Link copied!
Sign in / Sign up
11
Shares

जानें क्या फर्क है लाल और सफ़ेद स्ट्रेच मार्क्स में और कैसे हो सकता है इसका समाधान


ऐसे तो वक़्त के साथ-साथ लोगों के शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं और उन्हीं बदलावों में से एक है स्ट्रेच मार्क्स, ये जितनी जल्दी और आसानी से आते हैं उतनी आसानी से जाते नहीं है। महिलाओं का जब वजन घटता या बढ़ता है या प्रेगनेंसी के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होते हैं, वहीं पुरुष अगर लगातार जिम या कोई खेलकूद करें तो उनको भी स्ट्रेच मार्क्स हो सकते हैं।  स्ट्रेचमार्क्स शरीर के कुछ खास हिस्सों जैसे पेट, स्तन, जाँघों, कमर, पैरों व् बाहों में उभरते हैं। यह शरीर में बदलावों के वजह से होते हैं, ऐसे तो स्ट्रेच मार्क्स से लोगों को कोई हानि नहीं होती परन्तु, इसकी वजह से कभी-कभी लोगों को थोड़ा-बहुत अजीब ज़रूर लगता है।

जानें कितने प्रक्रार के होते हैं स्ट्रेच मार्क्स

लाल स्ट्रेच मार्क्स

लाल रंग के स्ट्रेच मार्क्स एकदम शुरुआत में होते हैं या कहें तो यह शुरूआती दौर के स्ट्रेच मार्क्स होते हैं जिसका इलाज़ संभव है। ये लाल रंग के इसलिए होते हैं क्यूंकि ये ब्लड वेसेल्स को दिखाते हैं और विभिन्न प्रकार के टॉपिकल क्रीम्स के ज़रिये कोलेजन को पुनर्स्थापित किया जा सकता है जिससे निशान जल्दी से ठीक हो सकते हैं। इसके अलावा लेज़र ट्रीटमेंट से भी इनको ठीक किया जा सकता है। परन्तु, अगर आप गर्भवती हैं तो इन चीज़ों से बचे और अगर आप ऐसा कुछ कराने का सोच भी रही हैं तो एक बार अपने डॉक्टर से ज़रूर परामर्श लें।

सफ़ेद स्ट्रेच मार्क्स

जब आपकी त्वचा का खिंचाव लम्बे समय तक होता है या जब वक़्त रहते आप शुरूआती दौर के लाल रंग के स्ट्रेच मार्क्स पर ध्यान नहीं देते हैं तो यह सफ़ेद या चांदी के रंग के स्ट्रेच मार्क्स हो जाते हैं और यह निशान आपके शरीर पर लम्बे समय तक रहते हैं। इसका इलाज़ कोई भी टॉपिकल क्रीम नहीं कर सकते हैं, हालाँकि 'माइक्रोडर्माब्रेसन' (Microdermabrasion) जैसे इलाज़ के ज़रिये थोड़ा आपके शरीर के बनावट को सुधारने और पॉलिश लगने में मदद हो सकती है और इसके अलावा 'एक्सीमर लेजर' (Excimer Laser) है जो रंग को फिर से पहले जैसा करने में मदद कर सकता है परन्तु, इन उपचारों का रिजल्ट अलग-अलग व्यक्ति के शरीर के अनुसार निर्भर करता है। हालाँकि सफ़ेद स्ट्रेच मार्क्स का अभी तक कोई पूरी तरह से कारगर उपचार नहीं आया है। 

ध्यान रहे -

इसलिए अगर आपको नहीं चाहिए अपने शरीर पर स्ट्रेच मार्क्स तो इसे अनदेखा ना कर के वक़्त रहते इसपर ध्यान दें।अगर ठीक ना हुआ, तो कम से कम दाग के हल्के होने की तो संभावना हो सकती है। ध्यान रहे की इन उपचारों को करवाने से पहले किसी अच्छे डॉक्टर से परामर्श लें क्यूंकि सबका शरीर एक जैसा नहीं होता और हो सकता है इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हो जाए इसलिए पहले ही आप डॉक्टर से अच्छी तरह से बात करें और अगर आपको किसी चीज़ से एलर्जी है या आपकी त्वचा सेंसिटिव है तो अपने डॉक्टर को यह सब बातें ज़रूर बता दें, क्यूंकि एक कहावत तो आप सबको पता है की 'प्रीकॉशन इज़ बेटर देन क्योर'।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon