Link copied!
Sign in / Sign up
32
Shares

जाने क्यों शिशु जन्म के बाद देरी से नहलाने पर अधिक स्तनपान करते हैं?

 

याद है वह समय जब शिशुओं को जन्म के बाद जल्द से जल्द नहलाया जाता था? यह एक तरह से ठीक भी था क्योंकि शिशु के पूरे शरीर पर खून और एमिनोटिक फ्लूड लगा होता है और जब अस्पताल की नर्स शिशु को साफ करके और एक मुलायम कपड़े में लपेटकर आपकी बांहों में रखतीं हैं, तो यह एहसास बहुत सुकून देता है। हालांकि समय के साथ-साथ अब कई माएं इस बात पर ज़ोर देती है कि उनके शिशु को जन्म के पहले शुरूआती 12 घंटे पूरे होने से पहले ना नहलाया जाए। इस बात को आनलाइन सर्च करने के बाद उन मांओं का मानना है कि इससे शिशु अधिक स्तनपान करते हैं। अब विज्ञान भी यह मानता है कि यह बात सच हो सकती है।

[Back To Top]

आइए जानते हैं कि विज्ञान के अनुसार शिशु को नहलाने में देर करना स्तनपान करने से कैसे जुड़ा

ओहियो के क्लीवलैंड क्लिनिक हॉलक्रिस्ट अस्पताल में यह पता लगाने के लिए एक अध्ययन किया गया कि क्या शिशु को जन्म के बाद नहलाने में देर करने से स्तनपान करने की मात्रा पर कोई प्रभाव पड़ता है या नहीं। 1000 मांओं और शिशुओं को इस अध्ययन का हिस्सा बनाया गया, जिनमें 448 शिशुओं को जन्म के फौरन बाद नहलाया गया और बाकी 548 शिशुओं को थोड़ा देर बाद नहलाया गया। इसका परिणाम यह निकला कि पोस्ट-इंटरवेंशन परिणाम 68.2% थे, जो कि पहले के आकंड़े 59.8% से अधिक थे। इस अध्ययन में यह भी पाया गया कि जिन शिशुओं को देर से नहलाया गया, उनके फीडिंग प्लान में स्तनों के दूध की मात्रा अधिक थी। इस अध्ययन के परिणाम जरनल ऑफ ऑब्स्ट्रेटिक, गायनेकोलॉजी और नियोनैटल नर्सिंग में प्रकाशित हुए।

तो वास्तव में शिशु को देर से नहलाने से इसका प्रभाव स्तनपान पर कैसे पड़ता है? हीथर डीसियोचिओ (Heather DiCioccio) इसका जवाब देते हुए कहते हैं कि नवजात शिशु की देखभाल में कई कारण महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हीथर अस्पताल के बेबी केयर यूनिट में नर्सिंग प्रोफेशनल की डवलपमेंट स्पेशियलिस्ट है, इन्होंने अधिकतर मांओं के अपने शिशुओं को देर से नहलाने के आग्रह के बारे में सुनकर यह अध्ययन करने का फैसला किया। हीथर ने बताया कि शिशु के जन्म के बाद जब वह फौरन त्वचा के संपर्क में आते हैं तो वह एमिनोटेक फ्लूड की महक और शरीर के तापमान से परिचित होते हैं, जो कि गर्म होता है। उन्होंने कहा कि एमिनोटिक फ्लूड की महक स्तनों के दूध से मिलती-जुलती होती है और इसलिए शिशु फौरन दूध पीने लगते हैं। साथ ही शिशु को देरी से नहलाने पर उनके शरीर का तापमान भी सामान्य हो जाता है। हालांकि जिन शिशुओं को फौरन नहलाया जाता है, उनके शरीर का तापमान ठंडा हो जाता है और वह स्तनों की महक से अधिक परिचित नहीं होते हैं। साथ ही नहाने के बाद शिशु थक जाते हैं और वह स्तनपान करने के बजाए सो जाते हैं।

[Back To Top]

स्तनपान कराना जरूरी है क्योंकि जन्म के बाद इसी के द्वारा आप अपने शिशु को आवश्यक पौष्टिक तत्व और इम्युनिटी पहुंचा सकते हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन शिशु को छह महीने तक स्तनपान कराने का सुझाव देता है। इसके बाद शिशु को बर्तनों के दूध के साथ-साथ हल्का-फुल्का भोजन भी दिया जा सकता है। इसलिए अधिकतर अस्पताल और बेबी केयर शिशु को जन्म के एक घंटे के भीतर ही स्तनपान कराने की कोशिश करते हैं। इसलिए यह और आवश्यक हो जाता है कि शिशु जन्म के फौरन बाद मां का दूध पीए। इस अध्ययन के बाद हीथर जिस अस्पताल में काम करती है, वहां अब नवजात शिशुओं को 12 घंटे के बाद नहलाया जाता है। कुछ मामलों में जहां मां ज्यादा इंतजार नहीं कर सकतीं हैं, वहां अस्पताल मां को 2 घंटे तक इंतजार करने के लिए कहता है। क्या आप भी शिशु को स्तनपान कराना चाहती है? तो नवजात शिशु को 12 घंटे बाद नहलाने के विकल्प पर गौर करें और इसके फायदे और नुक्सान जानने के बाद अगर आप तैयार हैं तो इस तरीके को अपनाएं।

Click here for the best in baby advice
What do you think?
0%
Wow!
0%
Like
0%
Not bad
0%
What?
scroll up icon