Link copied!
Sign in / Sign up
19
Shares

दस टिप्स जो आपको प्रसव के लिए तैयार होने में मदद करेंगे


 यह दस चीजें जो आपके प्रसव के अनुभव को काफी आसान बना सकती है:

क्लास लें और कोर्स करें – चाइल्डबर्थ कोर्स करें और जितना जल्दी हो सके नामांकन करें। ना केवल क्लास जल्दी लें, बल्कि कुछ कोर्स जैसे (Bradely method course),यह बारह हफ्तों तक चलता है। इसका मतलब यह है कि आपको इन्हें दूसरे तिमाही में लेना शुरू करना होगा। साथ ही,यह भी पता करें की सी-सेक्शन के बारे में आपके डाक्टर की क्या राय है और एपिडोरल या दवा के बिना दर्द को व्यवस्थित करने के तरीके। प्रसव के विभिन्न स्तरों को समझने और सीखने के लिए मुश्किल सवालों के साथ-साथ बेवकूफी भरे सवाल भी पूछे, ताकि आप जान सकें की क्या उम्मीदें रखनी चाहिए। कैलिफ के टौरेस,एम.आई,आर.एन.पी,एम.एन,नर्स प्रेक्टिशनर लिनेट मीया कहती है की “ जितनी अच्छी तरह आप तैयार होंगी, प्रसव के दौरान उतने ही ज्यादा विकल्प आपके पास होंगे।” बिना किसी जानकारी के,की आगे क्या होगा आपको अस्पताल नहीं जाना चाहिए।” एक बार जब प्रसव पीड़ा शुरू होती है,तो कोई भी आश्चर्य अच्छा नहीं होता है।

शक्ति और ध्यान केन्द्रित रखें – बोस्टन में स्थित (prenatal yoga certificate training), एल.पी.एन, कार्मेला कटूटी कहती है कि “ महिलाओं को सबसे जरूरी बात,जो योग सिखाता है,वह है ध्यान केंद्रित करना।” यह सारे शरीर को मजबूती प्रदान करता है,यह लचीलापन बढ़ाता है और आपके स्टेमिना को भी मजबूत करता है। लेकिन सब से भी जरूरी यह है कि यह आपके दिमाग को शांत करने में मदद करता है।” बदले में यह आपके शरीर को प्रसव से गुजरने के लिए शक्ति देता है|

नकारात्मक सोच से दूर रहें – कुछ शिशुजनम विशेषज्ञों का मानना है की ग्राफिक इमेज, डरावनी कहानियों और निराशाजनक बातों (आप कभी भी बिना सी-सेक्शन के इस भयानक दौर से गुज़र नहीं सकते हैं) यह आपके अवचेतन मन को प्रभावित करती है और प्रसव के दौरान मानसिक तनाव उत्पन्न करती है। नकारात्मक विचार प्रसव को और तनावपूर्ण बना देते हैं और स्थिति खराब करके यह दर्द को और बढ़ा देते हैं। टेलीविजन से चैनल को बदल दें और उस हर चीज़ से दूर रहें जो आपको असहज महसूस करती है। फेसबुक में आने वाली डरावनी बातों से भी दूर रहें। ध्यान दें – यह सब अभी से शुरू करने से आप बेवजह की सलाहों से प्रभावित होने से बच सकती है,जो शिशु के जन्म के बाद आपको मिलती है।

अध्ययन करें – जब आप प्रसव की जकड़ में होते हैं तो स्वयं को सम्मोहित करने की किताबें पढ़ना या बर्थिंगबाल ढूंढना बेकार है। ध्यान दें – स्कवाटिंग से पेल्विक एरिया 28 प्रतिशत तक खुल जाता है। लेकिन अगर यह पहली बार करने के लिए आप प्रसव का इंतजार करेंगी, तो आपका स्कवाटिंग और स्टेमिना में बढ़ोतरी नहीं होगी।

डौलस (doulas) से प्रशिक्षण लें डौलस गैर चिकित्सात्मक पेशेवर होते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को भावनात्मक और शारीरिक सहायता के साथ-साथ जानकारी प्रदान करते हैं। अध्ययन में पाया गया है की डौलस की सहायता से प्रसव का समय घट जाता है और एपिडय्रल, सी-सेक्शन और आक्सीटोसिन की मदद की आवश्यकता भी आधी हो जाती है।एक और अध्ययन में पाया गया है की,जो महिलाएं अस्पताल द्वारा संचालित किए गए डालस कार्यक्रम का हिस्सा बनती है, उनकी स्तनपान कराने की संभावना अधिक होती है। अपने आसपास प्रमाणित डौलस ढूंढने के लिए (DONA international) की मदद लें।

हर स्थिति के लिए तैयार रहें – प्रसव पीड़ा का प्रबंधन करने के लिए विभिन्न तकनीकें सीखें, जैसे स्वयं को सम्मोहन,हीट पैक और सांस लेने के भिन्न-भिन्न तरीके। लास एंजलौस के प्रमाणित बी.ई.एम.टी डौला सेवा के मालिक ट्रेसी हार्टल कहते हैं की “अगर आप नहीं जानते हैं कि आपके पास क्या विकल्प है, तो आपके पास कोई नहीं है।”

सही स्थिति – खड़े रहने की स्थिति जैसे सीधे खड़े रहना, चलना, घुटने टेकना,धीमी गति से नृत्य करना, बैठना और स्कवाटिंग करना,यह सब गुरूत्वाकर्षण की वजह से शिशु को नीचे और बाहर आने में मदद करते हैं। हार्टले कहते हैं की “ कभी-कभी शिशु को पेल्विक तक लाना ऐसा होता है, जैसे चाबी को ताले में लगाना।” आपको थोड़ा हिलने डुलने की जरूरत होती है। अपने हाथों और घुटनों को आगे पीछे करने से अपने शिशु को सही स्थिति में लाने में आपको मदद मिलेगी।

वातावरण तैयार करें – अधिकतर महिलाओं के प्रसव के लिए अंधेरा और शांत वातावरण सबसे बेहतर होता है। इसलिए अपनी नर्स या अपने साथी से कमरे की रोशनी और शोर कम करने को कहें। हल्के बदलाव से भी काफी फर्क पड़ता है। पसंदीदा तकिया, जुराब की जोड़ी और आरामदायक खुशबू। मीया कहती हैं की “ आरोमाथैरेपी खासकर की लेवेंडर की खुशबू प्रसव के दौरान बहुत राहत देती है।”

गर्म पानी का सेक लें – पानी की गर्मी और वजनहीनता,आपकी प्रसव पीड़ा को राहत देती है। तो अगर आपके पास गर्म पानी का टब है, तो उसमें डुबकी लगाए। ऐसा करने से पहले अपने डॉक्टर और दाई की सलाह अवश्य लें। यदि आपका वाटर ब्रोक हुआ है, तो इसमें संक्रमण का खतरा हो सकता है। यदि डुबकी लेना संभव ना हो,तो शावर लें।

खुद से सच कहें – प्रसव आपको पूरी तरह बदल देता है लेकिन इसका पता आपको एकदम नहीं चलेगा। इस दौरान लोग आपको कई सुझाव देंगे, लेकिन ऐसा महसूस ना करें की आपको इन सुझावों पर ध्यान देना है। यह आपका शरीर है,आपका बच्चा है और आपका प्रसव है।इस बात को तब तक माने जबतक आपका बच्चा किशोरावस्था में ना आ जाए।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon