Link copied!
Sign in / Sign up
16
Shares

अपने रिश्ते को असीम बनाएं- जानिये कैसे


एक दूसरे को समझें

रिश्ते में एक दूसरे को समझना बहुत बड़ी बात होती हैं यदि आप और आपके साथी एक दूसरे को समझते हैं तो उस रिश्ते को निभाने के लिए और कुछ नहीं चाहिए| जितना हो सके एक दूसरे को समझने की कोशिश करें, एक दूसरे की चिंता, एक दूसरे की ख़ुशी और एक दूसरे की चिंता को समझने की कोशिश करें| उनकी परेशानी को जानने के लिए उनपर बोझ ना बनें बल्कि उनकी हरकतों से उनकी दिक्कतों को समझने की कोशिश करें|

एक दूसरे के कामों की तारीफ़ करें

एक दूसरे के कामों की तारीफ़ करना सीखें| आपके प्रति चाहे उनका जेस्चर कितना भी छोटा क्यों ना हो उसकी तारीफ़ करें और उसे जाया होने ना दें| जब आप अपने साथी के कामों को सराहती हैं तो उन्हें ऐसा लगता है की वो आपको खुश करने में सफ़ल रहे हों और ये उन्हें काफ़ी ख़ुशी देता है|

पुरानी बातों को भूल जाएँ

आप दोनों एक दूसरे से आज के माध्यम पर प्यार करते हैं नाकि एक दूसरे के अतीत के लिए| ज़गर आपने अपने साथी से अपने अतीत के बारे में कुछ बातें शेयर की है तो इसका मतलब है की आपने उनपर भरोसा किया है की वो आपको आपके अतीत के माध्यम पर जज नहीं करेंगे और आप जो अभी हैं उसी तरह आपको स्वीकार करेंगे| आगे बढ़ें और अपने वर्त्तमान में खुश रहना सीखें, चाहे आप अपने साथी से कितना भी गुस्सा क्यों ना रहें कभी भी उन्हें उनकी अतीत की बातें ना याद दिलाएं, आप अवश्य वो बातें गुस्सा में बोलेंगे और भूल जाएंगे मगर आपका साथी फिरसे अपने अतीत में चला जाएगा जिसके कारण उसे तनाव से गुज़रना पड़ेगा|

एक दूसरे के साथ वफ़ादार रहें

ये बात बिना बोले आप जानते होंगे की एक रिश्ते को निभाने के लिए उसमें वफ़ादारी सबसे महत्वपूर्ण चीज़ होती है| भावुक और शारीरिक वफ़ादारी एक रिश्ते को ठोस बनाती है, एक दूसरे की भावनाओं के साथ ना खेलें और चाहे वो जैसी भी बात हो उसे अपने साथी से बाटें क्योंकि आपका एक झूट उनके सामने आपको हमेशा के लिए झूठा बना सकता है|

एक दूसरे को बदलने की कोशिश ना करें

एक ठोस रिश्ते में दोनों साथी एक दूसरे को पूरी तरह स्वीकार करते हैं चाहे वो जैसे भी हों, वो एक दूसरे को बदलने की कोशिश नहीं करते| अपने साथी को इस बात के लिए प्यार करें की वो सबसे अलग हैं और नाकि आप उन्हें किसी और की तरह बनाना चाहते हैं| ये बात कभी ना भूलें की आप अपने साथी के लिए इस बात के लिए हैं की वो औरों से बिलकुल अलग हैं|

एक दूसरे की भावनाओं की क़दर करें

सम्मान हर रिश्ते की नीव होती है| एक बार रिश्ते से सम्मान खो जाता है तो उस रिश्ते में कुछ ज़्यादा नहीं बचता, एक दूसरे की भावनाओं की क़दर करना सीखें, जिन बातों से आपके साथी को तकलीफ़ हो सकती है उन बातों को कहने से पहले सोचें क्योंकि मुँह से निकला हुआ शब्द वापस नहीं लिया जा सकता|

अपने वादों को पूरा करें

अपने वादों को पूरा करना सीखें उन्हें तोड़ें नहीं| जब वादा कर के उसे तोड़ा जाता है तो वो वादा भले कितना ही छोटा क्यों ना हो आप दोनों के बीच दरार ले आता है और उस दरार को जोड़ने के लिए काफ़ी प्रयत्न करना पड़ता है| अपने वादों को लेकर सावधान रहे, वादा ऐसा करें जिसे आप निभा पाएं|

इन बातों को अपने रिश्ते में ढालें और फ़र्क देखें, इस ब्लॉग को दूसरों के साथ शेयर कर के उनका रिश्ता मज़बूत करने में मदद करें!

 

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon