Link copied!
Sign in / Sign up
17
Shares

अरेंज मैरिज करने वाले कपल अपने पार्टनर से ये उम्मीद बिल्कुल ना करें


 शादी हर किसी के ज़िंदगी का सबसे खास पल होता है और हर इंसान को अपने लाइफ पार्टनर से काफी सारी उम्मीदें रहती हैं। फिर चाहे किसी की लव मैरिजहो या अरेंज मैरिज। हालांकि लव मैरिज में लोग अपने पार्टनर को शादी से पहले ही समझ चुके होते हैं इसलिए शादी के बाद पार्टनर के साथ कैसे एडजस्ट करना है, उसका पार्टनर होगा कैसा इसकी टेंशन उन्हें नहीं रहती।

लेकिन इसके उलट जो लोग अरेंज मैरिज करते हैं उनके मन में हमेशा अपने पार्टनर को लेकर घबराहट बनी रहती है।

कैसे किसी अंजान व्यक्ति के साथ एडजस्ट करेंगे, कैसा होगा उनके होने वाले पार्टनर का स्वभाव। ये सब सवाल उन्हें नर्वस करते ही रहते हैं। लेकिन अरेंज मैरिज की सबसे खास बात ये है कि आप इसमें हमेशा, हर दिन कुछ ना कुछ नयापन पाते हैं। लेकिन आज हम आपको बताएंगे कि अगर आप अरेंज मैरिज करने जा रहे हैं तो शादी की शुरुआत में इन चीज़ों की उम्मीद ना करें....

 आपको ये बात समझनी होगी कि आपका पार्टनर बचपन से अपने माता-पिता के साथ रह रहा है। इसे जानते हुए आप ये उम्मीद करें कि वो आपको अपने माता-पिता के बराबर की अहमियत दे वो ज़रा मुश्किल है। आपका रिश्ता इस स्तर पर पहुंचने में कुछ समय ले सकता है।

हर व्यक्ति चाहता है कि उसका पार्टनर उसके माता-पिता का पूरा सम्मान करे जो कि गलत नहीं है। लेकिन अगर आप उम्मीद कर रहे हैं कि शादी के अगले दिन से ही वो उनसे उतना ही प्यार करने लगे जितना आप उनसे करते हैं तो यह गलत होगा। आप अपने पार्टनर को वक्त दें। शादी के बाद रिश्ते तो बन जाते हैं लेकिन उनमें जुड़ाव आने में समय लगता है। 

 

अगर आप ये उम्मीद करते हैं कि वो आपका पार्टनर है और उसे आपकी हर पसंद नापसंद का शुरुआत में ही पता लग जाए तो आप गलत सोचते हैं। हर एक की पसंद को जानने में, समझने में वक्त लग सकता है। इसलिए अपने पार्टनर को वक्त दें ताकि वो आपको समझ सके। इसी के साथ आप भी वक्त लें और अपने पार्टनर को समझें। 

सेक्स हर एक रिश्ते में और भी मिठास लाता है। लेकिन अगर आप सोच रहे हैं शादी की अगली ही रात को वो आपके करीब आ जाए तो यह थोड़ा मुश्किल हो सकता है। इसलिए आप इंटिमेट होने से पहले अपने पार्टनर को जानें, समझें, उसे कंफर्टेबल फील कराएं। इसके बाद ही आप उनके करीब जाएं ताकि आप दोनों ही इस रिश्ते में सहज हो सकें। 

 हर एक का अपना अपना नेचर होता है। कोई किसी से आसानी से मिल लेता है तो किसी को मिलने में थोड़ा संकोच होता है। भले ही आपके दोस्त लोग अापके पार्टनर से मिलने की ज़िद कर रहे हों लेकिन आप उन्हें तभी मिलाएं जब आपका पार्टनर कंफर्टेबल महसूस कर पाए। उन्हें ज़बरदस्ती अपने दोस्तों से मिलाने का फैंसला उनपर ना थोपें। 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon