Link copied!
Sign in / Sign up
49
Shares

गर्भ में शिशु से सम्बन्ध मज़बूत करने के 10 तरीके


वैसे तो माँ और शिशु का अटूट सम्बन्ध तब से बन जाता है जब शिशु माँ के गर्भ में आता है। कुछ माँए गर्भावस्था से ही यह रिश्ता महसूस करने लगती हैं और कुछ माँए जन्म देने के बाद। यह बात सच है की काफ़ी महिलाओं को गर्भावस्था में शिशु से सम्बन्ध बनाने में दिक्कतें होती हैं। तो आइए जानते हैं  गर्भावस्था में शिशु के और भी करीब कैसे आएँ ?

1.अपनी आवाज़ का इस्तेमाल करें।

जब आपका बच्चा इस दुनिया में आएगा तो वो आपकी आवाज़ सुनकर आपकी तरफ बढ़ेगा मानो वो इस आवाज़ को पहचानता हो। ये इसलिए क्यूकि उसने गर्भावस्था में आपकी आवाज़ बहुत बार सुनी है, कभी उसकी नानी से बात करते, या कोई प्रेजेंटेशन देते या शॉपिंग करते। दिन में कुछ समय निकालकर अपने शिशु से बात करें जैसे की - जब वो इस दुनिया में आएगा तो आप दोनों साथ क्या क्या करेंगे, आप का दिन कैसा रहा आदि। आप ऐसा देखने लगेंगे की वो आपकी बातों का जवाब अपने तरीके से देने लगेगा/लगेगी, कभी लात मारकर तो कभी हिलकर।   

2 . एक खुशहाल फोटो निकाल लें।  

एक चीज़ जिससे गर्भ में शिशु से सम्बन्ध में दिक्कत होती है वो यह है कि माँ को उसका लुक नहीं पता होता। अस्पताल से आये स्कैन्ड फोटोज के साथ कुछ वक़्त बिताएँ। इससे अपनापन लगने लगेगा।  

3. योगा

योग आपको आपकी रोज़ की दिनचर्या से कुछ वक़्त चुराकर आपके शिशु को देगा। इसके अतिरिक्त ये आपके राहत का समय भी बनता है। इससे आप अपने बच्चे के साथ कुछ वक़्त बिता पाते हैं।    

4. पिता को भी शामिल करें।  

सिर्फ आप ही नहीं हैं जो ये रिश्ता मज़बूत चाहते हैं, बल्कि शिशु के  पिता भी इसकी उतनी ही चाह रखते हैं।  तो जब भी आपका शिशु आपको लात मारे, आप अपने पति का हाथ अपने पेट पर रखें और उन्हें भी यह महसूस कराएँ। वो आपका पेट सहला के उसे जवाब भी दे सकते हैं। वो आपके और शिशु के लिए किताब भी पढ़ सकते हैं। ये आप तीनों के बीच का रिश्ता और भी मज़बूत करेगा।   

5. अपने शिशु के लिए तोहफा बनायें।  

अपनी दिनचर्या में से कुछ वक़्त ऐसा रखें जहाँ आप अपने आने वाले शिशु के लिए कुछ बनायें।  जैसे फोटो फ्रेम टी, क्ले कास्ट आदि।  

6. अपने बेबी बम्प की फोटो लें।  

अपने बेबी बम्प की फोटो ना ही आप एक अच्छी याद की तरह रख पाएँगे बल्कि शिशु के ग्रोथ को देख भी पाएँगे। यह आपको हर बार याद दिलाएगा की आप माँ बनाने के करीब आती जा रहीं हैं।

7. जर्नल  

जर्नल आपका ध्यान आपकी तरफ रखने में मदद करता है। घबराईए मत आप कुछ भी लिख सकती हैं, जैसे आपको क्या फील हो रहा है, आप क्या करना चाहती हैं। बस अपनी ईमानदार भावनाएँ व्यक्त कर दें।  

8. मदर ब्लेसिंग 

यदि आपको अपने शिशु से गेहरा रिश्ता महसूस करने में  दिक्कत है तो आप ये जश्न का आयोजन कर सकती हैं। इस जश्न में  लोगों से उपहारो के बजाये दुआएँ ली जाती हैं। काफी सारी महिलाएँ एकत्रित होकर एक दूसरे से कहानिया बाँटती हैं और होने वाली माँ को बहुत सारा प्यार और आशीर्वाद भी देती हैं।

9. अपनी अच्छी आदतों में ध्यान दें

कई माएँ गर्भ में आये अपने शिशु से इसलिए भी सम्बन्ध नई बना पाती क्यूकि वो इसी चिंता में रहती हैं की वो कभी अच्छी माँ बन भी पाएँगी या नहीं। आपकी चिंता जायज़ है परन्तु  इसका कोई लाभ नहीं है। इसके बजाये आप अपनी अच्छी बातों पे ध्यान दें जो आपको एक अच्छी माँ बनाएगी।  नकारात्मक सोच से जितना हो दूर ही रहें।

10. आराम करें

बच्चे के आने की तैयारी में बहुत काम होता है पर सारा काम आज ही नहीं ख़तम करना है। आराम से काम करें। अच्छी बातें सोचें और थोड़ा वक़्त अपने शिशु को भी दें। सम्बन्ध ना महसूस करना आम बात है और इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। ऊपर दिए बातों को ध्यान में रखें और अंतर नज़र आएगा। इन्ही ज़रूरी बातों को दूसरों को भी शेयर करें।  

 

अपना ख्याल रखें।  

Click here for the best in baby advice
What do you think?
50%
Wow!
50%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon