Link copied!
Sign in / Sign up
6
Shares

घी खाना होता है सेहत के लिये अच्छा, जानिये कैसे

देशी घी किसे नहीं पंसद होता है, लेकिन ऐसे बहुत से लोग जो अपनी डायट को लेकर काफी सचेत होते हैं वह घी का इस्तेमाल करने से डरते हैं। लोगों की यही धारणा होती है कि घी खाने से वजन बढ़ता है, लेकिन ऐसा नहीं है बशर्ते घी मिलावटी ना हो। भारत में हमेशा से ही घी को खाना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। केवल शहरों में ही बल्कि गांवो में लोग घी को काफी महत्व देते है। आज से नहीं बल्कि पुराने समय से घी को खाना सारी बीमारियों से दूर रहने का सबसे अच्छा उपाय था। लेकिन जैसे-जैसे समय बदलता गया घी का इस्तेमाल लोग कम करने लगे, जिसकी वजह घी में मिलावट और कई अन्य कारण थे

1) देशी घी अच्छे से डायजिस्ट होता है- Desi ghee for digestion in hindi 

2) आयुर्वेद में देशी घी सबसे अच्छी दवा-  Desi ghee is best medicine in ayurveda in hindi 

3) देशी घी वजन कम करता है – Desi ghee for weight loss

4)  हार्मोन संतुलन करता है –Desi ghee good for hormonal balance in hindi 

5) प्रेगनेंसी के दौरान देशी घी के फायदे- Desi ghee advantage in pregnancy 

6) देशी घी को एक औषधि के रुप में भी इस्तेमाल किया जाता है, आइये जानते हैं इसके औषधि गुण- Health benefits of desi ghee in hindi

 

लेकिन एक रिसर्च के अनुसार घी को लेकर हमारे पूर्वज गलत नहीं थे, देशी घी हमारी हेल्थ के लिये काफी अच्छा है। देशी घी ना केवल बड़ो के लिये बल्कि बच्चों की हेल्थ के लिये भी काफी अच्छा होता है। आइय़े जानते हैं देशी घी से होने वाले फायदे-

देशी घी अच्छे से डायजिस्ट होता है- Desi ghee for digestion in hindi 

लोगों का मानना है कि देशी आसानी से नहीं डायजिस्ट होता है, लेकिन ऐसा नहीं देशी घी में Butyric acid काफी मात्रा में पाया जाता है। इसलिये देशी घी आसानी से डायजस्टि हो जाता है, इसके अलावा देशी घी में आसानी से पचने वाले सैचुरेटेड फैट होते हैं। जो कि हेल्थ के लिये भी अच्छे होते है, इसलिये देशी घी इन तत्वों की वजह से वनस्पति घी, तेल की तुलना में आसानी से पच जाता है। 

आयुर्वेद में देशी घी सबसे अच्छी दवा-  Desi ghee is best medicine in ayurveda in hindi 

देशी घी को आयुर्वेद में काफी अच्छा माना जाता है, आयुर्वेद के जानकारों के अनुसार देशी घी एसिडिटी के लिये काफी लाभदायक है। साथ ही यह पेट की समस्याओं से भी राहत दिलाता है। और कान्सटिपेशन के लिये भी अच्छा और शरीर से टोक्सिन को बाहर करता है। देशी घी का प्रयोग आप कई तरह से कर सकते हैं जैसे कि देशी घी को दाल में डालकर ले सकते है। यदि आप बुखार या पेट की समस्या से परेशान है तो दो चम्मच देशी घी दाल में डालकर या खिचडी में डाल लें इससे ना केवल टेस्ट अच्छा होगा बल्कि आपकी हेल्थ के लिये भी बेहतर होगा।

देशी घी वजन कम करता है – Desi ghee for weight loss in hindi 

जब भी आप वजन कम करने का सोचते हैं तो ऐसे में आपको यह सलाह दी जाती है कि देशी घी से दूर रहिये। लेकिन आपको जानकर यह आश्चर्य होगा कि देशी घी में Conjugated Linoleic acid भी पाया जाता है जो कि वेट कम करने में काफी प्रभावकारी है। साथ ही देशी घी में पाये जाने वाले सरल विघटित सैचुरेटेड फैट शरीर के जमे, जिद्दी फैट को घटाने में मदद करता है और मेटाबोलिज्म तेज करता है। इसलिए अगर आप वेट कम करने का सोच रहे हैं तो देसी घी से डरिये नहीं और संतुलित मात्रा में देशी घी को अपनी डायट में शामिल करे। अगर देशी घी को आप फैट फ्री डायट में इस्तेमाल करते हैं तो भी यह काफी अच्छा है। जैसे कि अगर आप डायटिंग कर रहे हैं तो किसी भी सब्जी में एक चम्मच घी जरुर डालिये।

 हार्मोन संतुलन करता है –Desi ghee good for hormonal balance in hindi 

हार्मौनल इमबैंलस की समस्या से हर किसी महिला में होती है, जिसकी वजह से थायराइड, पीसीओडी, औऱ कई तरह के हार्मौनल बदलाव होती है। ऐसे में देशी घी को खाना काफी फायदेमंद हो सकता है। क्योंकि देसी घी में विटामिन A, विटामिन K2, विटामिन D, विटामिन E जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जोकि हार्मोनस को बैलेंस करने के लिये काफी जरुरी है।

प्रेगनेंसी के दौरान देशी घी के फायदे- Desi ghee advantage in pregnancy in hindi 

प्रेगनेंसी के समय हर महिला को हेल्दी डायट लेनी की सलाह दी जाती है, ऐसे में देशी घी का इस्तेमाल करना मां और बच्चे की सेहत के लिये बहुत अच्छा होता है। प्रेगनेंसी के दौरान अच्छे से घी को खाइये और अगर घर का बना घी हो तो यह आपकी हेल्थ के लिये औऱ भी बेहतर है। डिलीवरी के बाद घी खाना और भी जरुरी हो जाता है क्योंकि आपको फीड करवाना पडता है। ब्रेस्टफीडिंग के दौरान आपको अच्छी डायट लेनी चाहिए ऐसे में आप घी के लड्डू, घी की पंजीरी, ड्रायफ्रूटस को घी में फ्राई करके खाये। इससे आप अच्छे से फीड तो करवा पायेंगी साथ ही आपकी सेहत और बच्चे की भी सेहत अच्छी रहेगी।

देशी घी को एक औषधि के रुप में भी इस्तेमाल किया जाता है, आइये जानते हैं इसके औषधि गुण- Health benefits of desi ghee in hindi 

1- देशी घी मेमोरी के लिये भी काफी अच्छा है, यदि गाय के घी से सिर की मालिश की जाये तो मेमोरी तो तेज होगी साथ ही सिर की बीमारियों में भी आराम मिलेगा।

2- यदि तलवों और हाथ पैरों मे जलन हो तो भी घी को जलन वाली जगह पर लगा दे। इससे काफी हद तक जलन से आराम मिलेगा।

3- अगर हिचकी आ रही हो तो गर्म पानी में देशी घी मिलाने से हिचकी बंद हो जाती है।

4- आजकल बरसात के मौसम में अक्सर सर्दी जुकाम, खांसी हो जाता है, ऐसे में घी एक चम्मच, मिश्री एक चम्मच और 15 काली मिर्चें मिलाकर सुबह-शाम दो बार जरुरत के अनुसार ले। ऐसा करने से गला बैठना और सूखी खांसी ठीक हो जाती है। लेकिन इसे लेने के बाद कुछ घण्टे पानी न पिएं।

5- अगर आपको पुरानी खांसी हो गयी है तो देशी घी और गुड़ आग पर गर्म करें, पिघलने पर खाये, इसके साथ ही सीने में घी और सेंधा नमक मिलाकर मालिश करे। इससे पुरानी खांसी में आराम मिलता है।

6- सर्दियों में अक्सर होंठ फट जाते है, ऐसे में नाभि में हल्का सा देशी घी लगा लें। इससे होंठ काफी हद तक ठीक हो जायेगें।

7- यदि मुंह में छाले हो गये है तो छाले पर घी लगा लें इससे काफी आराम मिलेगा। घी के यही नहीं बल्कि कई सारे औषिधीय गुण है लेकिन किसी भी चीज पर अमल करने से पहले डॉक्टर से अवश्य सलाह लें।

घी के कई सारे फायदे हैं लेकिन घी को सही और उचित मात्रा में ही खाया जाये। आपके हेल्थ के लिये सबसे बेहतर घर का बना घी ही होता है। घी खाइये और हेल्दी रहिये।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon