Link copied!
Sign in / Sign up
6
Shares

गर्भावस्था की एक और समस्या- लार आना

 

 गर्भावस्था कुछ परेशान कर देने वाले अनुभवों के साथ आती है। उनमें से एक है अत्याधिक लार, खासतौर पर जब आपको मार्गिंग सिकनेस हो। इसके बारे में परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह अस्थाई स्थिति है और कुछ हफ्तों के बाद चली जाएगी।

हम आपको बताएंगे की गर्भावस्था के दौरान ज्यादा लार क्यों बनती है और यह कब आपके लिए अच्छा है और कब बुरा।

गर्भावस्था के दौरान अत्याधिक लार बनना।

अत्यधिक लार बनना या हाइपरसेलिवेशन लगभग 2.5% प्रतिशत महिलाओं को गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों के दौरान होता हैं।

इसके लिए अन्य मेडिकल टर्म जो इस्तेमाल किया जाता है वह टिलिजम या सियलारिया है। इसे आमतौर पर जी मिचलाना या उल्टी से जोड़कर देखा जाता है और गर्भावस्था के 12 से 14 हफ्तों में जी मिचलाने की समस्या में सुधार होता है।

जर्नल ऑफ आब्स्टेट्रिक,गायनाकोलोजी और नियोनेटल नर्सिंग के अध्ययन अनुसार 15-45 वर्ष की सामान्य यानी नान-प्रेगनेंट महिलाओं में सामान्य लार का स्त्राव 22ml प्रत्येक घंटे ( लगभग 530ml प्रत्येक दिन) होता है। लेकिन अधिक लार निकलने यानी हाइपरसेलिवेशन में यह बढ़कर 1900ml प्रत्येक दिन हो जाता है।

अधिक लार बनना गर्भावस्था के दूसरे या तीसरे हफ्ते के दौरान शुरू होता है और तीसरे तिमाही के अंत तक कम हो जाता है। हालांकि कुछ महिलाओं में यह स्थिति प्रसव तक बनी रह सकती है। आइए जानते हैं इस स्थिति के पीछे का कारण।

अधिक लार क्यों बनताहै?

अधिक लार बनने के उचित कारण की कोई जानकारी नहीं है। हालांकि यह अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के कारण हो सकता है जैसे:

हार्मोनल बदलाव - गर्भावस्था में आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव।

मार्निंग सिकनेस - अधिक मार्निंग सिकनेस या हाइपरमेसिस ग्रेविडेरम के कारण मुंह में अधिक लार बन सकती है क्योंकि आप उल्टी आने से बचने के लिए कम थूक निगलते हैं।

हार्टबर्न या एसिडिटी - पेट में मौजूद अम्लीय तत्व फैलते गर्भाशय के कारण एसोफैगस की ओर धकेले जातें हैं जिससे तकलीफ और जलन होती हैं। एसोफैगस आपके स्लेवरी ग्लैंड अधिक लार उत्पादित करने के लिए जोर देती है ताकि पेट में एसिड के कारण उत्पन्न जलन को सामान्य किया जा सके।

ओरल इंफेक्शन - टूथ डिके या ओरल इंफेक्शन जैसे कैविटी इंफेक्शन या डेंटल कैरिज के कारण भी यह हो सकता है।

दवाईयां - कुछ दवाइयां जैसे ट्राक्विलाइजर,एंटीकाल्लेंस,एंटीकोलेनेस्टेसर्स और लिथियम जब यह आपसे में स्लेवरी ग्लैंड के साथ घुलते है तो अत्यधिक लार बनाते हैं।

ज्यादा थूक बनना एक गंभीर समस्या नहीं है लेकिन परेशानी उत्पन्न करती है। मार्निंग सिकनेस के साथ टिलिजम गर्भवती महिलाओं के जीवन को मुश्किल बनाता है। लेकिन अच्छी खबर यह है की आप इस समस्या से निजात पा लेंगे।

गर्भावस्था के दौरान हाइपरसेलिवेशन से कैसे निपटें

आप अधिक लार बनने की अप्रिय समस्या से घर पर ही कुछ सामान्य चीजों से राहत पा सकते हैं।

अधिक कार्बोहाइड्रेट या स्ट्राच युक्त भोज्य पदार्थ का सेवन करने से बचें।

ओरल या डेंटल इंफेक्शन से बचने के लिए नियमित रूप से ओरल चैकअप करवाएं। गर्भावस्था के दौरान अधिक लार बनना मसूड़ों और मुंह की समस्या से जुड़ा हुआ है। अगर कोई संक्रमण हुआ तो आपके डेंटिस्ट आपको कुछ एंटीबायोटिक दे सकते हैं।

थोड़े अंतराल में कम मात्रा में भोजन करें।

दिन में चार से पांच बार दांत ब्रश करने और माउथवॉश का इस्तेमाल करने से कुछ हद तक अधिक लार बनने की समस्या कम हो सकती है।

पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं और अपने आप को हाइड्रेट रखें। इससे अतिरिक्त उत्पादित हुई लार को निगलने में मदद मिलती है।

शुगर-फ्री कैंडी चबाना, चिविंग गम या मिंट चबाने से आपको ध्यान भटकाने में मदद मिलेगी। साथ ही अतिरिक्त लार निगलने में भी।

बर्फ का टुकड़ा चूसने से आपका मुंह सुन हो जाएगा और इससे कम लार बनेगी।

नींबू चूसना या अदरक चबाने से कुछ हद तक असहजता से राहत मिलेगी। इन घरेलू उपायों को आजमाने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लेना ना भूलें।

सेब व गाजर जैसी फल व सब्जियां खाएं।

अगर लार निगलने से आपका जी मिचलाता है तो अतिरिक्त लार को साफ कपड़े,कप या टिशू में थूक दें।

आप होमियोपैथी या आयुर्वेदिक दवाएं का भी इस्तेमाल कर सकती हैं लेकिन इससे पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

अगर आपको उल्टी होती है तो अपने डॉक्टर को ज़रूर मिलें।

अगर यह स्थिति गंभीर नहीं है और आपको इससे समस्या नहीं है तो आपको यह जानकर खुशी होगी की अतिरिक्त लार बनना वास्तव में आपके लिए अच्छा है।

अधिक लार बनने के फायदे:

इससे पेट के एसिड को न्यूट्रलाइज रखने में मदद मिलती हैं। यह दांतों को नुकसानदेह बैक्टीरिया से बचाता है। भोजन को तोड़कर आसानी से पचाने में मदद मिलती है। मुंह लूब्रिकेट रहता है।

अधिक लार के नुक्सान :-

इससे कोई नुक़सान नहीं होता है। यह ना ही आपके शिशु को नुक्सान पहुंचाएगा और ना ही इससे कोई शारीरिक क्षति होती है। इसका एक नकारात्मक प्रभाव यह है की इससे उल्टी हो सकती है जिससे डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। हालांकि पर्याप्त मात्रा में पानी पीकर आप इस समस्या से बच सकते हैं।

अधिक लार बनना नुकसानदेह नहीं है। सबसे अच्छी बात यह है की मार्निंग सिकनेस की तरह गर्भावस्था में वृद्धि के साथ आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं। तबतक ऊपर बताए गए आसान उपायों का पालन कर के आप इस स्थिति से निपट सकते हैं।

हमारे ब्लॉग को पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद, हम आशा करते हैं की ये नया साल आपके लिए ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये| टाइनीस्टेप की ओर से न्यू यर के लिए आपके लिए एक तोहफ़ा, क्लीक करें और पाएं खुशियाँ यहाँ

 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon