Link copied!
Sign in / Sign up
48
Shares

"भगवद्द गीता" से गर्भवती माँ और शिशु के सही विकास का रहस्य


वेदों में कहा जाता है कि "माँ गर्भ से ही शिशु का भविष्य बना देती है" यह उनके हाथ में होता है कि वह अच्छे संस्कारों को ग्रहण करके अपने शिशु का सुन्दर भविष्य लिखे। जी हाँ, यह चारों वेदों में भी लिखा है। इसलिए भारतीय गर्भवती नारियों को यह सुझाव दिया जाता है कि वह "गीता" अध्ययन करें।

गीता क्या सीखाती है ?

गर्भवती महिलाओं के लिए ज़रूरी है कि वह हर वक़्त खुश रहे, क्यूकि यह उनके शिशु पर सीधा असर करता है।

जब शिशु माँ के गर्भ में होता है तो माँ का हर मूड शिशु के शरीर के विकास को प्रभावित करता है। शिशु के शारीरिक औरऔर मानसिक विकास के लिए माँ का सही खाना बहुत ज़रूरी है। यह बारीकी से गीता में दिया गया है।

गर्भावस्था के दौरान सभ्य जीवन और उच्च विचार मायने रखते हैं। इस समय पर, माँ के गायत्री मंत्र के जाप करने से, अपने भगवान् का नाम बोलने से, अच्छी किताबें पढ़ने से, शिशु का उज्जवल भविष्य सुनिश्चित होता है। गीता में कहा गया है की गर्भवती महिलाएं अच्छे चित्र देखे, अच्छी जगह जाएँ। ऐसी अवस्था में बेतुकी बातों और चित्रों से दूर रहना ही अच्छा है।

इसके में यह बोलै जाता है कि गर्भवती महिलाओं को बाथरूम, गैस आदि नहीं रोकना चाहिए।

आइये गीता से कुछ बातें जानते हैं।

जब एक गर्भवती महिला का पांचवा महीना शुरू होता है, तब उनके शिशु का दिमाग सबसे सक्रिय होता है। छंठे महीने में उनकी बुद्धि का विकास होता है। और सांतवे महीने में उनके अंगों का विकास होता है। तो एक माँ को अपना हर काम इस दौरान पवित्रता से करना चाहिए, क्यूकि यह अनजाने में ही सही, शिशु को प्रभावित करता है।

आठवें महीने में माँ के दो दिल होते हैं। एक खुद का और दूसरा शिशु का। इस महीने में माँ को खुदपर ज़्यादा ध्यान देना चाहिए। In

माँ और शिशु के सही विकास के लिए यह अपनाएं

1. पहले महीने में मायें,  सादा ठंडा दूध का सेवन करें।

2. दुसरे महीने में दूध में इलाइची, छुआरा आदि मिलाकर उसका सेवन करें।

3. तीसरे महीने में, 2 चम्मच शहद और 1 चम्मच घी को दूध में मिलाकर उसका सेवन करें।

हमारे वेद-पुराण ऐसी बातें बोलते हैं जो की आपके और आपके शिशु के लिए अत्यंत लाभकारी है। वह हमको सही जीवनशैली भी सीखाते हैं। इसलिए हम आपको सुझाव देते हैं कि आप भी इनका अध्ययन करें, अपने और अपने शिशु के लिए।

यदि आप भी भारतीय संस्कृति में भरोसा करते हैं और शिशु का सही विकास चाहे हैं, तो इसे शेयर करके दूसरों को बताएं। आपका 1 शेयर किसी को शिक्षित कर सकता है।
Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon