Link copied!
Sign in / Sign up
9
Shares

आपकी पहली प्रेगनेंसी और डिलिवरी को आसान बना देंगे ये टिप्स


ज़िंदगी के आनंद और सबसे पहली चुनौतियों में से एक है गर्भावस्था। पहली बार मां बनने वाली हर स्त्री सहज गर्भावस्था और सामान्य डिलीवरी चाहती है, हालांकि यह करना उतना ही कठिन है। जब आप गर्भवती होती है, तो आपके शुभचिंतक और आपकी मदद करने की इच्छा रखने वाले अनजान लोग आपको सामान्य डिलीवरी के लिए बहुत से टिप्स देते हैं। हालांकि उनमें से कई टिप्स सिर्फ मिथ्या होते हैं लेकिन कुछ टिप्स आपके लिए बहुत ही अनमोल हो सकते हैं, इस बात को सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी गर्भावस्था सामान्य और सुरक्षित हो। तो अगर आप सामान्य डिलीवरी चाहती है तो इन कारगर टिप्स का पालन करें।

स्वंय को शिक्षित करें - अगर आप पहली बार मां बन रही है तो यह बहुत ही आवश्यक है कि आप अपने आप को अच्छी तरह अच्छी तरह शिक्षित करे कि गर्भावस्था के प्रत्येक स्तर पर डिलीवरी तक, वास्तव में क्या बदलाव आते हैं। इस बात को सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर से मिलने के दौरान अपनी सभी शंकाओं को दूर करें।

नियमित रूप से एक्सरसाइज करें - यह प्रमाणित है कि जो महिलाएं नियमित रूप से एक्सरसाइज करती है उनकी डिलीवरी उन महिलाओं की तुलना में आसानी से होती है, जो एक्सरसाइज नहीं करती है। इसलिए बेहतर होगा कि आप सामान्य डिलीवरी के लिए नियमित दिनचर्या में इस तरह कि एक्सरसाइज़ को शामिल करें जैसे कि चलना, तैरना, केगेल एक्सरसाइज या प्रिनैटल योग। हालांकि ऐसी भी स्थिति होती है जब आप एक्सरसाइज नहीं कर सकते हैं, ऐसे में अपने डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

प्रिनेटल क्लास में जाएं

आपको यह जानकर बहुत ही अच्छा लगेगा कि मांओं को स्वस्थ और सुरक्षित शिशु को सामान्य डिलीवरी द्वारा जन्म देने में सहायता करने के लिए प्रिनेटल क्लास चलाए जाते हैं। इस बात को सुनिश्चित करें कि आप यहां दाख़िला लें और प्रसव की प्रक्रिया जाने व साथ ही वह आपको लेबर पेन से संबंधी तकनीक बताते हैं और साथ ही ब्रेथिंग और रिलेक्सेशन की तकनीक भी सीखाते है।

अपना डॉक्टर ध्यान से चुनें

अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ को ढूंढने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि वह सामान्य डिलीवरी करवाने के विशेषज्ञ हो। ऐसे में आपकी सामान्य डिलीवरी की संभावना भी अधिक हो जाती है क्योंकि उन्हें अधिक जानकारी और अनुभव होता है। आप एक नर्स की मदद भी मांग सकते हैं, वह आपको सामान्य डिलीवरी करने में मदद करेंगी।

अपना ध्यान रखें और अधिक वज़न न बढ़ाएं :  इस बात पर कोई शक नहीं है कि सामान्य डिलीवरी उन महिलाओं के लिए बहुत आसान होती है, जिनका वज़न अधिक नहीं होता है। इसलिए यह आवश्यक है कि आप ऐसे पौष्टिक आहार का सेवन करें जिससे आपका वज़न ज्यादा न बढ़े और आपके अंदर पल रहे शिशु को पर्याप्त पोषण मिले। अगर आप अधिक वज़न बढ़ाती है तो इससे आपको और आपके शिशु को अधिक समस्या हो सकती है।

लो इंटरवेंशन प्रेगनेंसी अपनाएं - अधिकतर महिलाओं को उस समय कोई समस्या नहीं होती है जब वह गर्भधारण करती है और अगर आप भी उन खुशकिस्मत महिलाओं में से एक है, तो यह सुझाया जाता है कि आप गर्भावस्था के दौरान कम टेस्ट, इंटरवेंशन या ट्रिटमेंट करवाएं। सिर्फ वही टेस्ट करवाएं जो जरूरी हो और जिसके लिए आपके डॉक्टर सुझाव दें कि सामान्य डिलीवरी के लिए वह आपके लिए मददगार होंगे।

प्रसव के शुरुआती लक्षणों में फौरन अस्पताल ना जाएं - बेहतर होगा कि प्रसव के शुरुआती लक्षणों में आप घर पर घूमकर या अपने बाथ-टब पर आराम करें। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि संकुचन ज्यादा हो या लगातार हो, तो आपको अस्पताल जाने की आवश्यकता है।

प्रिनेटल जानकारी का उपयोग करें- यह आवश्यक है कि आप उस जानकारी का इस्तेमाल करें, जो आपने प्रिनेटल क्लास से सीखी है। इस बात को सुनिश्चित करें कि जरूरत पड़ने पर आप घबराने की जगह उन तकनीकों का इस्तेमाल कर सकें। रिलेक्सेशन और हल्का संगीत सुनना और मालिश आदि का प्रयोग आप कर सकते हैं।

पानी का इस्तेमाल करें- यह प्रमाणिक तथ्य है कि बाथ-टब, गर्म पानी का कम्प्रेस या ब्रथिंग पूल आदि मांओं को प्रकृति द्वारा प्रदान किए गए उपकरण है, जो प्रसव के दर्द, कष्ट को दूर करते हैं। इसलिए बेहतर होगा कि आप कुछ समय पानी में बिताए।

तनाव मुक्त रहें - गर्भावस्था के दौरान किसी भी प्रकार का तनाव लेने से ओक्सिटोसिन का उत्पादन बढ़ता है और यह वह हार्मोन हैं, जो गर्भावस्था के दौरान संकुचन को बढ़ाता है। इसलिए सामान्य डिलीवरी के लिए आवश्यक है कि आप तनाव मुक्त रहें।

प्रिनेटल मालिश - इस बात का ध्यान रखें कि अपने सातवें महीने के बाद आप हर रोज़ प्रिनेटल मालिश करवाएं। इससे आपकी मांसपेशियों स्वस्थ रहेंगी, जोड़ों में दर्द कम होगा जिससे सामान्य डिलीवरी में मदद मिलेगी। इसे सातवें महीने के बाद रोज़ाना करें और इसके अद्भुत लाभ देखें।

अपने परिवार का साथ - यह बहुत आवश्यक है कि आपकी मां, पति या परिवार के अन्य सदस्य इस दौरान आपका सहयोग करें। अंतिम स्तर पर आपको इनकी मदद की जरूरत पड़ सकती है, ताकि आप आराम से डिलीवरी कर सकें। ऊपर बताए गए सभी टिप्स बहुत ही मददगार साबित हो सकते हैं, इसलिए गर्भावस्था के दौरान इनका पालन ज़रूर करें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon