Link copied!
Sign in / Sign up
11
Shares

जहां लोग शर्माते रहे...वहां इन सेलेब्स ने पीरियड्स पर दे दिए बेबाक बयान


बॉलीवुड के खिलाड़ी यानी अक्षय कुमार एक बार फिर कुछ ऐसा करने जा रहे हैं जिससे उनपर जितना गर्व किया जाए उतना कम है। पिछली बार इस देश में शौचालय के मुद्दे को फिल्म ‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’ के ज़रिए अक्षय ने उठाया था, जिसे लोगों ने काफी पसंद किया और फिल्म ने जमकर कमाई की।

अब इसी कड़ी में आगे बढ़ते हुए अब अक्षय कुमार लेकर आ रहे हैं फिल्म ‘पैडमैन’, जो इस 26 जनवरी को रिलीज़ हो रही है।

 

इस फिल्म में अक्षय कुमार के अपोज़िट एक्ट्रेस राधिका आप्टे नज़र आएंगी। आपको बता दें कि ऐसा पहली बार बॉलीवुड में होने जा रहा है जो सैनिटरी नैपकिन जैसे मुद्दे पर बात हो रही है। यही कारण है कि इस फिल्म का सभी को बेसब्री से इंतज़ार है।

लेकिन फिल्मों से हटकर बहुत से ऐसे बॉलीवुड सेलेब्रिटी हैं जिन्होंने पीरियड जैसे बेहद निजी मुद्दे पर बेबाकी से अपनी राय दी है। आज हम आपको उन्हीं सितारों के बयानों से रू-ब-रू कराएंगे...पढ़िए किस-किसने क्या क्या कहा....

करीना कपूर

करीना कपूर खान जब भी कुछ बोलती हैं बेहद बिंदास होकर बोलती हैं। एक बार यूनिसेफ के प्रोग्राम में एक्ट्रेस ने महिलाओं के पीरियड्स के बारे में खुलकर बात की थी। इस मुद्दे पर बोलते हुए उन्होंने कहा था कि इस बात की खुशी है कि महिलाओं से जुड़ी इस बात को बंद कमरे से निकल कर खुलेतौर पर किया जा रहा है।' इतना ही नहीं, करीना ने ये भी कहा कि ईश्वर ने महिलाओं को बनाया है और पीरियड भी उन्हीं की देन है। इसमें शर्म वाली क्या बात है। महिलाएं पूरे महीने काम कर सकती हैं। उंन्हें पीरियड्स के दौरान किसी भी स्पेशल ट्रीटमेंट की ज़रूरत नहीं। इसके आगे करीना ने कहा कि बस हर महिलाओं को इस दौरान सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए।

परिणीति चोपड़ा

वहीं एक बार परिणीति चोपड़ा ने इस बारे में खुलकर बात करते हुए कहा था कि ये मुझे समझ नहीं आता कि लोग पीरियड्स जैसी बात को छुपाकर क्यों रखते हैं। मैं छोटे शहर से हूं। वहां पीरियड से जेकई तरह के नियम बनाए हुए हैं जैसे पीरियड्स के दौरान आचार नहीं खाना चाहिए, बाल नहीं धोने चाहिए, मंदिर नहीं जा सकते वगैरह वगैरह। इसके अलावा और ना जाने कैसी-कैसी परंपराएं पीरियड के नाम पर बनी हुई हैं। ऐसे में ज़रूरत है लोगों की सोच को बदलने की। मैंने इन सारे नियम को तोड़ा है। मैं वही करती हूं जो मेरा मन करता है। मैं इन सब से ऊपर उठकर सोचती हूं और मैं यही चाहती हूं कि हर कोई अपनी सोच को बदले।

स्वरा भास्कर

स्वरा भास्कर अक्सर महिलाओं से संबंधित मुद्दे पर बेबाकी से अपनी राय देती हैं। पीरियड के बारे में स्वरा ने कहा था कि महिलाओं को अपने मन से इस डर को निकाल देना चाहिए। इसी के साथ उन्होंने कहा कि पीरियड्स को लेकर उन्हें किसी तरह का बहाना नहीं बनाना चाहिए। ये एक नेचुरल प्रोसेस है और इस पर खुलकर बात होनी चाहिए।

कृति सेनन

इस बारे में एक्ट्रेस कृति सेनन का कहना नॉर्थ इंडिया में आधी से ज्यादा महिलाएं ये मानती हैं कि पीरियड्स के दौरान अचार को हाथ लगाने से अचार खराब हो जाता है और वहीं कई महिलाएं सेनेटरी नैपकिन के एड को देखकर शर्मिंदा होती हैं। लेकिन मुझे ये समझ नहीं आता है कि आखिर इसमें शर्मिंदा होने वाली क्या बात है। क्योंकि ये एक नेचुरल प्रोसेस है और इसपर खुलकर बात होनी चाहिए।

कल्कि कोचलिन

वहीं एक्ट्रेस कल्कि कोचलिन भी यही कहती हैं कि इन सब बकवास बातों को खत्म करने की ज़रूरत है क्योंकि ये एक नेचुरल प्रोसेस है। उन्होंने आगे कहा कि मैं कभी कभी भी खुद को इनसब में बांधकर नहीं रख सकती। कामकाजी महिला हूं और मेरा काम ऐसा है कि मुझे ट्रैवल करना ही पड़ता है। अगर मैं इन सब में बंध कर रही तो नहीं चलने वाला।

वरुण धवन

वरुण धवन ने कहा कि किसी भी वजह से लड़कियों का स्कूल छूटना नहीं चाहिए। करीब 5 में से 1 लड़की को पीरियड्स के दिनों में स्कूल न जाने को मजबूर किया जाता है।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon