Link copied!
Sign in / Sign up
327
Shares

गर्भावस्था के दौरान यात्रा करते समय 6 चीज़ें ध्यान में रखें

गर्भावस्था की हालत में अगर आप एक कम समय की छुट्टी का सोच रहे हैं, एक ज़रूरी काम के लिए यात्रा, या फिर बस 4 घंटे कि सैर, यह ज़रूरी है कि आप अपने आराम और स्वास्थ्य पर ज़्यादा ध्यान दें| बस कुछ आसान रणनीतियों से आप यात्रा में होने वाली घबराहट को कम कर सकती हैं|  दिए गए टिप्स आपके गर्भावस्था की हालत में यात्रा को अच्छा बना सकते है|

1. जाने की जगह चुनना

ऐसी जगह चुने जहाँ आपको ज्यादा घूमना न पड़े क्योंकि लम्बे समय की विमान यात्रा आपके लिए असुखद हो सकता है| कोई ऐसी जगह ढूंढे जो दो या तीन घंटे के समय में आता हो| इससे आप अपनी छुट्टी का मज़ा ले सकती हैं | ऐसी जगह जहाँ पर टीकाकरण की ज़रुरत ना पड़े| उन जगहों पर नहीं जाएँ जहाँ मच्छर से उत्पन्न रोग जैसे मलेरिया, डेंगू या जिका होने की आशंका हो| ऊंचाई पर स्थित शहरों से दूर रहें और स्कीइंग, स्नोबोर्डिंग जैसी खतरनाक गतिविधियो से दूर रहें| अपने समय में तेज़ी से चलना, थोडा सा तैरना और बीच बीच पर योग करें|

2. हमेशा योजना बनाये

थोडा आगे के बारे में सोचने से आप समय बचा सकते हैं| यात्रा पर ले जाने के वस्तुओं की एक सूची बनाये जिससे आपको आपकी यात्रा व्यवस्थित होगी| अधिकतर महिलाओं को गर्भावस्था में घबराहट, परेशानी और थकान महसूस होती है| दुसरे त्रैमासिक का फ़ायदा उठायें क्योंकि इस समय आपको सुबह की घबराहट कम होगी और थकान कम होगी| ३६ या ३८ गर्भावास्ता के हफ़्तों में यात्रा करना कम कर दें| यात्रा करने के लिए अपना समय लें| सारी तैयारियां पहले से करलें, जैसे विमान में अपनी सीट(बाहर की सीट अच्छी है क्योंकि बाथरूम जाना अधिक होता है) और अपने साथ एक तकिया अपने पीठ के दर्द के लिए या सर को आराम देने के लिए अपने साथ ले के चलें|

3. जन्म के पूर्व के रिकार्ड्स अपने साथ रखें

आप जहाँ भी जाएँ, अपने साथ यह रिकार्ड्स और मेडिकल नोट्स हमेशा ले के चलें| और जब अपनी यात्रा की योजना बना रहे हैं, तो यह ध्यान रखें कि आपको अस्पताल और मेडिकल की सुविधा ज़रूर मिले| अगर आपको यात्रा के समय कोई लोकल डॉक्टर से इलाज करवाना पड़े, तो आपके पास अपने रिकार्ड्स रहेंगे जो आपके गर्भावस्था के स्थिति के बारे में जानकारी दे सकता है| अगर आपके पास स्वास्थ्य बीमा है तो उसका प्रमाण अपने साथ हमेशा रखें|

4. पोषण मे समझौता न करें

गर्भवती महिलाओं को रोज़ ८-१२ गिलास पानी पीना चाहिए, जिससे डीहाएड्रेशन से आप बची रहें और इससे एम्नोयोटिक फ्लूइड बढ़ता है और स्तन का दूध का उत्पदान अच्छे से होता है, | जब आप खाने के पैक कर रहे हैं, तो फल और सब्जियों को मत छोड़ना| यह आपको अच्छी मात्रा में में विटामिन और खनिज देंगे,| ज्यादा नमक वाले खाने से दूर रहें क्योंकि यह तरल पदार्थों की प्रतिधारण करते हैं और सूजन आ सकती है| सूखे फल, सिरीअल और ओट्मील बिस्किट्स बढ़िया विकल्प हैं|

5. सही तरह से पैकिंग करें

आराम से रहना सबसे ज़रूरी है,ख़ासकर गर्भावस्था में| आपके रूप में सही कपडे, जूते और सामान बहुत बड़ा अंतर दिखाता है| अगर आपके चलने का ज्यादा मौका है तो आरामदायक जूते पैक करें| ब्लिस्टर पैड्स भी ले जा सकते हैं अगर जूते पैरों में सूजन दें| अगर आप कई हफ़्तों के लिए बाहर जा रही हैं तो ऐसे कपडे पैक करें जो आपके बढ़ते पेट को आराम दें| गरम दिनों के लिए सूती कपडे और ठन्डे मौसम के लिए गरम और आरामदायक कपडे पैक करें|

6. सही समय पर ब्रेक लें

अच्छे से आराम करने से आपको ताजगी महसूस होगी जिससे आप अपनी छुट्टी में मज़े कर सकते हैं| दिन में कई ब्रेक लें और उन जगहों में जाएँ जहाँ आप अपने पैरों को आराम दे सकती हैं| बैठकर, मौसम का मज़ा ले और अपनेआप को ताज़ा महसूस करवाने के लिए, समय निकलें| इसे अपना ख़ास समय बनाये और ध्यान रखें कि आप आराम ले रहीं हों| हर घंटे कुछ हल्केआसान व्यायाम करें जो सूजन, एसिडिटी और पैर में दर्द को कम करेगा| अगर हो सके, तो उठकर इधर-उधर चलें| अगर आप गाडी चला रहें हैं, तो हर डेढ घंटे एक ब्रेक लें| आप कम्प्रेशन स्टॉकिंग्स भी पहन सकती हैं जो ब्लड सर्कुलेशन को लम्बे यात्रा में ठीक रखेगा| अगर आपकी पीठ दुख रही है, तो एक छोटा तकिया या जम्पर अपने पीठ के निचले हिस्से में रखें|  

आशा करते है कि आपकी यात्रा सुखद और आरामदायक हो !

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon