Link copied!
Sign in / Sign up
8
Shares

जानें गरम मसालों के गुण, फ़ायदे, नुकसान, गरम मसाले की सामग्री व तैयार करने की सरल विधि

गरम मसाला भारत में सबसे अधिक प्रचलित मसालों में से एक है। गरम मसाले के अनेकों औषधीय फ़ायदे है और आमतौर पर गरम मसाला कई सामग्रियों को मिश्रित करके तैयार किया जाता है। गरम मसाले का सेहत पर विशेष प्रभाव पड़ता हैं, पर क्या वास्तव में गरम मसाला स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद है? आइए जानते हैं गरम मसाले के फायदे, नुकसान, गुण, सामग्री, प्रभाव, उपयोग और तैयार करने की विधि।

 

गरम मसाले का स्वास्थ्य पर पड़ने वाला प्रभाव: effects on health of garam masala in hindi

गरम मसाला 32 मसालों का प्रयोग करके तैयार किया जाता है और गरम मसाला हिंदुस्तान के सबसे प्रचलित मसालों में से एक है। स्वास्थ्य के लिए गरम मसाला फायदेमंद होता है और गरम मसाले के कुछ प्रचलित फायदे नीचे सूचीबद्ध किए गए हैं:

गरम मसाला निम्न स्वास्थ्य समस्याओं के लिए फायदेमंद होता है: 

  1. बीमारियों से लड़ना और प्रतिरक्षा प्रदान करना - give immunity to protect your health in hindi
  2. दर्द और सूजन से राहत पहुंचाना - avoid pain and swelling in hindi 
  3. (एंटी एजिंग) बढ़ती उम्र के प्रभावों को कम करना - increses your age in hindi 
  4. वज़न कम करने में मदद करना - help for weight loss in hindi
  5. शरीर में विटामिन, मिनिरल्स और प्रोटीन के अवशोषण को बढ़ाना - in body increses vitamin, minarals, and protin in hindi 


 

  1. (गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल) पाचन तंत्र की समस्या, (हार्टबर्न) जलन और खट्टी डकार व साथ ही पेट की तकलीफ़ से राहत पहुंचाना
  2. ग्लाइसेमिक सूचकांक को कम करके रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) के स्तर को कम करना
  3. पेट की समस्या से निजात
  4. शरीर का विषहरण (डिटोक्सफाइ)
  5. दुर्गंध दूर करना
  6. गरम मसाले की सामग्री के अद्भुत फायदे: 
गरम मसाला कई मसालों से युक्त होता है। इनमें से अधिकतर मसाले सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते हैं और कई समस्याओं का समाधान करने में मदद करते हैं जैसे कि जीरा, इलाइची और धनिया।

1) जीरा -

लौह तत्व से भरपूर होता है, जिससे कि गरम मसाला रक्त में आक्सीजन के प्रवाह को बढ़ाता है और एनिमिया अर्थात् ख़ून की कमी से संरक्षण प्रदान करता है। यह पाचन-क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है और कोंट्रेक्टिंग कैंसर के जोख़िम को कम करता है।

2) इलाइची -elaychee

गरम मसाले कि सबसे महत्वपूर्ण सामग्रियों में से एक है। आइबीएस का उपचार, खांसी, पेट में जलन व खट्टी डकार और गले की सूजन (ब्रोंकाइटिस) को ठीक करने के अतिरिक्त इलाइची के कई स्वास्थ्य संबंधी लाभ हैं।

3) धनिया - dhaniya 

एक अन्य सामग्री है, जिसके कई फायदे हैं। यह रक्त कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है और रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है।

गरम मसाले के फायदे और नुकसान: benefits of garam masala in hindi

गरम मसाला बहुत ही तेज मसाला होता है और जिन्हें इस तरह के तेज़ मसाले खाने की आदत नहीं होती या उन्हें गरम मसाले से एलर्जी होती है तो इसी कारण से कई लोगों पर इसका उल्टा प्रभाव और दुष्प्रभाव भी देखा जा सकता है। आमतौर पर लोगों को इसके दुष्प्रभावों का सामना करना पड़ता है। 1999 में गरम मसालों पर किए गए अध्ययन में पाया गया है कि गरम मसाला (गेसट्रोइंटेस्टाइनल) पाचन-क्रिया के समय को बढ़ाता है, इसका मतलब यह हुआ कि जिस भोजन सामग्री में गरम मसाला होता है, वह बहुत तेजी से आंतों से बाहर जाता है।

गरम मसाले के अन्य दुष्प्रभाव भी हैं: some side effects of Garam masala in hindi

  1. एलर्जी होना -

इसमें कोई दोराहें नहीं है कि सभी व्यक्तियों की पसंद, सहनशक्ति और आवश्यकताएं भिन्न होती है और ऐसे में विभिन्न भोज्य पदार्थो का प्रभाव भी भिन्न-भिन्न पड़ता है। इसलिए कुछ लोगों को इस तरह के तेज़ मसालों से एलर्जी हो सकती है।

  1. त्वचा रोग (कोनटेक्ट डर्मटाइटिस) - गरम मसाले के सेवन से कुछ लोगों को त्वचा का रोग भी हो सकता है।
  2. लौंग के तेल से युक्त गरम मसाले के सेवन से कई लोगों को तीव्रग्राहिता या सदमा (अनफिलक्टिक शॉक) होने की संभावना भी बढ़ सकती है।



 

 

 
गरम मसाला बनाने की विधि और सामग्री: Method of making garam masala in hindi

जैसा कि हम जानते हैं कि गरम मसाले के अनेकों फायदे हैं और साथ ही साथ गरम मसाला भोजन के स्वाद में भी चार चाँद लगाता है‌, तो गरम मसाले को अवश्य प्रयोग करना चाहिए। गरम मसाला घर पर ही बड़ी आसानी से बनाया जा सकता है‌। हालांकि गरम मसाले में मुख्य रूप से 32 मसाले मिलाए जाते हैं लेकिन हम आपको आमतौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले सामान्य गरम मसाले की विधि बताएंगे। इस आसान विधि की सहायता से आप घर पर भी मार्किट में उपलब्ध गरम मसाले के समान अच्छी गुणवत्ता का गरम मसाला बनाने में सक्षम होंगे।

गरम मसाले की सामग्री:

¼ कप धनिया के बीज

2 टेबलस्पून इलाइची

2 टेबलस्पून काली मिर्च

2 टेबलस्पून लौंग

1 टेबलस्पून सौंफ

3-4 चक्र फूल (स्टार एनिस)

4 (1 इंच) दालचीनी

आधा जायफल

दो तेजपत्ते

गरम मसाला बनाने की विधि: - Method of making garam masala in hindi

1.ऊपर बताई गई सभी सामग्रियों अथवा मसालों को एक तवे में 3-5 मिनट के लिए भूनें (सूखा)।भूनने के बाद इस मिश्रण को मिक्सर में डालकर पीसें और इसका महीन मिश्रण अर्थात् पाउडर तैयार कर लें। यह करने के उपरांत सूखे व साफ़ बर्तन में यह गरम मसाला निकाल लें और गरम मसाला आसानी से घर पर ही बना लें।

ध्यान दें:आपके द्वारा घर पर बनाएं गए गरम मसाले की गुणवत्ता पूरी तरह आपके द्वारा इस्तेमाल किए गए मसालों की गुणवत्ता पर निर्भर करती है। अगर आप अच्छी गुणवत्ता के मसालों का प्रयोग करेंगे तो गरम मसाला भी अच्छी गुणवत्ता का बनेगा। इसलिए यह आवश्यक है कि आप उच्च गुणवत्ता वाले मसालों का प्रयोग करें, चाहे उनकी क़ीमत अधिक ही क्यों न हो।


गरम मसाले का उपयोग: use of Garam masala in hindi

  1. गरम मसाले के अनेकों औषधीय फ़ायदे है, जिसमें यह दो प्रमुख उपयोगिता शामिल हैं।
  2. इसे अधिकतर स्वादिष्ट व्यंजनों की तरी तैयार करने के लिए मुख्य सामग्री के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।
  3. इसे सफेद चावल और ताज़े फलों और सब्जियों के सलाद पर गार्निश के लिए तैयार किया जाता है।
  4. खाने का जायका बढ़ाने के लिए भी इसे रसोईघर के महत्वपूर्ण सामग्रियों में से एक के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है।



 

गरम मसाले के लाभ, गुण,और प्रभाव - benefits of Garam masala in hindi

गरम मसाले के फायदे इसके दुष्प्रभावों से कहीं अधिक है। मसाले औषधीय पदार्थ होते हैं और इनके कई चिकित्सकीय लाभ भी होते हैं। गरम मसाले के दुष्प्रभावों से बचने के लिए आपको सही मात्रा में उचित सामग्री का प्रयोग करना होगा और मात्रा व गुणवत्ता को ध्यान में रखकर आप गरम मसाले के फायदों का लाभ उठा सकते हैं। अगर आप आवश्यकता से अधिक मात्रा का प्रयोग व सेवन करेंगे तो इस बात की पूरी संभावना है कि आप बीमार पड़ सकतें हैं। वहीं दूसरी तरफ गरम मसाले की उचित मात्रा से पाचन-क्रिया बढ़ती है।

गरम मसाला आपकी सेहत के लिए हानिकारक नहीं है। गरम मसाला औषधीय पदार्थ हैं, जो शरीर को अलग-अलग तरह से प्रभावित करता है। इसलिए गरम मसाले के प्रयोग से पहले सही व सुरक्षित मात्रा को अवश्य माप लें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon