Link copied!
Sign in / Sign up
72
Shares

5 साल की मासूम को अचानक हुआ पैरालाइज, जब मां ने उसका सिर देखा तो रह गई हैरान


फ्लोरिडा में 5 साल की मासूम के साथ अचनक ऐसा हुआ कि कोई भी सुनकर हैरान रह जाएगा। अपनी बेटी के साथ हुए अचानक हादसे के बाद उसकी मां ने सभी जागरूक करने के लिए पूरा मामला फेसबुक पर शेयर किया ताकि कोई और इस तरह से इसका शिकार न हो सके।

लड़की की मां जेसिका ग्रिफिन ने बताया कि वो बुधवार का दिन था केलिन के पैर जैसे - जैसे उस सुबह जमीन पर पड़ रहे थे। वो ढेर से बनती जा रही थी। मेरी 5 साल की मासूम बच्‍ची पूरे वक्‍त खड़े होने की कोशिश करती रही, साथ्‍ज्ञ ही वह बोलने की कोशिश कर रही थी।

पूरे परिवार के साथ टी-बॉल गेम में जाते के बाद वह शाम से रात तक बिल्‍कुल ठीक थी। शायद उसके लिए आज की सुबह काफी मुश्किल रही होगी या शायद उसके पैर सो गए थे। जिसके बाद अचानक ग्रिफिन की नजर चिचड़ी पर पड़ी।

दरअसल, वह अपनी बेटी कैलिन के सारी बाल इकट्रृठा कर पोनीटेल बना रही थी। तभी उसकी नजर उसके बालों क जड़ पर पड़ी जहां उसके सिर पर खून जमा हुआ था और काफी सूजन थी। जेसिका ने उस चिचड़ी को खींच कर बाहर निकाला और उसे प्‍लास्टिक के बैग में रखकर कैलिन को लेकर तुरंत अस्‍तपाल पहुंची। डॉक्‍टरों ने बताया कि यह बिल्‍कुल असामान्य केस है कि कैलिन चिचड़ी की वजह से पैरालाइज हो गई है।

खून को जांच और सिर के यूएमएमसी सीटी करने के बाद इस बात का खुलासा हुआ कि यह टिक पैरालाइज है। कृपया सभी अपने बच्चों के सिर को हमेशा जांचें कि कहीं उसमें टिक्स न हो। यह बच्‍चों की तुलना में बड़ों में काफी आम है। "ग्रेनेडा, मिसिसिपी की ग्रिफिन ने बुधवार को एक फेसबुक पोस्ट में लिखा था कि चिंता और राहत का मिश्रण लग रहा था।"

ग्रिफिन इस मामले पर कुछ टिप्पणी नहीं कर सकती थी। यह उसकी समझ से बाहर था कि आखिर यह चिचड़ी उसकी बेटी के सिर में कहां से आई और उसके शरीर पर कितनी देर तक थी। वाशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट में कहा गया है कि अप्रैल से सितंबर तक चिचडि़यां सबसे ज्‍यादा सक्रिय हैं।

अंडे निकालने की कगार पर मादा टिक्स के कारण टिक (चिचड़ी) पैरालाइज होता है। अमेरिकन लाइम बीमारी फाउंडेशन के अनुसार, टिक के खून पीने के बाद यह और घातक हो जाता है। टिक के फिड करने के पांच से सात दिन बाद इसके लक्षण पैदा होते हैं।

पैरालाइज सबसे पहले पैरों से शुरू होता है, फिर ऊपरी हिस्सों में फैलता है। फाउंडेशन के अनुसार, यह थकान, सुन्‍न और हिलने में अक्षमता के साथ शुरू होता है।

बाद में यह और मुश्किल होकर पीडि़त को उसका चेहरा और जीभ तक हिलाने नहीं देती। यदि यह नहीं होता, तो विषाक्तता के कारण व्‍यक्ति को सांस लेने में दिक्‍कत होने लगती है, जिसके परिणामस्वरूप रेस्पिरेटरी सिस्‍टम खराब हो जाता है।

यह पैरालाइज जानवरों में काफी आम है, जो खुद में इस चिचड़ी को जांचने में असमर्थ हैं। लेकिन उनके छोटे शरीर द्रव्यमान के कारण मानव बच्चे भी इसका शिकार होते हैं। फाउंडेशन के अनुसार, टिक (चिचड़ी) पैरालाइज लड़कियों में ज्‍यादा इसलिए होता है क्‍योंकि टिक उनके बालों म छुपने में आसानी से कामयाब हो जाती है।

सीडीसी ने 2006 में बेहद दुर्लभ बीमारी के कई मामलों की सूचना दी। पीड़ितों में से एक 6 वर्षीय लड़की थी, जिसको अपनी दादी से लैरीमर काउंटी के पहाड़ों

में जाने के एक सप्ताह बाद से चलने में परेशानी हो रही थी। अस्पताल में भर्ती होने के बाद उसे नर्सिंग करने वाली एक नर्स ने अपने हेयरलाइन में चिचड़ी को पाया।

और पिछले साल, अमांडा लुईस ने पाया कि सुबह उठने के बाद उसकी 3 वर्षीय बेटी एवलिन खड़ी नहीं हो पा रही थी।

ला ग्रांडे, ओरेगॉन की महिला ने फेसबुक पर इस उम्मीद से एक वीडियो पोस्ट किया कि परिवार के सदस्य या दोस्त यह समझने में उसकी मदद कर सकते

हैं कि उसकी बेटी की अचानक अजीब बीमारी का कारण क्या था। वे ऐसा नहीं कर सके, लेकिन इस वीडियो को 22 मिलियन बार देखा जा चुका था और

600,000 से अधिक बार शेयर किया गया था।

उस दिन अस्पताल में, चिकित्सक जॉन पेज ने देखा कि एक 3 वर्षीय को एटैक्सिया के साथ भर्ती कराया गया था और ऐसा संदेह था कि यह टिक पैरालाइज हो सकता है।

उसने लड़की के सिर को साफ किया। इस दौरान उन्‍होंने उसके सिर में चिचड़ी पाई, जो उसके सिर की स्किन में चिपकी हुई थी। जब उस चिचड़ी को निकाल दिया गया, तो एवलिन अगले ही दिन से चलने लगी थी।

पिछले हफ्ते मिसिसिपी में, कैलीन ग्रिफिन में भी इसी तरह का सुधार देखा गया।

उनकी मां द्वारा शेयर की गई उसकी आखिरी फोटो में वह अस्पताल के हॉलवे में दो गुब्बारों को पकड़ने की कोशिश कर रही थी।

"देखो अस्पताल से कौन चल रहा है! सबकुछ सामान्य हो गया है!" ग्रिफिन ने हाथ-फाई वाले इमोजी के साथ लिखा। "भगवान अच्छे हैं!!"

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon