Link copied!
Sign in / Sign up
3
Shares

अनार के 20 अद्भुत स्वास्थ्य लाभ—जानिए अनार के जूस की उपयोगिता (20 Amazing Health Benefits Of Pomegranate You Need To Know In Hindi)

इसे शाही फल कह लीजिए या अनमोल फल या फिर अद्भुत फल, अनार एक स्वादिष्ट और पौष्टिक फल है, जो मनुष्य के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। चाहे इसे जूस के रूप में लें या कच्चा खाएं, इसे सादा खाएं या सलाद में मिलाएं या फिर ड्रेसिंग के रूप में इसका इस्तेमाल करें। चाहे आप किसी भी तरह इसका सेवन करे, यह हर तरह से आपके लिए पौष्टिक होता है। इस लेख में हम अनार के 20 अद्भुत फ़ायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो कि हृदय से लेकर त्वचा और बालों की देखभाल के लिए उपयुक्त है।

लेख की विषयसूची

अनार क्या है? (What is pomegranate in Hindi?)

अनार के पौष्टिक गुण (Nutritional value of pomegranate in Hindi)

अनार के 20 अद्भुत स्वास्थ्य लाभ (20 Health benefits of pomegranate in Hindi)

अनार के दुष्प्रभाव (side effects of pomegranate in Hindi)

निष्कर्ष (Conclusion)

अनार क्या है? (What is pomegranate in Hindi?)

अनार एक पौष्टिक फल है, जो छोटे आकार के पेड़ पर लगता है। यह ल्यथरसेआए वर्ग का है। अनार का वानस्पतिक नाम प्यूनिका ग्रनातुम है। अनार की उत्पत्ति कहां हुई थी, यह अभी तक पता नहीं लग सका है। कहा जाता है कि अनार सर्वप्रथम परसिया या ईरान में उगाया गया था और बाद में इसे चीन लाया गया।

[Back To Top]

अनार के पौष्टिक गुण (Nutritional value of pomegranate in Hindi)

अनार का फल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और इसमें विभिन्न प्रकार के विटामिन और मिनरल्स होते हैं। यह विटामिन-सी और आवश्यक तत्व विटामिन-बी कोम्प्लेक्स समूह के विटामिन का महत्वपूर्ण स्त्रोत है। इसमें विटामिन-के और फोलेट होता है। साथ ही, अनार में कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम भी होता है। अनार कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है और इसमें वसा की मात्रा कम होती है। ½ कप अनार में निम्न मात्रा में पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं:

 

अनार में पाई जाने वाली कैलोरी की मात्रा - कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और वसा मिलकर किसी भी खाद्य पदार्थ की कैलोरी में योगदान देते हैं। ½ कप अनार में 72 कैलोरी होती है।

अनार के 20 अद्भुत स्वास्थ्य लाभ (20 Health benefits of pomegranate in Hindi)

अनार का सेवन जूस के तौर पर किया जाए या इसे छीलकर खाया जाए, दोनों ही तरह से अनार शरीर के लिए पौष्टिक होता है। अनार के अंदर दाने होते हैं, जिन्हे अनार का बीज कहा जाता है और यह रसभरे, लाल रंग वाले सफेद बीज से ढकें होते हैं। आइए जानते हैं अनार के कुछ ऐसे ही पौष्टिक लाभों के बारे में:

1. हृदय के लिए फ़ायदेमंद - अनार के बीज खून को पतला बनाते हैं। यह ब्लड प्लेटलेट्स के थक्के बनने से रोकता है। जिससे हृदय प्रभावी रूप से कार्य करता है।

2. अर्थराइटिस से बचाव - अनार में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जिससे अर्थराइटिस से बचाव होता है। यह कार्टिलेज डैमेज करने वाले एंजाइम को भी समाप्त करता है।

3. टाइप-2 डायबिटीज़ से बचाव - अध्ययन में पाया गया है कि अनार में (punicalagin), (ellegic), (gallic), (olenolic), (ursolic), (uallic acid) जैसे एसिड होते हैं, जिनका एंटी-डायबिटीक प्रभाव होता है। साथ ही, अनार में मौजूद भिन्न प्रकार का शुगर कम्पाउन्ड होता है। इससे टाइप-2 डायबिटीज़ से बचाव होता है।

4. ब्लड प्रेशर को कम करना - अनार में पाए जाने वाले पुनिसिक एसिड ट्राईग्लीसराइड और कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। और इसलिए ब्लड प्रेशर कम करने के लिए अनार खाना फ़ायदेमंद होता है।

5. विभिन्न प्रकार की बीमारियों से लड़ना - अनार में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं। इसलिए पर्याप्त मात्रा में अनार का सेवन करने से विभिन्न तरह की बीमारियों से बचाव होता है।

6. पेट भरा हुआ महसूस होना - अनार डायट्री फाइबर से भरपूर होता है और इससे पेट भरा हुआ महसूस होता है।

[Back To Top]

7. पाचन-क्रिया को धीमा करना - अनान आंतों में पाचन-क्रिया और अवशोषण को धीमा करते हैं। इसलिए पेट ज्यादा समय तक भरा हुआ लगता है और इससे ज्यादा भूख नहीं लगती है, जिससे वज़न नियंत्रित रहता है।

8. रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना - चूंकि अनार एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है और इसलिए यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। अध्ययन में पाया गया है कि अनार प्रभावी रूप से शरीर को बैक्टीरिया और वायरस से बचाता है।

9. दाँतों और मुंह को स्वस्थ रखना - अनार में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण होते हैं और इन्ही गुणों के कारण यह दाँतों और मुंह में संक्रमण होने से बचाव करता है।

10. एंटी-एजिंग गुण - अनार को एंटी-एजिंग गुणों के कारण जाना जाता है और यह त्वचा को झुर्रियों और लटकने से बचाता है। इसमें मौजूद एंटी-एजिंग गुण रोमछिद्रों को पुनर्जीवित करते हैं और त्वचा को जवां बनातें है।

11. कील-मुंहासों को ठीक करना - अनार में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। जब अनार के दानों को हल्दी में मिलाकर कील-मुंहासों पर लगाया जाता है, तो इससे कील-मुंहासे जल्दी ठीक होते हैं।

12. त्वचा को हानिकारक किरणों से बचाना - न केवल अनार के बीज या सिर्फ इसका जूस फ़ायदेमंद होता है बल्कि अनार का छिलका भी बहुत उपयोगी होता है। अनार का छिलका अद्भुत फेस स्क्रबर और एक्सफोलिएंट के रूप में काम करता है। यह त्वचा को सूरज की हानिकारक अल्ट्रावॉयलेट किरणों से बचाता है।

13. रक्त प्रवाह बढ़ाना - अनार में पुनिसिक एसिड होता है, जो बालों की जड़ों में रक्त प्रवाह बढ़ाता है। इससे बाल मजबूत होते हैं और तेजी से बढ़ते हैं।

14. प्रोस्टेट कैंसर से बचाव - शोध में पाया गया है कि अनार का जूस प्रोस्टेट कैंसर को बढ़ने से रोकता है। प्रोस्टेट कैंसर कारक कोशिकाओं पर आनार के जूस के प्रभावों पर किए गए अध्ययन में पाया गया है कि अनार का जूस एंटी-ट्यूमरीजैनिक प्रभाव डालता है। यह प्रोस्टेट कैंसर को बढ़ने से रोकते हैं।

15. अल्जाइमर रोग से बचाव -‌ अनार में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट यादाश्त बढ़ाते हैं और मस्तिष्क की गतिविधियां बेहतर करते हैं। इससे अल्जाइमर रोग से बचाव होता है।

16. ओक्सीडेटिव तनाव से बचाव - ओक्सीडेटिव तनाव वह स्थिति है, जब हमारे शरीर में फ्री रैडिकल्स से लडने के लिए एंटीओक्सिडेंट का पर्याप्त स्तर नहीं होता है। इसी कारण, यह शरीर को ओक्सीडेटिव तनाव से बचाता है।

17. यादाश्त बढ़ाना - अध्ययन में पाया गया है कि रोजाना अनार का सेवन करने से यादाश्त बढ़ाने में मदद मिलती है।

18. किडनी के स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद - अनार का जूस पेशाब की एसिडिटी कम करता है और किडनी से पथरी भी हटाता है। यह शरीर के डिटोक्सिफिकेशन के लिए फ़ायदेमंद होता है।

19. फेटी लीवर से बचाव - अध्ययन में पाया गया है कि अनार का जूस नोन-अल्काहोलिक फैटी लीवर डिजिज से ओक्सीडेटिव तनाव और इन्फ्लेमेशन को कम करके बचाता है।

20. प्रजनन क्षमता बढ़ाना - अनार का जूस पुरुष और महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ाता है। पुरूषों में यह स्पर्म की गुणवत्ता को बढ़ाता है और महिलाओं में यूट्रस में रक्त प्रवाह बढ़ाता है।

[Back To Top]

अनार के दुष्प्रभाव (side effects of pomegranate in Hindi)

आप सोच रहे होंगे कि इस पौष्टिक और लाभकारी फल के कोई दुष्प्रभाव कैसे हो सकतें हैं। हालांकि उचित मात्रा में अनार का सेवन करने से कोई नुक्सान नहीं होता है ‌ लेकिन कुछ मामलों में बिना डॉक्टर से परामर्श लिए इसका सेवन नहीं किया जाना चाहिए।

- अगर कोई कम रक्तचाप की दवाईयों का सेवन कर रहा है, तो उन्हें अनार का जूस पीने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। ताकि हाइपोटेंशन से बचा जा सके।

- अनार का जूस कोलेस्ट्रॉल की दवाइयों के साथ नहीं लेना चाहिए।

- अस्थमा और एलर्जी से प्रभावित लोगों को अनार का सेवन नहीं करना चाहिए।

- अधिक मात्रा में अनार का सेवन करने से गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में समस्या उत्पन्न हो सकती है। इससे डायरिया, एब्डोमिनल पेन और उल्टी हो सकती है।

निष्कर्ष (Conclusion)

अनार पौष्टिक गुणों से भरपूर एक औषधीय फल हैं। यह हर रूप में पौष्टिक हैं। इसके बीज, रस और छिलका सभी फ़ायदेमंद होते हैं। हांलांकि अस्थमा और एलर्जी या किसी भी गंभीर चिकित्सकीय स्थिति में अनार का सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon