Link copied!
Sign in / Sign up
1
Shares

डिलीवरी के बाद इन संकेतों को ना करें अनदेखा - Delivery ke baad in sanketo ko na kare andekha


नॉर्मल डिलीवरी हो या सीज़ेरियन, माँ बनने के बाद एक महिला के शरीर में कई बदलाव आते हैं और महिला को रिकवर करने में भी वक़्त लगता है। माँ बनना एक महिला के लिए बहुत ही अनमोल एहसास है जिसे वो शब्दों में बयां नहीं कर पाती, लेकिन इसके साथ ही साथ डिलीवरी के बाद महिलाओं को कोई न कोई परेशानियां लगी रहती है। इन सबके अलावा डिलीवरी के तुरंत बाद महिलाओं को कई अलग तरह की परेशानियों से भी गुज़रना पड़ता है, जैसे - थकान, रक्तस्त्राव, कमज़ोरी या दर्द की समस्याएं। हालांकि ये समस्याएं डिलीवरी के बाद हर महिला को होती है लेकिन कुछ ऐसी परेशानियां हैं जिसे डिलीवरी के तुरंत बाद अनदेखा नहीं करनी चाहिए, भले ही वो समस्याएं आम सी ही क्यों ना, किसी भी महिला को डिलीवरी के बाद तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। आज इस ब्लॉग के ज़रिये हम ऐसी ही कुछ परेशानियों के बारे में बता रहे हैं जो दिखने में तो आम सी लगती है लेकिन डिलीवरी के बाद इनको अनदेखा करना जानलेवा भी साबित हो सकती है।

अगर हो सांस लेने में दिक्कत

कभी-कभी डिलीवरी के तुरंत बाद नई माँ को सांस लेने में तकलीफ होती है और ऐसा पल्मोनरी एम्बोलिस्म के कारण हो सकता है। यह एक तरह की खतरनाक बीमारी होती है और इसपर ध्यान ना दिया गया तो महिला की जान भी जा सकती है। इसलिए अगर डिलीवरी के बाद आपको सांस लेने की ऐसी कोई परेशानी हो रही है तो आप बिना देर करते हुए डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करें।

लगातार तेज़ सर दर्द

कभी-कभी डिलीवरी के पहले और बाद में महिला को हल्के सिरदर्द का सामना करना पड़ता है लेकिन अगर यह दर्द लगातार हो और तेज़ हो तो बिना देर करते हुए डॉक्टर से संपर्क करें। डिलीवरी के 72 घंटों के भीतर तेज सिरदर्द प्री-एक्लेमप्सिया के संकेत हो सकते हैं और ऐसे में मरीज़ को धुंधलेपन, जी मिचलाने या उल्टी की भी समस्या हो सकती है और ऐसे में ज़रा सा भी रिस्क ना लेते हुए आप वक़्त रहते डॉक्टर को संपर्क करें।

पेशाब ना होना

डिलीवरी के बाद महिला के बाथरूम जाने पर नज़र रखी जाती है। अगर प्रसव के बाद छः घंटो तक महिला को पेशाब नहीं हुआ तो यह एक चिंता का विषय है इसलिए अगर आपको छः घंटो के अंदर पेशाब नहीं हुआ हो तो आप तुरंत डॉक्टर को बताएं।

चेस्ट पेन या सीने में दर्द

अगर डिलीवरी के बाद आपको चेस्ट पेन की शिकायत हो रही है या खांसते हुए खून आ रहा हो तो बिल्कुल देर ना करें। यह सब संक्रमण या पल्मोनरी एम्बोलिस्म के संकेत हो सकते हैं ज़्यादा बढ़ जाए तो मरीज़ की जान भी जा सकती है इसलिए अगर प्रसव के बाद आपके सीने में दर्द हो रहा हो तो इसको एसिडिटी या गैस के वजह से होने वाला दर्द समझकर हल्के में ना लें बल्कि डॉक्टर से बात करें और उन्हें इन संकेतों को बताये।

हाई बी पी या हाई ब्लड प्रेशर

डिलीवरी के पहले या बाद में (delivery ke baad in hindi) ब्लड प्रेशर हल्का घटते-बढ़ते रहता है लेकिन अगर डिलीवरी के बाद अचानक महिला का ब्लड प्रेशर ज़्यादा बढ़ जाए तो यह खतरे की घंटी है। ये भी प्री-एक्लेमप्सिया के लक्षण हो सकते हैं और इसका खतरा डिलीवरी के पहले और बाद में दोनों बार रहता है इसलिए इसको हल्के में ना लेते हुए आप तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें ताकि वक़्त रहते इसका समाधान हो सके।

माँ बनना एक ख़ुशी और ज़िम्मेदारी की बात होती है लेकिन ज़िम्मेदारी सिर्फ शिशु की ही नहीं बल्कि माँ को अपने स्वास्थ का भी ख्याल रखना ज़रूरी है। इसलिए न सिर्फ प्रसव के बाद बल्कि कभी भी अगर महिला को कोई परेशानी हो तो उसे अनदेखा ना करते हुए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और खुद को और अपने शिशु को खुश और स्वस्थ रखें। 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon