Link copied!
Sign in / Sign up
176
Shares

8 महीने के बच्चे के लिए आहार चार्ट

बच्चे का आठवाँ महीना माता-पिता के लिए काफी चौंका देने वाला होता है । इस समय बच्चा खुद को ऊपर खींचने की कोशिश करता है, चम्मच को पकड़ने की कोशिश करता है और एक ही प्रकार के पुराने आहार से रुचि खो देता है । अब माताओं के लिए एक अच्छा समय है जब वे अपने बच्चों को एक नए तरह का भोजन पेश कर सकते हैं । 8 माह के बच्चे के लिए आहार चार्ट की योजना बनाते समय माता-पिता को कुछ विचारो को ध्यान में रखने की आवश्यकता होती है , जो नीचे दिए गए आहार चार्ट से उन्हें काफी मदद मिल सकती है ।

सोमवार

बच्चा जितना माँ का दूध पिएगा ,उतना ही उसके लिये अच्छा है तो आप अभी इसे न रोके । इसलिए नाश्ते में माँ के दूध का उचित हिस्सा होना चाहिए । मध्याह्न सुबह गाजर को अच्छी तरह से पका कर मसल कर या बच्चे को जो पसंद हैं दे सकते हैं । दोपहर का भोजन मूंग दाल की खिचड़ी दे । शाम को माँ का दूध दे और रात के खाने के लिए मसले हुए गाजर या मसले हुए आलू दे । फिर सोते समय स्तनपान करवाए।

मंगलवार

मंगलवार को सुबह और नाश्ते के दौरान माँ के दूध के साथ शुरू करें । मध्याह्न सुबह के दौरान अपने बच्चे को अच्छी तरह से मसला हुआ सेब दें। उसे दोपहर के भोजन के लिए सब्जियों का और दाल का सूप दे सकते हैं । शाम के समय में खाने के लिए पनीर के साथ अच्छी तरह से मसली हुई सब्जियों का एक स्वादिष्ट भोजन दे । फिर सोते समय स्तनपान करवाएँ ।

बुधवार

माँ के दूध को सुबह और नाश्ते के लिए फिर से देना चाहिए ।अब आहार चार्ट में अंडे के लिए यह अच्छा समय है, इसलिए आपके बच्चे को बुधवार मध्याह्न सुबह के भोजन के लिए उबलेऔर मसले हुए अंडे का स्वाद दे सकते हैं । दोपहर के भोजन को चावल और दाल दलिया के साथ सरल रखें, इसके बाद शाम के समय माँ का दूध दे । रात का भोजन गेहूं का दलिया हो सकता है और सोते समय स्तनपान करवाए ।

गुरूवार

दिन की शुरूआत माँ के दूध के साथ करें और नाश्ते में भी स्तनपान करवाएँ । उसके बाद मध्याह्न सुबह के भोजन के लिए मसला पनीर दे । दोपहर के भोजन के लिए चना दाल और कोई भी सबजी जो आपका बच्चा पसंद करता है,अच्छी तरह से पकाकर दे सकते हैं । रात का खाना सरल रखें इसलिए सेब का दलिया दे सकते हैं । सुनिश्चित करें कि आप सुबह में एक बार, शाम के दौरान एक बार और एक बार सोते समय स्तनपान जरूर करवाएँ ।

शुक्रवार

हर दिन की तरह आज भी दिन की शुरुआत सुबह और नाश्ते के दौरान माँ के दूध के साथ करें। मध्याह्न भोजन के लिए डबल रोटी के साथ मक्खन का स्वाद अपने बच्चे को चखा सकते हैं । दोपहर के भोजन के लिए सब्जियों के साथ मूगँ दाल खिचड़ी बनाकर दे जो आपके बच्चे को पसंद आएगा । रात के खाने के लिए ओटस और केले का दलिया बनाए । शाम के समय और सोते समय स्तनपान सत्र होना चाहिए।

शनिवार

सप्ताहांत है तो माँ-बाप को आज का मेनू थोड़ा सा आकर्षक बनाना चाहिए जैसे कि मध्याह्न भोजन में सेब या गाजर का सूप दे सकते हैं । परंतु बच्चे को सुबह स्तनपान करवाना ना भूले। दिन के भोजन के लिए टमाटर रसम के साथ मसालेदार चावल दे सकते हैं । शिशु को शाम के पहर स्तनपान सत्र होना चाहिए। रात को खाने के लिए डोसा या इडली दे और आप इसी के साथ दिन का समापन करें और उसके बाद सोते समय स्तनपान करवाए।

रविवार

हम रविवार की शुरुआत भी शिशु को मां के दूध के साथ शुरू करेंगे, उसके बाद नाश्ते के लिए घर का बना हुआ कुछ चम्मच दही चीनी मिलाकर दे । अपने बच्चे को दोपहर के भोजन के लिए दलिया खिचड़ी देने की कोशिश करें । शाम को मां का दूध और रात के भोजन के लिए सूजी या सेब का खीर दे सकते हैं । उसके बाद सप्ताह के आहार चार्ट को सोते समय स्तनपान के साथ समाप्त करें । माताएँ ,कृपया ध्यान रखें कि सभी बच्चे दूसरे बच्चों से अलग होते है और उनकी सेवन की क्षमता भी दूसरे बच्चों से अलग होती है तो अगर आपके बच्चे का पांच से छह चम्मच भोजन का खाने के बाद पेट भर जाता है, तो इसमें अप्राकृतिक कुछ भी नहीं है। विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों का यह नया परिचय बच्चे के लिए अच्छा है क्योंकि इससे बच्चे के स्वाद का पता लगाने में मदद मिलती है। बच्चे आकार, बनावट और विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों से अपने पसंदीदा भोजन के लिए एक स्वाद विकसित करता है।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
100%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon