Link copied!
Sign in / Sign up
6
Shares

चार आम योनि संबंधित समस्याएं


ऐसी कुछ चीजें होती है, जिनके बारे में बात करने से हमसे से अधिकतर लोग संकोच करते हैं और हमारे निजी अंगों की स्वच्छता, सबसे पहले आती है। अगर वहां कोई समस्या हो, तो हम में से सभी अपने दोस्तों के साथ निजी अंगों की जानकारी साझा करने में सहज महसूस नहीं करते हैं और कभी कभार अपने ग्यनाकोलोजिस्ट के साथ इसके लिए एपोइनमेट रखना भी भयावह लगता है हालांकि सभी अजीब लगने वाली चीजों के लिए डॉक्टर से सलाह लेने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह स्थितियाँ महिलाओं के बीच आम होती है। इसका यह मतलब नहीं है की आप नियमित रूप से ग्यनाकोलोजिस्ट से मिलने नहीं जाएंगे, लेकिन कभी कभार हम जरूरत से ज्यादा परेशान हो जाते हैं। योनि के साथ काफ़ी सावधानी बरतने की जरूरत होती है और इसे स्वस्थ रखने के लिए किए गए प्रयास, कभी-कभी हम पर ही भारी पड़ जाते हैं और इससे हमें जलन, रैशेस और खुजली होती है। अगर आपको भी इनमें से कोई लक्षण है और आप उसे लेकर परेशान हैं, तो ज्यादा चिंतित ना हो, क्योंकि यह आम लक्षण आसानी से ठीक किए जा सकते हैं।

स्यरिंगोमा (syringoma) – हो सकता है आप अपनी योनि के आसपास पास त्वचा के ही रंग के बम्प या दाने देखें,जो पसीने की नलिकाएं बन्द हो जाने के कारण निकल आते हैं। योनि के ऊपर निकलने के साथ ही यह आपके चेहरे,अंडर आर्म,छाती और नाभि पर भी निकल सकते हैं। कभी-कभार बड़े और असहजता घाव भी होते हैं लेकिन इससे स्वयं ही हटा दें क्योंकि यह आसपास की त्वचा को नुक्सान पहुंचा सकते हैं। आमतौर पर यह खुद ही ठीक हो जाते हैं लेकिन इन्हें हटाने को लेकर आप डॉक्टर से बात कर सकते हैं। इस समस्या से निजात पाने के लिए पसीने वाले कपड़ों को बदलना ना भूलें।

फोड़े – यह देखने में डरावने लग सकतें हैं और यह साफ-सफाई की प्रक्रिया के कारण होते हैं। योनि के बाल काटने या वैक्सिंग के कारण योनि के हिस्से में फोड़े हो सकते हैं और यह आमतौर पर सही तरीके से बाल ना काटने से होते है, जिसके कारण सही से ना उगने वाले बाल या संक्रमित बालों के अवशेष रह जाते हैं। अगर इन्हें सही से साफ ना किया जाए, तो यह दर्दनाक और मवाद से भरे हुए फोड़े बन सकते है। इन्हें पिचकाने या फोड़ने से बचें क्योंकि इससे संक्रमण फैलने का खतरा होता है और दर्द भी हो सकता है। इन्हें ठीक करने के लिए ढीले पैन्ट और अंडरवियर पहन सकते हैं ताकि नीचे हवा लगे और इसे ठीक होने का समय मिले। अगर यह फोड़ा ज्यादा बढ़ा होता है, तो आपकी ग्यनाकोल़ोजिस्ट आपको एंटीबायोटिक देगी और जरूरत पड़ने संक्रमण से बचने के लिए फोड़े को हटा देंगे।

बार्थोलीन सिस्ट (Bartholin cyst) – यह स्थिति तब होती है,जब योनि द्वारा की तरफ की ग्रंथियां बन्द हो जाती है। इसके कारण ग्रंथि द्वारा छोड़ा गया द्रव, उसमें वापस चला जाता है। जिससे एक दर्दनाक बम्ब योनि में निकल जाता है। हालांकि सभी देखरेख के बाद यह नुकसान नहीं पहुँचाता है। इसका दर्द और असहजता को गर्म सेंक, बाथपब में थोड़े इंच के गर्म पानी में डुबोकर और पेन किलर से कम किया जा सकता है। अगर आपको चलने, पेशाब करने में दिक्कत हो रही है या अचानक बुखार आ गया है तो आपको एंटीबायोटिक की आवश्यकता है और संक्रमण का ध्यान रखें। अगर जरूरत पड़ी तो आपके ग्यनाकोलोजिस्ट एनेस्थीसिया की सहायता से इस सिस्ट को निकाल देंगे।

तिल – जब भी हम तिल या त्वचा को काला पड़ता देखते हैं, तो हम फौरन उसे कैंसर मानने लगते हैं लेकिन इस मामले में यह आवश्यक नहीं है और योनि का कैंसर इतना सामान्य नहीं है। इसलिए अगर आप योनि में तिल या काले निशान देखे, तो वह नुकसानदेह नहीं है। अधिकतर यह सौम्य होते हैं या किसी चिकित्सक स्थिति से जुड़े होते हैं या फिर उनमें खुजली जलन नहीं होती है। लेकिन अगर यह रंग बदलता है, इसमें खुजली,दर्द होता है या इसका आकार बढ़ता है, तो अपने डॉक्टर से परामर्श लेने में झिझक ना करें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon