Link copied!
Sign in / Sign up
9
Shares

स्तनपान से जुड़ी ये बातें आपको मां भी नहीं बताती है


स्तनपान करने वाले शिशुओं को अधिक बार स्तनपान कराया जाना चाहिए - स्तनपान करने वाले शिशुओं को हर 1.5-3 घंटों में स्तनपान कराया जाना चाहिए, जो असुविधाजनक और परेशानी भरा हो सकता है खासतौर पर रात में।

आहार पर प्रतिबंध - जब आप स्तनपान कराने वाली मां होती है, तो आप पर कुछ आहार संबंधी प्रतिबंध होते हैं,‌जिनका आपको ध्यान रखना पड़ता है। जो भी आप खाती है वह शिशु तक पहुँचता है! कुछ मांओं को नौ महीने तक आहार पर प्रतिबंध के बावजूद आगे भी इसका पालन करते रहना मुश्किल लगता है। अल्कोहल का सेवन बहुत ही कम होना चाहिए, लगभग हफ्ते में सिर्फ तीन वाईन के ग्लास और सिगरेट से भी दूर रहना चाहिए। कई दवाएँ स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए सही नहीं होती है, तो आपको इसका भी ध्यान रखना चाहिए।

सार्वजनिक जगहों पर स्तनपान कराना मजेदार नहीं होता है - अगर आप मेरी तरह हैं, तो सार्वजनिक जगहों पर स्तनपान कराने का विचार आपको उल्लासित नहीं करेगा। मैं चौकस रहने वाली इंसान हूं और मेरे जैसे लोगों के लिए सार्वजनिक जगहों पर स्तनपान कराना मुश्किल हो सकता है। ऐसे कुछ विकल्प है जैसे नर्सिंग कवर, लेकिन आपका शिशु उसे स्तनपान करने से पहले ही छोड़ सकता है।

यह असहज और तकलीफदेह हो सकता है - पूरी ईमानदारी से कहा जाए तो स्तनपान से कुछ असहजता महसूस होती है। खासतौर पर अगर आपके लिए यह पहली बार हो तो, आपके निप्पल में दर्द हो सकता है और हो सकता है आपके स्तन संपूर्ण स्तनपान के दौरान एंगोर्ज हो जाएं। हो एक समय पर आपके शिशु के दाँत निकल आएँगे और दाँतों से स्तनो को काटा जाना दर्दनाक होता है।

आपको पता नहीं चलेगा कि शिशु को कितना दूध मिल रहा है - जब आप शिशु को फार्मूला मिल्क देते हैं, तो आप जानते हैं कि वह कितना दूध पी रहें हैं क्योंकि आप उसे मापते हैं। लेकिन जब आप स्तनपान कराती है, तो यह पता लगाना मुश्किल होता है कि वह कितना दूध पी रहें हैं। कई नयी माताओं को लगता है कि उनके शिशु को पर्याप्त मात्रा में पोषण प्राप्त नहीं हो रहा है। या वह उन्हें ज्यादा खिला रही है। हालांकि अधिकतर विशेषज्ञ मानेंगे कि अगर आप शैडयूल के विपरीत मांग के अनुसार स्तनपान कराए तो चीजें अपने आप सही रहेंगी और समस्या नहीं होगी।

आपको स्तनपान कराने के लिए खास कपड़ों की जरूरत होती है - स्तनपान कराने के लिए आपको खास ब्रा की जरूरत होती है और साथ ही साथ ऐसे शर्ट की जिसमें आगे बटन हों। और यह ब्रा सस्ती नहीं होती है, इसलिए आपको पैसे तो लगाने ही पड़ेंगे। हालांकि शिशु के आने के साथ ही कई सारे खर्च बढ़ जाते हैं, इसलिए हर कोई इतना खर्चा करने के लिए तैयार नहीं होता है।

आपके अलावा शिशु को कोई और स्तनपान नहीं करा सकता है - अगर पंपिंग कराने का आपका कोई इरादा नहीं है,‌तो सिर्फ आप ही हैं, जो अपने शिशु को स्तनपान करा सकती है। इसका मतलब यह है कि शुरुआती महीनों में पिता और शिशु का संपर्क कम हो सकता है। इसका मतलब यह भी है कि आपको आराम नहीं मिलेगा और आपको अपना ध्यान खुद रखना होगा।

पंपिंग भी समाधान हो सकता है

इनमें से अधिकतर समस्याओं का समाधान ब्रैस्ट पंप हो सकता है और यह ऐसी चीज़ है जिसका सुझाव हम आपको दे सकते हैं। इसका मतलब यह है कि आप भविष्य में अपने शिशु को स्तनपान कराने के लिए दूध पंप कल सकते हैं। और इसका मतलब यह है कि आपके अलावा और कोई भी आपके शिशु को दूध पिला सकता है। सही पंप की मदद से आप दूध सीधे बोतल में भर सकतीं हैं। जो आपके लिए और भी सुविधाजनक है। 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon