हमेशा यह कोशिश करते हैं कि वह हमेशा हसते रहें इसलिए वह छोटी छोटी बात पर खुश रहते हैं व मुस्कुराते हैं। ऐसा भी माना गया है कि इस समय के दौरान बच्चे भाव को सीखते हैं और समझते हैं। उन्हें यह समझ आता है कि खुशी बांटने से बढ़ती है और अपने सबसे करीबी के साथ हमें खुशी बांटनी चाहिए।

3- नौ महीने की उम्र के बाद ही ऐसा संभव है कि आपका बच्चा इसलिए हस रहा है क्योंकि वह खुश है और उसे किसी चीज की खुशी है। इस उम्र के बच्चे को कभी गुड्डे या टेडी बीयर के साथ खेलता हुआ देखें आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि वह उसके साथ खेलते हुए खुश होता है और आश्र्चयचाकित रहता है। हर उम्र के बच्चे की मुस्कुराहट के पिछले कई कारण होते हैं और वह अर्थ होते हैं। इंफेंट बीहेवयर और डेवल्पमेंट के एक सर्वे में यह पता चला है कि बच्चे अगर टैडी बीयर या निरजीव वस्तु से खेलते वक्त आपनी मां को या कार्टून को देखते हैं तो इसे एंटीसीपेटरी समाइल कहते हैं।


4- एंटीसीपेटरी समाइल को समाजिक गुण माना जाता है। इस समय के आसपास बच्चे अपने वातावरण को पहचानने लगते हैं और यह उनके जीवन में बढने का एक महत्वपूर्ण कदम होता है। ऐसी उम्र के बीच आपका बच्चा तीन लोगो के साथ अपनी खुशी बांटता है अपने खिलौनो के साथ, आपके साथ और अपने साथ। शोध में यह भी पता चला है कि जितनी कम उम्र में आपका बच्चा एंटीसीपेटरी समाइल देगा व अपने वातावरण को समझेगा बाद में अपने सामज में वह उतना ही सामाजिक बनेगा।

आपको भी कई बार आश्चर्य होता होगा व अब आपको अपने बच्चे की मुस्कान का कारण पता है। छोटे बच्चे हमेशा यह प्रयास करते हैं कि वह अपनी मां को व अपने परिवार को खुश रखें। मुस्कुराहट का एक अर्थ यह भी है की वह आपसे बात करने की कोशिश करते हैं।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon