Link copied!
Sign in / Sign up
11
Shares

आपका कद भी आपकी गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है - जानिये कैसे


  जब आप गर्भवती होती है और इस‌ दौरान जो आप करती हैं और खाती है वह आपकी गर्भावस्था को प्रभावित करता है तो यह मान लिया जाता है की आपकी व्यक्तिगत विशेषताएं जैसे कद और वज़न आपको भी प्रभावित करेगा। है ना? लेकिन कद आपको उस प्रकार प्रभावित नहीं करता है जिस प्रकार की वज़न। तो कैसे आपका कद आपके शिशु के जन्म को प्रभावित करता है?

3000 महिलाओं पर किए गए अध्ययन में विश्लेषण किया गया है की छोटे कद की महिलाओं के प्रीमैचयोर बर्थ होने की संभावना अधिक होती है। लेकिन सिर्फ लम्बाई समय से पूर्व प्रसव को प्रभावित नहीं करती है बल्कि पोषण और जीवन शैली भी इसमें अहम भूमिका निभाती है।

सबसे पहले यह जान लेना आवश्यक होगा की छोटे कद का मतलब क्या है। सामान्य तौर पर पांच फुट से कम लम्बाई की महिलाओं को छोटे कद की महिला कहा जाता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की इस श्रेणी में आने वाली महिलाओं की सामान्य डिलीवरी नहीं हो सकती है। लेकिन इसका मतलब यह है की वो कुछ समस्याओं का सामना कर सकती हैं जिनमें से कुछ इस प्रकार है:

 

प्रिमैचयोर बर्थ

 

 

जो शिशु 37 हफ्तों से पहले जन्म लेता है उसे सामान्य तौर पर प्रीमैचयोर बर्थ कहा जाता है और यह शिशु में रेस्पिरेटरी और पाचन संबंधी विकार से जुड़ा हुआ होता हैं। अध्ययन में पाया गया है की मां का कद इस बात को दर्शाता है की वह कितने लम्बे समय तक शिशु को अपने गर्भ में रख सकती है।

शिशु का कम वज़न

 

छोटे कद की महिलाओं का गर्भ और गर्भाशय छोटा होता है जिसके कारण शिशु को वृद्धि और विकास के लिए पर्याप्त जगह नहीं मिलती है और इसका मतलब है की जन्म के समय शिशु का वजन कम होगा और यह शिशु के कद को भी प्रभावित करता है।

सेफालोपेल्विक डिस्प्रोपोरशन 

 

छोटे कद की महिलाओं का पेल्विस छोटा होता है और शिशु का सर बर्थ कैनाल से बाहर आने के लिए बड़ा हो सकता है। इस स्थिति को सेफालोपेल्विक डिस्प्रोपोरशन कहा जाता है क्योंकि बच्चा मां के पेल्विस के अनुरूप नहीं होता है।

टिशू डेमेज

 

अगर शिशु बर्थ कैनाल के लिए बड़ा हुआ और प्रसव लम्बे समय तक चला तो वैजिना और रेक्टम के हिस्से के टिशू डेमेज होने की संभावना होती है जिसके परिणामस्वरूप रक्तस्राव होता है।

अगर आप छोटे कद की महिला हैं तो गर्भावास्था में अपने कद को लेकर परेशान ना हों। कद सिर्फ उन कुछ कारकों में से एक है जो इसे प्रभावित करते हैं। सही आहार, एक्सरसाइज और देखभाल के साथ आप स्वस्थ व खुशहाल गर्भावस्था पा सकते हैं।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon