Link copied!
Sign in / Sign up
27
Shares

जानें क्यों होता है गर्भावस्था में गले में दर्द - इन तरीकों से करें इसका उपाय


  गले में दर्द या फेरिन्जाइटिस में फेरिनेक्स में सूजन होती है। यह अधिकतर वाइरल इंफेक्शन जैसे कोल्ड और फ्लू के कारण होता है और कभी-कभार बैक्टिरियल संक्रमण के कारण भी होता है। गले में दर्द होना थोड़ा तकलीफ़ होता है और गर्भावस्था के दौरान यह चिंता का कारण नहीं है क्योंकि यह कुछ ही दिनों में अपने आप चलें जाता है। आपको केवल इसके लक्षणों को पहचानने और इससे राहत पाने के लिए घरेलू उपायों को जानने की जरूरत हैं। यह है इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें।

क्या गले में दर्द गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है?

 

  इसे साबित करने का कोई वैज्ञानिक प्रामाणिक सबूत नहीं है लेकिन एस्ट्रोजन और प्रोगेस्ट्रोन हार्मोन में बदलाव का परिणाम गले में दर्द के साथ ही जी मिचलाना व सर दर्द भी हो सकता है। हालांकि गले में दर्द होना गर्भावस्था का अहम लक्षण नहीं है लेकिन गर्भावस्था के अन्य लक्षणों के साथ इसे जोड़कर देखा जाना चाहिए। यह आवश्यक लक्षण नहीं है इसलिए सभी गर्भवती महिलाओं को गले में दर्द नहीं होता है।

गले में दर्द के लक्षण और गर्भावस्था के दौरान गले में दर्द से संक्रमण के प्रभाव -

 

गले में दर्द आपको इस प्रकार परेशान कर सकता है।

गले में रेडनेस यानी लालिमा।

निगलने में कठिनाई।

गले में लगातार दर्द।

बुखार ‌।

इयरऐक

लाल सूजे हुए टोंसिल।

होरसेंसिस

आपको सभी लक्षण एक ही समय पर नहीं दिखाई देंगे लेकिन इनका समन्वय दिख सकता है। अगर यह लक्षण सात दिन से अधिक रहते हैं तो अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

गर्भावस्था के दौरान गले में दर्द किन कारणों से होता है?

इन कारणों से आपको गर्भावस्था के दौरान गले में दर्द हो सकता है

एसिड रिफ्लेक्स

एलर्जी

गले की मांसपेशियों में खिंचाव ( जोर से बात करना, लगातार बोलना)

रसायन और प्रदूषण के कारण

फंगल संक्रमण

गले में इंफेक्शन खांसी और ज़ुखाम के कारण फैलने से।

सीनुसेटाइज

गले में संक्रमण और दर्द से राहत पाने के लिए पांच घरेलू उपाय -

गले के दर्द से राहत पाने के लिए कुछ आसान उपाय रसोईघर में मौजूद हो सकते हैं। यह है उनकी सूची:

नींबू शहद की चाय

शहद गले को आराम पहुंचाने में मदद करता और नींबू बैक्टीरिया को समाप्त करने और म्यूकस साफ करता है। विधि: एक कप पानी उबालें। शहद और नींबू इसमें मिलाएं। इससे ठंडा होने दें और फिर पीएं।

भाप लें या ह्यूमिडिफायर

भाप लेने से म्यूकस मेम्बरेन नरम पड़ता है और आपको सूखे गले से राहत मिलती है। आप अपने कमरे की हवा में नमी बनाए रखने के लिए ह्यूमिडिफायर का इस्तेमाल कर सकते हैं। कैसे इस्तेमाल करें : एक बड़े बर्तन में पानी उबालें। इस भाप में कुछ देर सांस ले।

नमक के पानी से गरारे

यह सबसे सुरक्षित घरेलू नुस्खा है। नमक का पानी गले के मेंमबरेन को हाइड्रेट करता है और जलन को शांत करता है। कैसे इस्तेमाल करें: आठ आउंस गर्म पानी में एक चम्मच नमक मिलाएं। दर्द से राहत पाने के लिए हर एक घंटे में गरारे करें।

केमोमाइल चाय

केमोमाइल चाय प्राकृतिक रूप से दर्द से राहत पहुंचाती है और बैक्टीरिया को समाप्त करती है। यह सूजन को कम करने और तकलीफ को शांत करने में मदद करता है। विधि: एक कप पानी मिलाएं। केमोमाइल टी-बैग को पांच मिनट के लिए कप‌ में डालें। इसे निकालकर थोड़ा शहद और पानी मिलाएं।

अदरक की चाय

अदरक की चाय में एंटीफंगल और एंटी बैक्टिरियल गुण होते हैं। इससे गले में सूजन कम करने में मदद मिलती है। विधि : एक कप पानी उबालें और छिला या कसा हुआ अदरक उसमें डालिए। इसे पांच मिनट उबलने दें और मिठास के लिए चाय मिलाएं। इसे असरदार बनाने के लिए आप इसमें मिंट मिलाएं।

यह सभी घरेलू उपाय असरदार साबित होते हैं लेकिन अगर यह काम ना करें तो अपने डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon